h n

विकास खांडेकर : सतनाम पंथ और पत्नी ने दी संघर्ष की ताकत

विकास खांडेकर पर आरोप था कि उन्होंने फेसबुक पर दुर्गा से संबंधित एक पोस्ट शेयर किया। इस आरोप में उन्हें करीब साढ़े तीन महीने की जेल यात्रा करनी पड़ी और लगभग दो वर्षों तक जिला बदर रहना पड़ा। इस बीच उन्होंने अपनी मां और दादी को खो दिया। प्रेमा नेगी की रिपोर्ट :

वह 4 अक्टूबर, 2016 का दिन था जब छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले के सतनाम पंथ के प्रदेशाध्यक्ष व दलित नेता विकास खांडेकर को सोशल मीडिया फेसबुक पर हिंदू देवी दुर्गा के खिलाफ कथित अपमानजनक सामग्री पोस्ट करने के आरोप में जेल में डाल दिया गया। उन्हें अगले साल 24 जनवरी 2017 को हाईकोर्ट से जमानत तो मिली, मगर कंडीशनल। जिला बदर होने की शर्त पर उन्हें रिहा किया गया। कहा गया कि जब तक माहौल शांत न हो 6 महीने या साल भर तक या इसे भी ज्यादा, आप मुंगेली जिले में नहीं रह सकते, उसके बाद हाईकोर्ट स्थितियों को देखते हुए आपको इजाज़त देगा कि आप वहां जा सकते हैं या फिर कंडीशन खत्म की जाएगी।

उन्हें  लगभग दो वर्ष तक अपने घर-परिवार से दूर बिलासपुर में रहना पड़ा। कोर्ट के निर्देश के बाद वह इसी वर्ष बीते 27 जुलाई 2018 को वापस मुंगेली जिले में अपने पत्नी-बच्चों व परिजनों के पास वापस आए हैं। लेकिन उन्हें हर महीने के दसवें दिन थाने में हाजिरी लगानी होगी।

पूरा आर्टिकल यहां पढें विकास खांडेकर : सतनाम पंथ और पत्नी ने दी संघर्ष की ताकत

 

 

 

लेखक के बारे में

प्रेमा नेगी

प्रेमा नेगी 'जनज्वार' की संपादक हैं। उनकी विभिन्न रिर्पोट्स व साहित्यकारों व अकादमिशयनों के उनके द्वारा लिए गये साक्षात्कार चर्चित रहे हैं

संबंधित आलेख

‘बाबा साहब की किताबों पर प्रतिबंध के खिलाफ लड़ने और जीतनेवाले महान योद्धा थे ललई सिंह यादव’
बाबा साहब की किताब ‘सम्मान के लिए धर्म परिवर्तन करें’ और ‘जाति का विनाश’ को जब तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने जब्त कर लिया तब...
जननायक को भारत रत्न का सम्मान देकर स्वयं सम्मानित हुई भारत सरकार
17 फरवरी, 1988 को ठाकुर जी का जब निधन हुआ तब उनके समान प्रतिष्ठा और समाज पर पकड़ रखनेवाला तथा सामाजिक न्याय की राजनीति...
जगदेव प्रसाद की नजर में केवल सांप्रदायिक हिंसा-घृणा तक सीमित नहीं रहा जनसंघ और आरएसएस
जगदेव प्रसाद हिंदू-मुसलमान के बायनरी में नहीं फंसते हैं। वह ऊंची जात बनाम शोषित वर्ग के बायनरी में एक वर्गीय राजनीति गढ़ने की पहल...
समाजिक न्याय के सांस्कृतिक पुरोधा भिखारी ठाकुर को अब भी नहीं मिल रहा समुचित सम्मान
प्रेमचंद के इस प्रसिद्ध वक्तव्य कि “संस्कृति राजनीति के आगे चलने वाली मशाल है” को आधार बनाएं तो यह कहा जा सकता है कि...
गुरु घासीदास की सतनाम क्रांति के दो सौ साल बाद
गुरु घासीदास जातिवाद और अछूत प्रथा के जड़-मूल से उन्मूलन के पक्षधर थे। वे मूर्ति पूजा, मंदिर और भक्ति को भी ख़ारिज करते थे।...