भारत रत्न के नाम पर ‘ब्राह्मण रत्नों’ की खोज

देश में अब तक कुल 48 लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। इनमें 66 फीसदी से अधिक अकेले द्विज हैं। यदि उच्च जातीय हिंदू-मुस्लिम को मिलाकर देखें, तो भारत रत्न पाने वालों में 80 फीसदी संख्या इन्हीं की है। इसका मतलब यह नहीं कि अन्य वर्गों में इस सम्मान के हकदार नहीं हुए; हुए, पर सम्मान नहीं मिला

वर्ण-जाति आधारित श्रेणीक्रम भारतीय सामाजिक संरचना और मनोविज्ञान का सहज स्वाभाविक तत्व है। इस तथ्य को रेखांकित करने के लिए लोहिया ने लिखा था कि भारतीय आदमी का दिमाग जाति और योनी के कटघरे में कैद है। यहां सहज तरीके से आज भी किसी खास जाति विशेष में पैदा व्यक्ति को श्रेष्ठ मान लिया जाता है और दूसरी ओर अन्य जाति विशेष में पैदा व्यक्ति को कमतर मान लिया जाता है। इस तथ्य को हम भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न के संदर्भ में भी देख सकते हैं।       

          

आजादी के बाद कुल 48 लोगों को भारत रत्न मिला। जाति के आधार पर देखें, तो इसमें 23 ब्राह्मण हैं यानी 47.5 प्रतिशत सिर्फ एक जाति ब्राह्मण समुदाय के लोग हैं। 11 अन्य ऊंची जाति के (द्विज) लोग हैं। छह मुस्लिम, एक क्रिश्चियन (मदर टेरेसा), एक पारसी (जेआरडी टाटा) एक विदेशी (नेल्सन मंडेला), एक देवदासी (एमएस शुभलक्ष्मी), एक आसामी द्विज (हजारिका), एक दलित (डॉ.आंबेडकर) और एक पिछड़ा (के. कामराज) हैं। कुल आंकड़ों  का विश्लेषण किया जाए, तो 66 फीसदी से अधिक द्विज और 12 फीसदी मुसलमान हैं। मुसलमानों में अधिकांश उच्च जातीय मुसलमान हैं, सिर्फ एक पिछड़ी जाति का मुसलमान है। यदि हिंदुओं की ऊंची जाति और मुसलामनों की ऊंची जाति को जोड़ लिया जाए, तो हिंदू-मुस्लिम अपर कास्ट का योग 80 फीसदी बनता है। इसका अर्थ यह नहीं है कि शेष दलित, आदिवासी या पिछड़ी जाति के हैं। मदर टेरेसा विदेशी मूल की भारतीय ईसाई हैं और नेल्सन मंडेला विदेशी हैं; सिर्फ के. कामराज और डॉ. आंबेडकर दलित-बहुजन समाज के हैं।

वाल्तेयर ई.वी. रामासामी पेरियार : समाजसुधारक, 20वीं सदी के प्रमुख नेता

कोई यह कह सकता है कि यदि अधिकांश ब्राह्मण या अन्य द्विज ही इस योग्य पैदा हुए, तो क्या किया जाए? जब ओबीसी और दलितों में डॉ. आंबेडकर और के. कामराज को छोड़कर कोई योग्य नहीं पैदा हुआ, जिसे भारत रत्न दिया जाए; तो क्या किया जाए?

पहला प्रश्न यह है कि क्या यह सच है कि दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों में डॉ. आंबेडकर और के. कामराज के अलावा कोई ऐसा नहीं पैदा हुआ, जो भारत रत्न के योग्य रहा हो? दूसरा प्रश्न यह है कि द्विज जातियों के जिन ब्राह्मणों और अन्य जाति के लोगों को भारत रत्न दिया गया, क्या वे सभी इसकी योग्यता रखते हैं? इसके साथ तीसरा प्रश्न यह भी है कि कौन-सा पैमाना ब्राह्मणों और अन्य द्विजों की योग्यता का आधार बना और कौन-सा पैमाना दलित, पिछड़ों और आदिवासियों की अयोग्यता का आधार बना?


भारत रत्न प्राप्त किए कुछ ब्राह्मणों के सामने दलित, पिछड़ों और आदिवासियों के समाज में पैदा हुए कुछ व्यक्तित्वों को सामने रखकर ही भारत रत्न की योग्यता और अयोग्यता के पैमाने को समझा जा सकता है।

मैं कुछ लोगों को आमने-सामने रखता हूं, देश बताए कि कौन भारत रत्न के लिए ज्यादा योग्य था और कौन कम ? इस बार दो ब्राह्मणों प्रणव मुखर्जी और नाना जी देशमुख को भारत रत्न दिया गया। इनके सामने दो दलित व्यक्तित्वों को रखते हैं। सबसे पहले देशमुख और कांशीराम को आमने-सामने रखते हैं। इन दोनों को आमने-सामने रखने का कारण यह है कि दोनों सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवर्तन तीन मोर्चे पर सक्रिय थे।

मान्यवर कांशीराम : राजनीतिज्ञ, बसपा के संस्थापक, दलित-बहुजनों के लिए जीवन न्यौछावर करने वाले महान नायक

भारतीय समाज में सकारात्मक और नकारात्मक सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवर्तन में किसकी भूमिका क्या है? कौन भारती समाज को आगे ले गया और कौन पीछे? दोनों में किसने समता, स्वंतत्रता और बंधुता आधारित भारत के लिए संघर्ष किया और किसने मध्यकालीन पिछड़े वर्ण-जातिवादी मूल्यों और सांप्रदायिक घृणा को बढ़ावा दिया? कांशीराम ने ब्राह्मणवाद-मनुवाद को चुनौती दी। दलित-बहुजनों के भीतर आत्मसम्मान और स्वाभिमान भरा। उन्हें गर्व के साथ बराबरी के स्तर पर जीना सिखाया। उनके भीतर सामाजिक समानता की ऐसी भावना भरी, जो आज दलित-बहुजन आंदोलन का मूल स्वर बन गई है। उन्होंने गाय पट्टी में द्विज जातियों के सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक वर्चस्व को चुनौती दी। भारत को तुलनात्मक तौर पर बेहतर समाज बनाया। देश को ज्यादा लोकतांत्रिक और समतामूलक बनाया। पहली बार उनके प्रयासों के चलते दलित समाज की एक महिला उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी। नाना जी देशमुख ने क्या किया? उन्होंने आजीवन ब्राह्मणवाद-मनुवाद को मजबूत बनाया। जनसंघ और संघ जैसे सांप्रदायिक और उच्च जातियों के वर्चस्व को स्थापित करने वाले संगठनों को बढ़ावा दिया। यहां तक कि1984 में सिक्खों के खिलाफ व्यापक हिंसा का समर्थन भी किया। प्रश्न यह है कि कांशीराम भारत रत्न हैं या देशमुख? सारे तथ्य बताते हैं कि अगर नाना जी देशमुख और मान्यवर कांशीराम की तुलना करें, तो भारत रत्न के असल हकदार मान्यवर कांशीराम हैं, नाना जी देशमुख नहीं। नाना जी देशमुख का ब्राह्मण होना और ब्राह्मणवादी होना उनके काम आया। कांशीराम का दलित होना और ब्राह्मणवाद के खिलाफ संघर्ष उनकी अयोग्यता बन गई।

अब जरा पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की तुलना पूर्व राष्ट्रपति के. आर. नारायणन से कर लें। शैक्षिक, बौद्धिक और राजनीतिक तीन स्तरों पर यदि के.आर. नारायणन की तुलना प्रणव मुखर्जी से करें, तो पाएंगे कि किसी भी मामले में वे प्रणव से उन्नीस नहीं ठहरते; बल्कि बीस ही ठहरते हैं। भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी के रूप में, द हिंदू और द टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार के रूप में, सांसद के रूप, केंद्रीय मंत्री के रूप, जेएनयू के वाइस चांसलर के रूप और राष्ट्रपति के रूप में उनका शानदार व्यक्तित्व और सामाजिक योगदान रहा है। उन्होंने पहली दलितों के सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश बनने का रास्ता खोला। लेकिन, वे दलित और सामाजिक न्याय का पक्षधर होने के चलते ब्राह्मण और ब्राह्मणवादी प्रणव मुखर्जी से मात खा गए।

के.आर. नारायणन, पूर्व राष्ट्रपति

अब पूर्व प्रधानमंत्रियों को लेते हैं। अटल बिहारी वाजपेयी बनाम वी.पी. सिंह। अटल ने आजीवन संघ की सांप्रदायिक राजनीति की और मनुस्मृति का समर्थन करते रहे। पेंशन को खत्म किया। जबकि वी.पी. सिंह ने मंडल कमीशन लागू कर इस देश की जनसंख्या के 52 प्रतिशत से अधिक लोगों एक हद तक उनका हक दिलाया। द्विज होने के बावजूद भी पिछडों के पक्ष में काम करने के चलते मात खा गए। इन दोनों में भारत रत्न कौन?

वी.पी. सिंह : पूर्व प्रधानमंत्री, ओबीसी के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण लागू करने वाले

अब जरा खेल में देखते हैं। मेजर ध्यानचंद बनाम सचिन तेंदुलकर। हॉकी के जादूगर ध्यानचंद ने पूरे देश का नाम दुनिया में रोशन किया। हॉकी में तीन ओलंपिक पदक दिलाए। लेकिन, पिछड़ी जाति का होने के चलते ब्राह्मण सचिन तेंदुलकर से मात खा गए। दोनों के योगदान की तुलना कर लीजिए। पता चल जाएगा कि भारत रत्न कौन है?

मेजर ध्यानचंद : हॉकी (भारत) के पूर्व कप्तान, जिन्होंने विश्वभर में भारत का लोहा मनवाया

दक्षिण पूर्व एशिया के सुकरात और भारत के वाल्तेयर ई.वी. रामासामी पेरियार को भारत रत्न नहीं दिया गया; लेकिन, हिंदू कोड बिल न पास होने देने वाले और राष्ट्रपति रहते ब्राह्मणों का पांव धोने बाले राजेंद्र प्रसाद भारत रत्न हैं। वहीं, संविधान सभा में आदिवासियों को हितों के लिए संघर्ष करने वाले जयपाल सिंह मुंडा की उपेक्षा को भी याद कर लेना चाहिए।

जयपाल सिंह मुंडा : झारखंड आंदोलन के एक सर्वोच्च नेता, राजनीतिज्ञ, लेखक, ‘ऑक्सफोर्ड ब्लू’ का खिताब पाने वाले हॉकी के एकमात्र अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी

ऐसी बहुत सारी तुलनाएं की जा सकती हैं और की जानी चाहिए भी। भारत रत्न पाने वाले ब्राह्मण रत्नों और अन्य द्विज भारत रत्नों की हकीकत सामने लाए जाने की जरूरत है। सच्चाई यह है कि भारत रत्न के नाम पर ब्राह्मण रत्न खोजे जाते रहे हैं, जिसका इस वर्ष प्रमाण प्रणव मुखर्जी और नाना जी देशमुख हैं।

आजादी के बाद दिए जाने बाले अधिकांश सम्मान और पुरस्कार द्विजों (सवर्णों) का वर्चस्व स्थापित करने के साधन रहे हैं। इसमें भारत रत्न भी शामिल है। इसके माध्यम से द्विजों की श्रेष्ठता की घोषणा की जाती है और जन-जन के भीतर उनकी श्रेष्ठता स्थापित की जाती है; ताकि द्विजों का वर्चस्व कायम रखा जा सके।

(कॉपी संपादन : प्रेम बरेलवी)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

आरएसएस और बहुजन चिंतन 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

One Response

  1. Ravi Kuamr Reply

Reply