author

Vidya Bhushan Rawat

बहस-तलब : बाबाओं को क्यों बचाना चाहती है भारतीय मीडिया?
यह तो अब आम बात है कि बाबाओं की बड़ी फौज देश मे हर प्रदेश में खड़ी हो...
बहस-तलब : ‘रामचरितमानस’ की आलोचना मात्र से समाज नहीं बदलेगा
हम जानते हैं कि जातिवादी समाज में भगवानों की भी जातिया हैं और जो राम की कटु आलोचना...
Sharad Yadav: So influential that his allies felt insecure
If Sharad Yadav could never get a firm foothold in the politics of Uttar Pradesh and Bihar, it...
शरद यादव : रहे अपनों की राजनीति के शिकार
शरद यादव उत्तर प्रदेश और बिहार की यादव राजनीति में अपनी पकड़ नहीं बना पाए और इसका कारण...
Haldwani land imbroglio: What is the way out?
A recent judgment of the Uttarakhand High Court could have had a cataclysmic fallout in the Terai. What...
बहस-तलब : हल्द्वानी में भूमि विवाद और समाधान
उत्तराखंड हाई कोर्ट ने एक ऐसा प्रशासनिक फैसला दिया, जो तराई में बेहद खतरनाक साबित हो सकता था,...
राजनीतिक रस्साकशी में पिछड़े वर्ग का राजनीतिक आरक्षण
जब केंद्र और राज्य सरकारों को पता है कि न्यायपालिका पिछड़े वर्ग के मामले पर तथ्य मांग रहा...
An eyewitness account of Ambedkar’s speech in the Constituent Assembly
‘When Babasaheb was speaking, the House was all ears. He received a standing ovation after the speech. The...
More posts