h n

वोट पाने का हथकंडा है सवर्ण आरक्षण : एसडीपीआई

सवर्ण आरक्षण के विरोध में एसडीपीआई द्वारा 7 फरवरी को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में एक सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इसके लिए चर्चा का विषय ‘इकोनॉमिक क्वेटा : डिमीनिंग रिजर्वेशन’ रखा गया है

सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के भाजपा के कदम की निंदा करते हुए सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) ने इसे धोखाधड़ी और वोट हथियाने का हथकंडा करार दिया है। पार्टी के दिल्ली प्रदेश संयोजक डॉ. निजामुद्दीन खान का कहना है कि ऐसा कर भाजपा ने संविधान के खिलाफ कार्य किया है।

सवर्ण आरक्षण पर चर्चा के लिए एसडीपीआई द्वारा जारी पम्फलेंट

उन्होंने बताया कि इसके विरोध में उनकी पार्टी द्वारा 7 फरवरी, 2019 को दिल्ली के लोधी रोड स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में एक सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। चर्चा का विषय ‘इकोनॉमिक क्वेटा : डिमीनिंग रिजर्वेशन’ रखा गया है। इसमें सेवानिवृत्त न्यायाधीश, प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता और विभिन्न सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के प्रमुख भाग लेंगे।

(कॉपी संपादन : प्रेम बरेलवी)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

लेखक के बारे में

फारवर्ड प्रेस

संबंधित आलेख

ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़ : प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल (अंतिम भाग)
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
छत्तीसगढ़ : विरोध करती रह गई भाजपा, भूपेश सरकार ने कर दिया 76 फीसदी आरक्षण
विधेयक पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि राज्य में जिस समुदाय की जितनी आबादी है, उसके हिसाब से ही...
बहस-तलब : राष्ट्रपति के अनकहे का निहितार्थ
छोटे-मोटे अपराधों के आरोपियों की जिंदगी बिना मुकदमा की सुनवाई के जेलों में खत्म हो जाती है और किसी को उनकी सुध भी नहीं...
ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़: प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिकता नहीं है, वह...