h n

वोट पाने का हथकंडा है सवर्ण आरक्षण : एसडीपीआई

सवर्ण आरक्षण के विरोध में एसडीपीआई द्वारा 7 फरवरी को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में एक सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इसके लिए चर्चा का विषय ‘इकोनॉमिक क्वेटा : डिमीनिंग रिजर्वेशन’ रखा गया है

सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के भाजपा के कदम की निंदा करते हुए सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) ने इसे धोखाधड़ी और वोट हथियाने का हथकंडा करार दिया है। पार्टी के दिल्ली प्रदेश संयोजक डॉ. निजामुद्दीन खान का कहना है कि ऐसा कर भाजपा ने संविधान के खिलाफ कार्य किया है।

सवर्ण आरक्षण पर चर्चा के लिए एसडीपीआई द्वारा जारी पम्फलेंट

उन्होंने बताया कि इसके विरोध में उनकी पार्टी द्वारा 7 फरवरी, 2019 को दिल्ली के लोधी रोड स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में एक सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। चर्चा का विषय ‘इकोनॉमिक क्वेटा : डिमीनिंग रिजर्वेशन’ रखा गया है। इसमें सेवानिवृत्त न्यायाधीश, प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता और विभिन्न सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के प्रमुख भाग लेंगे।

(कॉपी संपादन : प्रेम बरेलवी)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

लेखक के बारे में

फारवर्ड प्रेस

संबंधित आलेख

अठारहवीं लोकसभा के पहले सत्र का हासिल
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कोई घंटा ख़ाली नहीं गया जब संविधान का ज़िक्र न हुआ हो। इस दौरान...
हाथरस हादसे की जाति और राजनीति
सूरजपाल सिंह नारायण साकार हरि उर्फ भोले बाबा जाति से जाटव है। उसके भक्तों में भी अधिकांश या तो जाटव हैं या फिर अति-पिछड़े...
पश्चिमी उत्तर प्रदेश : चुनाव में अगर ऐसा होता तो क्या होता, मगर वैसा होता तो क्या होता?
एनडीए यहां पर अपनी जीत को लेकर अति-आत्मविश्वास में था जबकि इंडिया गठबंधन के कार्यकर्ता तक़रीबन हतोत्साहित थे। हालात ऐसे थे कि चुनाव सिर...
‘दी इन्कार्सरेशंस’ : भीमा-कोरेगांव के कैदी और भारत का ‘डीप स्टेट’
अल्पा शाह ने पिछले 4 सालों से जेल में बंद दिल्ली में अंग्रेजी के प्रोफेसर और दलितों-आदिवासियों-पिछड़ों के अधिकारों के लिए लड़नेवाले एक्टिविस्ट हैनी...
लल्लनटॉप प्रकरण : द्विज हिंदूवादी पत्रकारिता की खुली पोल
जब तक न्यूज़रूम का लोकतांत्रिकरण नहीं होगा, तब तक कोई मुसलमान और कोई दलित-बहुजन, द्विवेदी की तरह सामने बैठकर नाना पाटेकर का इंटरव्यू लेने...