h n

सिवनी मॉब लिंचिंग : पसमांदा और दलितों के बाद अब निशाने पर आदिवासी

बीते 2 मई, 2022 को मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में दो आदिवासियों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। इस घटना के पीछे आरएसएस के संगठनों बजरंग दल और श्रीराम सेना के सदस्यों का हाथ बताया जा रहा है। इस संबंध में जानकारी दे रहे हैं मनीष भट्ट मनु

मध्य प्रदेश सहित पांच राज्यों में आगामी वर्ष प्रस्तावित विधान सभा चुनावों में आदिवासी वोट बैंक पर नजर जमाने वाली भाजपा को प्रदेश के सिवनी जिले के आदिवासी बहुल कुरई विकासखंड में इसके मूल संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के बजरंग दल और श्रीराम सेना के सदस्यों द्वारा दो आदिवासी युवकों की हत्या से झटका लग सकता है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में पिछले कुछ समय से भाजपा आदिवासी वोट बैंक पर अपनी नजरें जमाए हुए है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि राज्य को केन्द्र में रखते हुए आरएसएस भाजपा की मदद से हिंदी भाषी पट्टी में आदिवासियों को प्रभावित करने के लिए कई योजनाएं बनाए हुए है।

उल्लेखनीय है कि पिछले एक वर्ष में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह मध्य प्रदेश के दौरे कर चुके हैं। जहां सितंबर 2021 में शाह ने जबलपुर में शहीद शंकर शाह और रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस में षिरकत की थी, वहीं नवंबर में नरेन्द्र मोदी राजधानी भोपाल में बिरसा मुंडा के जनम दिवस पर आयोजित जनजातीय गौरव दिवस में शामिल हुए थे। इसके अतिरिक्त पिछले माह 22 तारीख को अपने भोपाल दौरे में अमित शाह ने न केवल तेंदु पत्ता संग्राहकों के सम्मेलन को संबोधित किया था वरन उनकी उपस्थिति में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के वन ग्रामों को राजस्व ग्राम में परिवर्तित करने का ऐलान भी किया था। मगर, सिवनी हत्याकांड के बाद जिस तरह आदिवासी समाज में तेजी से गोलबंदी हो रही है, उसके बाद भाजपा के लिए इस वर्ग को साधना एक बड़ी चुनौती हो सकता है।

बताते चलें कि आदिवासी विकास खंड कुरई के सिमरिया गांव निवासी धानसाय इनवाती व सागर गांव निवासी संपत बट्टी के साथ गत 3 मई, 2022 को सुबह होने के पूर्व करीब तीन बजे गौकशी के आरोप में करीब 15-20 लोगों ने लाठी-डंडों से बुरी तरह मारपीट की थी, जिससे दोनों की मौके पर ही मौत हो गई थी। इस घटना में दो अन्य गंभीर रूप से जख्मी हैं, जिनका इलाज स्थानीय अस्पताल में किया जा रहा है। घटना के दूसरे दिन दोपहर 12 बजे से शाम 6 जे बजे तक कांग्रेस के नेताओं-कार्यकर्ताओं व ग्रामीणों ने नागपुर-जबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर कुरई थाना के सामने जाम लगा दिया था। देर शाम दोनों मृतकों के शव स्वजनों को सौंप दिए गए थे, जिसके बाद रात में ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

कुरई थाना के सामने विरोध प्रदर्शन करते मृतकों के परिजन व स्थानीय आदिवासी

प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने इस घटना को सत्तारुढ़ भाजपा सरकार के आदिवासी एवं अनुसूचित जाति विरोधी चेहरे का एक और उदाहरण करार दिया है। उसने इस बारे में राज्यपाल को पत्र लिख दक्षिणपंथी संगठनों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की मांग की है। साथ ही पार्टी ने घटना की जांच के लिए अपने तीन विधायकों – ओंकार सिंह मरकाम, अशोक मर्सकोले और नारायण पट्टा – की एक जांच कमेटी गठित की है, जो सिवनी पहुंचकर पूरे मामले की जांच करेगी। 

वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान सरकार को घेरते हुए ट्वीट किया कि “सिवनी जिले के आदिवासी ब्लॉक कुरई में दो आदिवासी युवकों की निर्मम हत्या किये जाने की बेहद दुखद जानकारी मिली है।‌ इस घटना में एक आदिवासी युवक गंभीर रूप से घायल है। प्रदेश में आदिवासी वर्ग के साथ दमन व उत्पीड़न की घटनाएं रुक नहीं रही हैं। हमने इसके पूर्व नेमावर, खरगोन व खंडवा की घटनाएं भी देखी हैं। आरोपियों के भाजपा से जुड़े होने की जानकारी भी सामने आयी थी। इस घटना में भी आरोपियों के भाजपा से जुड़े कनेक्शन की बात सामने आ रही है।”

दरअसल मध्य प्रदेश की राजनीति में आदिवासी वोटरों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की आबादी में करीब 21.5 प्रतिशत आदिवासी हैं। राज्य में विधानसभा की कुल 230 सीटों में से 47 सीटें अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित हैं। वहीं लगभग 100 अन्य सीटों पर भी यह वर्ग तमाम समीकरण बदलने की ताकत रखता है। ऐसे में कोई भी इस वर्ग को नाराज करने का जोखिम नहीं ले सकता। यही कारण है कि जहां एक तरफ पुलिस प्रशासन बेहद सतर्कता के साथ कदम उठा रहा है, वहीं इस मामले में गोंडवाना महासभा सहित गोंडवाना से जुड़े विभिन्न राजनैतिक दलों के अतिरिक्त जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस), भीम आर्मी के साथ ही दीगर दलों का भी प्रवेश हो गया है। 

सथानीय आदिवासी सामाजिक कार्यकर्ताओं के मुताबिक घटना के बाद से क्षेत्र में काफी आक्रोश व्याप्त है। हालांकि आरोपितों के गिरफ्तारी, मृतक के स्वजनों को आर्थिक सहायता देने के साथ ही शासकीय नौकरी देना और आरोपितों के अवैध मकान तोड़ने की मांगे प्रशासन द्वारा मान लेने से गांव वालों में अब उतना आक्रोश नहीं होने की बात जिला प्रशासन कह रहा है। मगर, हालात संवेदनशील बने हुए हैं और राजनीति के धरातल पर यह मुद्दा इतने जल्दी थमने वाला नहीं दीख रहा है।

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

मनीष भट्ट मनु

घुमक्कड़ पत्रकार के रूप में भोपाल निवासी मनीष भट्ट मनु हिंदी दैनिक ‘देशबंधु’ से लंबे समय तक संबद्ध रहे हैं। आदिवासी विषयों पर इनके आलेख व रपटें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होते रहे हैं।

संबंधित आलेख

सहजीवन : बदलते समाज के अंतर्द्वंद्व के निहितार्थ
विवाह संस्था जाति-धर्म की शुद्धता को बनाये रखने का एक तरीका मात्र है, इसलिए समाज उसका हामी है और इसलिए वह ऐसे जोड़ों की...
यात्रा संस्मरण : वैशाली में भारत के महान अतीत की उपेक्षा
मैं सबसे पहले कोल्हुआ गांव गयी, जहां दुनिया के सबसे प्राचीन गणतंत्र में से एक राजा विशाल की गढ़ी है। वहां एक विशाल स्नानागार...
शैक्षणिक बैरभाव मिटाने में कारगर हो सकते हैं के. बालगोपाल के विचार
अपने लेखन में बालगोपाल ने ‘यूनिवर्सल’ (सार्वभौमिक या सार्वत्रिक) की परिकल्पना की जो पुनर्विवेचना की है, उसे हम विद्यार्थियों और शिक्षाविदों को समझना चाहिए।...
भारत में वैज्ञानिक परंपराओं के विकास में बाधक रहा है ब्राह्मणवाद
कई उद्धरणों से ब्राह्मणवादी ग्रंथ भरे पड़े हैं, जिनसे भलीभांति ज्ञात होता है कि भारतीय खगोल-विद्या व विज्ञान को पस्त करने में हर प्रकार...
ओबीसी महिला अध्येता शांतिश्री धूलीपुड़ी पंडित, जिनकी नजर हिंदू देवताओं की जाति पर पड़ी
जब उत्पादक समुदायों जैसे शूद्र, दलित और आदिवासी समाजों से गंभीर बुद्धिजीवी उभरते हैं तब जाति व्यवस्था में स्वयं की उनकी स्थिति, उनकी चेतना...