h n

बहस-तलब : सियासी लाभ के लिए सवर्णों की पालकी ढोनेवाले दलितों का हश्र

जातिवाद के विरुद्ध लड़ाई मात्र दूसरों को गालियां देने से आगे नहीं बढ़ेगी, अपितु उनलोगों से भी सवाल पूछने होंगे जो सत्ता के लिए कुछ भी समझौता कर लेते है तथा अपने समाज का बड़ा नुकसान करते है। बता रहे हैं विद्या भूषण रावत

कुछ दिनों पूर्व उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की एक ग्राम पंचायत में एक पूर्व प्रधान द्वारा करवाई गई मुनादी ने हमारे समाज की विकृत जातिवादी मानसिकता का और अधिक खुलासा कर दिया। देश भर में लोग अचरज कर रहे थे कि क्या ऐसा अभी भी होता है? लेकिन हकीकत यह है कि ऐसा हो रहा है और कुछ खबरें थोड़ी सी चर्चा में आ जाती हैं तो अधिकांश दबा दी जाती हैं।

दरअसल, मुजफ्फरनगर जिला पिछले कई वर्षों से सुर्खियों में रहा है। भारतीय किसान आंदोलन महेंद्र सिंह टिकैत के नेतृत्व में यहीं से उभरा। आज उनके बेटे राकेश टिकैत और नरेश टिकैत किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं। जिले में 2013 के दंगों में बड़ी संख्या मे मुसलमान बेघर हो गए थे। ऐसा माना जाता है कि यह हिंदू-मुस्लिम ध्रुवीकरण की सियासत के कारण हुआ। लेकिन हकीकत यह है कि ताकतवर जातियां अपने व्यक्तिगत हितों के अनुसार ही अपनी राजनीति तय करती हैं। अभी किसान आंदोलन के तौर पर हमने ‘हिन्दू-मुस्लिम’ एकता की कसमें खाते नेताओं को देखा, वे सभी दलितों के सवालों पर उनके साथ बैठकर बराबरी का दर्जा देने को तैयार नहीं हैं। अधिकांश दलित तो भूमिहीन हैं और जिनके पास थोड़ी सी जमीन है या जो थोड़ा अपने अधिकारों को लेकर संघर्ष कर रहे हैं, वे जातिवादी लोगों के अहंकार का निशाना बन जाते हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : बहस-तलब : सियासी लाभ के लिए सवर्णों की पालकी ढोनेवाले दलितों का हश्र  

लेखक के बारे में

विद्याभूषण रावत

विद्याभूषण रावत सामाजिक कार्यकर्ता, लेखक और डाक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता हैं। उनकी कृतियों में 'दलित, लैंड एंड डिग्निटी', 'प्रेस एंड प्रेजुडिस', 'अम्बेडकर, अयोध्या और दलित आंदोलन', 'इम्पैक्ट आॅफ स्पेशल इकोनोमिक जोन्स इन इंडिया' और 'तर्क के यौद्धा' शामिल हैं। उनकी फिल्में, 'द साईलेंस आॅफ सुनामी', 'द पाॅलिटिक्स आॅफ राम टेम्पल', 'अयोध्या : विरासत की जंग', 'बदलाव की ओर : स्ट्रगल आॅफ वाल्मीकीज़ आॅफ उत्तर प्रदेश' व 'लिविंग आॅन द ऐजिज़', समकालीन सामाजिक-राजनैतिक सरोकारों पर केंद्रित हैं और उनकी सूक्ष्म पड़ताल करती हैं।

संबंधित आलेख

सहजीवन : बदलते समाज के अंतर्द्वंद्व के निहितार्थ
विवाह संस्था जाति-धर्म की शुद्धता को बनाये रखने का एक तरीका मात्र है, इसलिए समाज उसका हामी है और इसलिए वह ऐसे जोड़ों की...
यात्रा संस्मरण : वैशाली में भारत के महान अतीत की उपेक्षा
मैं सबसे पहले कोल्हुआ गांव गयी, जहां दुनिया के सबसे प्राचीन गणतंत्र में से एक राजा विशाल की गढ़ी है। वहां एक विशाल स्नानागार...
शैक्षणिक बैरभाव मिटाने में कारगर हो सकते हैं के. बालगोपाल के विचार
अपने लेखन में बालगोपाल ने ‘यूनिवर्सल’ (सार्वभौमिक या सार्वत्रिक) की परिकल्पना की जो पुनर्विवेचना की है, उसे हम विद्यार्थियों और शिक्षाविदों को समझना चाहिए।...
भारत में वैज्ञानिक परंपराओं के विकास में बाधक रहा है ब्राह्मणवाद
कई उद्धरणों से ब्राह्मणवादी ग्रंथ भरे पड़े हैं, जिनसे भलीभांति ज्ञात होता है कि भारतीय खगोल-विद्या व विज्ञान को पस्त करने में हर प्रकार...
ओबीसी महिला अध्येता शांतिश्री धूलीपुड़ी पंडित, जिनकी नजर हिंदू देवताओं की जाति पर पड़ी
जब उत्पादक समुदायों जैसे शूद्र, दलित और आदिवासी समाजों से गंभीर बुद्धिजीवी उभरते हैं तब जाति व्यवस्था में स्वयं की उनकी स्थिति, उनकी चेतना...