h n

मनीषा के साथ दरिंदगी के खिलाफ गाजियाबाद में वाल्मीकि समाज के लोगों ने बदला धर्म

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में वाल्मीकि समाज के कुछ परिवारों ने बीते 14 अक्टूबर को बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया। उन्होंने धर्म बदलने का निर्णय जिन कारणों से लिया, उनमें हाथरस के बूलगढ़ी गांव की मनीषा के साथ हुई दरिंदगी भी शामिल है। बता रहे हैं राज वाल्मीकि

हाल ही में उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के बूलगढ़ी में मनीषा वाल्मीकि के साथ की गई दरिंदगी और उसके परिवार के उत्पीड़न से आक्रोशित, प्रदेश के गाजियाबाद जिले के साहिबाबाद इलाके की करहेड़ा बस्ती के करीब 50 वाल्मीकि परिवारों के 236 सदस्यों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। इन लोगों ने 14 अक्टूबर 2020 को डॉ. आंबेडकर के प्रपौत्र राजरत्न आंबेडकर की उपस्थिति में धर्मपरिवर्तन किया। 

धर्म बदलने के पीछे कारण

करहेड़ा गांव के राजेश वाल्मीकि के मुताबिक, “धर्म बदलना इतना आसान नहीं होता। सारे रीति-रिवाज बदल जाते हैं। वह सब छोड़ना पड़ता है जो हमारे पुरखे करते आए हैं। एक नई जीवनशैली अपनानी होती है। हम सवर्णों के भेदभाव से परेशान थे। बहन मनीषा और उसके परिवार के साथ सवर्णों का अमानवीय व्यवहार  हमारी बर्दाश्त के बाहर था। इसलिए हमने धर्म बदला। बौद्ध धर्म में जाति-आधारित भेदभाव नहीं है।” 

बौद्ध धम्म स्वीकार करते दलित (फाइल फोटो)

दलितों के साथ भेदभाव का अनुभव बताते हुए गाजियाबाद में घरेलू सहायिका के तौर पर काम करने वाली सुनीता ने कहा कि जिस घर में वह काम करती हैं, वहां जब उसने पीने के लिए एक गिलास पानी मांगा तो दलित होने की वजह से उन्हें स्टील के गिलास में पानी दिया गया। वे बतातीं हैं, “जिस गिलास में मैं पानी पीती हूँ उसे रसोई के बाहर एक कोने में अलग रखा जाता है ताकि सबको पता रहे कि मैं वाल्मीकि हूं और यह गिलास मेरे लिए है। मैं जिन घरों में काम करती हूं उनमें से अधिकतर में मेरे साथ इसी तरह का भेदभाव होता है।”

सुनीता के बड़े बेटे पवन वाल्मीकि का कहना है कि उन्होंने 2009 में एक कंपनी में चपरासी के पद के लिए आवेदन किया था। परन्तु वाल्मीकि सरनेम होने के चलते उन्हें सिर्फ साफ-सफाई का काम दिया गया। वे कहते हैं, “मैंने साफ-सफाई के काम के लिए आवेदन नहीं किया था लेकिन मुझे पैसों की जरूरत थी इसलिए मैंने इसे स्वीकार कर लिया। मैं इस तरह के भेदभाव से वाकिफ हूं, जो पीढ़ियों से हमारे साथ होता आ रहा है। बौद्ध धर्म हमारा अपना धर्म है। इसमें हमें अलग नहीं समझा जायेगा और हम से भेदभाव नहीं होगा।”

यह भी देखें : दहशत में हैं मनीषा के पिता, कहा – हमें इंसाफ चाहिए और जान-माल की सुरक्षा भी

बौद्ध धर्म स्वीकार करने वालों में पूर्वी दिल्ली के शहादरा में मैकेनिक के तौर पर काम कर चुके करीब 65 वर्षीय इंदर राम भी हैं। उन्होंने कहा, “हाथरस में 19 साल की दलित युवती के साथ जो हुआ, उसके बाद हमने
धर्मपरिवर्तन करने का फैसला किया। बौद्ध धर्म में कोई जाति नहीं है। वहां कोई ठाकुर या वाल्मीकि नहीं है। हर कोई सिर्फ इंसान है, सभी सिर्फ बौद्ध हैं।”

सफाई कर्मचारी के तौर पर काम कर चुके करीब 70 वर्षीय ताराचंद कहते हैं, “बौद्ध धर्म में उपवास नहीं रखा जाता, मूर्ति पूजा नहीं की जाती। हमने इसे पूरी तरह से अंगीकार कर लिया है। अब वह भेदभाव मेरी परिवार की नई पीढ़ी को नहीं झेलना होगा, जिसे अब तक हम झेलते आ रहे थे।”

वहीं, कमल कहते हैं, “स्कूल में सवर्ण जातियों के बच्चे हमारे बच्चों के साथ नहीं बैठते। शिक्षक चाहते हैं कि हमारे बच्चे क्लास में पीछे बैठे क्योंकि उनका सरनेम वाल्मीकि है। इसलिए हम अपना धर्म बदल रहे हैं।
धर्मपरिवर्तन हमारे भविष्य के लिए अच्छा होगा।”

धर्मपरिवर्तन करने वाली रज्जो कहती हैं, “हाथरस की हमारी बेटी के साथ जो हुआ वैसा किसी ऊंची जाति की बेटी के साथ होता तो पूरे देश में हाहाकार मच जाता। और दोषियों को कड़ी सजा मिलती। पर हमारी बेटी के शव को पुलिस ने बिना उसके घर वालों की मर्जी के रात में जला दिया। क्यों? क्योंकि वह एक छोटी जाति की बेटी थी। नहीं चाहिए हमें ऐसा धर्म जो हमारे साथ भेदभाव करता है।”

बहरहाल, द्विज, देश में संविधान की जगह मनु का विधान लागू करना चाहते हैं। इसलिए आज के दौर में बहुत जरूरी हो गया है कि सभी संविधान पढ़ें। देश का संविधान हर भारतीय नागरिक को आत्मसम्मान, समानता और मानवीय गरिमा के साथ जीने का हक देता है और न्याय की बात करता है। बौद्ध धर्म के मूल सिद्धांतों में यह शामिल है। 

(संपादन : नवल/अमरीश)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

राज वाल्मीकि

'सफाई कर्मचारी आंदोलन’ मे दस्तावेज समन्वयक राज वाल्मीकि की रचनाएं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। इन्होंने कविता, कहानी, व्यग्य, गज़़ल, लेख, पुस्तक समीक्षा, बाल कविताएं आदि विधाओं में लेखन किया है। इनकी अब तक दो पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं कलियों का चमन (कविता-गजल-कहनी संग्रह) और इस समय में (कहानी संग्रह)।

संबंधित आलेख

भारतीय ‘राष्ट्रवाद’ की गत
आज हिंदुत्व के अर्थ हैं– शुद्ध नस्ल का एक ऐसा दंगाई-हिंदू, जो सावरकर और गोडसे के पदचिह्नों को और भी गहराई दे सके और...
जेएनयू और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के बीच का फर्क
जेएनयू की आबोहवा अलग थी। फिर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मेरा चयन असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर हो गया। यहां अलग तरह की मिट्टी है...
बीते वर्ष 2023 की फिल्मों में धार्मिकता, देशभक्ति के अतिरेक के बीच सामाजिक यथार्थ पर एक नज़र
जाति-विरोधी फिल्में समाज के लिए अहितकर रूढ़िबद्ध धारणाओं को तोड़ने और दलित-बहुजन अस्मिताओं को पुनर्निर्मित करने में सक्षम नज़र आती हैं। वे दर्शकों को...
‘मैंने बचपन में ही जान लिया था कि चमार होने का मतलब क्या है’
जिस जाति और जिस परंपरा के साये में मेरा जन्म हुआ, उसमें मैं इंसान नहीं, एक जानवर के रूप में जन्मा था। इंसानों के...
फुले पर आधारित फिल्म बनाने में सबसे बड़ी चुनौती भाषा और उस कालखंड को दर्शाने की थी : नीलेश जलमकर
महात्मा फुले का इतना बड़ा काम है कि उसे दो या तीन घंटे की फिल्म के जरिए नहीं बताया जा सकता है। लेकिन फिर...