h n

सामाजिक यथार्थ से जुदा हैं बॉलीवुड फिल्में

दक्षिण भारतीय फिल्में मनोरंजन करती हैं। साथ ही, वे स्थानीय और सामाजिक मुद्दों को भी उठाती हैं। लेकिन बॉलीवुड फिल्में एक निश्चित फार्मूले पर आधारित पुराने ढर्रे पर ही चल रही हैं। पा रंजीत / मारी सेल्वराज की 'पारिएरूम पेरूमाल' और करण जौहर / पुनीत मल्होत्रा की 'स्टूडेंट ऑफ़ द इयर' इस अंतर को रेखांकित करती हैं, बता रहे हैं नीरज बुनकर

पिछले कुछ समय से बॉलीवुड फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कोई ख़ास कमाल नहीं दिखा पा रहीं हैं। यह इन दिनों बुद्धिजीवियों और फिल्म समीक्षकों में चर्चा का विषय है। सामान्य लोग, जो फिल्मों के बारे में बहुत नहीं जानते, भी सोशल मीडिया पर इस विषय पर टिप्पणियां कर रहे हैं। मसलन, क्या बॉलीवुड फिल्में इतिहास के अपने सबसे बुरे दौर से गुज़र रहीं हैं? आखिर उनका कोई भी फार्मूला दर्शकों को आकर्षित करने में सफल क्यों नहीं हो पा रहा है?  

बॉलीवुड फिल्मों के पिटने के कई कारण हैं। सिर्फ यह कहने से काम चलने वाला नहीं है कि फिल्में बॉक्स ऑफिस पर इसलिए सफल नहीं हो रहीं हैं क्योंकि वे कला फिल्में हैं, जो एक विशिष्ट दर्शक वर्ग के लिए हैं, सबके लिए नहीं। और यही कारण है कि उनकी केवल बुराई ही नहीं हो रही है, बल्कि कई लोग उनकी तारीफ भी कर रहे हैं। गत 22 जुलाई 2022 को रिलीज़ हुई बॉलीवुड फिल्म ‘शमशेरा’ की बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह गिर जाने को लेकर जानमाने फिल्म अभिनेता संजय दत्त ने सोशल मीडिया पर लिखा, “फिल्में इसलिए बनाई जातीं हैं ताकि दर्शक उनका आनंद ले सकें। और हर फिल्म, आज नहीं तो कल, अपना दर्शक वर्ग पा ही लेती है। ‘शमशेरा’ को भी किसी न किसी दिन उसके दर्शक मिल ही जाएंगे। मैं इस फिल्म के साथ मजबूती से खड़ा हूं… कला और उसके प्रति हमारी प्रतिबद्धता उस नफरत से कहीं बड़ी है, जिसका सामना हम कर रहे हैं।” 

सवाल है कि उन्हें अपना बचाव करने की ज़रुरत क्यों पड़ी? क्यों उन्हें ‘शमशेरा इज अवर्स’ हैशटैग का प्रयोग करना पड़ा? इससे पहले तो ऐसा नहीं होता था। 

फिल्में दर्शकों के लिए बनाई जातीं हैं, निर्माताओं और कलाकारों के लिए नहीं। फिल्म निर्माताओं और कलाकारों का अपनी फिल्मों का इस तरह बचाव करना और परोक्ष रूप से दर्शकों को कला का सम्मान नहीं करने के लिए दोषी ठहराना, क्या आमजनों को नीचा दिखाना नहीं है? वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल का इस फिल्म के बारे में यह कहना है: “आदिवासी और अछूतों पर फिल्म बनाई। कहानी नीलेश मिश्रा से लिखवाई। डायलॉग पीयूष मिश्रा से लिखवाए। रोल कपूर से करवाया। फ़ीमेल रोल भी कपूर को दिया। डायरेक्टर मल्होत्रा को बनाया। संगीत शर्मा से बनवाया। सिनेमेटोग्राफी गोस्वामी से करवाई। जिसे देखिए, वही वॉयस ऑफ वॉयसलेस बनने पर तुला हुआ है। थोड़ी तो मर्यादा रखिए। ये भी तो सोचिए कि सिनेमाघर कौन लोग भरते हैं।” 

मंडल बॉलीवुड फिल्म उद्योग में प्रतिनिधित्व और समावेशिता से जुड़े महत्वपूर्ण सरोकारों की बात रहे हैं। हो सकता है कि आपको अछूत प्रथा और जातिगत अत्याचारों के बारे में बहुत कुछ पता हो, लेकिन जिन लोगों ने यह सब भोगा है, उन्हें साथ लिए बगैर आप यह उम्मीद कैसे कर सकते हैं कि जाति से जुड़े मुद्दों पर केंद्रित फिल्म राह से भटकेगी नहीं? ऐसी फिल्म को बनाने में ‘निम्न जातियों’ के लोगों की भागीदारी ज़रूरी है – ऐसे लोगों की, जिन्होंने जातिगत वंचना और भेदभाव झेला हो। आपके पास कितने ही संसाधन हों, लेकिन ऐसे लोगों की मदद के बिना आप जाति में जकड़े समाज का सटीक चित्रण नहीं कर सकते। इसलिए यह ज़रूरी है कि आप अपने दरवाज़े विविध पृष्ठभूमियों के लोगों के लिए खोलें।

बॉलीवुड फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ़ द इयर’ एवं तमिल फिल्म ‘पारिएरूम पेरूमाल’

इंग्लैंड में निवासरत शोध अध्येता पूर्ण चंद्र, बॉलीवुड फिल्मों की घटती लोकप्रियता का विश्लेषण करते हुए कहते हैं, “अब लोगों के पास अधिक विकल्प हैं। उन्हें थिएटर जाने की ज़रुरत नहीं है, थिएटर अब उनके घर की ड्योढ़ी पर है। ओटीटी प्लेटफ़ॉर्मों ने बॉलीवुड के प्रभुत्व को समाप्त दिया है। फिल्में देखने का पारंपरिक तरीका बदल गया है। बॉलीवुड फिल्मों की विषयवस्तु की गुणवत्ता घट गई है। इन वजहों से दर्शकों ने बॉलीवुड को छोड़कर अन्य क्षेत्रीय फिल्मों में रूचि दिखाना शुरू कर दिया है।” डबिंग और सबटाइटलिंग के चलते, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सिनेमा की पहुंच में इज़ाफा हुआ है। दक्षिण भारतीय फिल्मों की विषयवस्तु हमेशा से अच्छी रही है, लेकिन एक समय तक भाषा की दीवार और आर्थिक दिक्कतों के चलते वे कभी अखिल भारतीय स्तर पर प्रतिष्ठा प्राप्त नहीं कर सकीं और इसका लाभ बॉलीवुड ने उठाया। लेकिन अब परिदृश्य बदल चुका है। बॉलीवुड के सबसे बड़े सितारे सलमान खान तक को अपने करियर को वापस पटरी पर लाने के लिए ‘वांटेड’ जैसी दक्षिण भारतीय फिल्म की रीमेक का सहारा लेना पड़ा। बॉलीवुड के शीर्ष सितारों की चमक कमज़ोर पड़ गई है। यहां तक कि कई हिंदी रियलिटी शोज़ तक में हिंदी फिल्मों का यह कहकर मजाक बना जा रहा है कि दक्षिण भारतीय फिल्मों की लोकप्रियता के सामने वे टिक नहीं पा रही हैं। बॉलीवुड फिल्म निर्माता अब दक्षिण भारतीय सितारों और निर्माताओं के साथ मिल कर काम कर रहे हैं। कलाकार आलिया भट्ट ने हाल में रिलीज़ तेलुगू फिल्म ‘आरआरआर’ में अभिनय किया, अनन्या पांडे आने वाली तेलुगू फिल्म ‘लाईगर’, जिसका निर्माण करण जौहर ने किया है, में काम कर रहीं हैं। सलमान खान ने पुष्टि की है कि वे निर्माणाधीन तेलुगू फिल्म ‘गॉडफादर’ में अभिनय कर रहे हैं। भारत में फिल्म निर्माण का केंद्र दक्षिण की ओर खिसक रहा है और इसका कारण यह है कि बॉलीवुड आम लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने में असफल हो रहा है। 

जब फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप से पूछा गया कि बॉलीवुड फिल्में उतना अच्छा क्यों नहीं कर रही हैं जितनी कि दक्षिण भारतीय फिल्में, तो उनका जवाब था, “इस प्रश्न का बहुत सीधा सा उत्तर है। वजह यह है कि हिंदी फिल्मों की जड़ें नहीं हैं। आप तमिल, तेलुगू या मलयालम फिल्में देखिए। उनकी जड़ें उनकी संस्कृति में हैं – फिर चाहे वह मुख्यधारा की संस्कृति हो या किसी विशिष्ट क्षेत्र या समुदाय की। लेकिन हमारी फिल्मों की जड़ें नहीं हैं। ऐसे लोग, जो हिंदी नहीं बोल सकते, जो अंग्रेजी बोलते हैं, वे हिंदी फिल्में बना रहे हैं।”   

मुझे नहीं लगता कि कोई भाषा बोल सकने या न बोल सकने का इससे कोई संबंध है। मुझे लगता है कि इसका संबंध संस्कृति से है। दक्षिण भारतीय फिल्में मनोरंजन करतीं हैं।साथ ही, वे स्थानीय और सामाजिक मुद्दों को भी उठाती हैं। लेकिन बॉलीवुड फिल्में एक निश्चित फार्मूले पर आधारित पुराने ढर्रे पर ही चल रहीं हैं। पा रंजीत / मारी सेल्वराज की ‘पारिएरूम पेरूमाल’ और करण जौहर / पुनीत मल्होत्रा की ‘स्टूडेंट ऑफ़ द इयर’ इस अंतर को रेखांकित करती हैं। जौहर का कॉलेज आमजनों को कॉलेज जैसा नहीं लगता। जबकि सेल्वराज की फिल्म का कॉलेज, तमिल समाज और वहां के लोगों से जुड़ा हुआ है। 

(अनुवाद: अमरीश हरदेनिया, संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

नीरज बुनकर

लेखक नाटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी, नॉटिंघम, यूनाईटेड किंगडम के अंग्रेजी, भाषा और दर्शनशास्त्र विभाग के डॉक्टोरल शोधार्थी हैं। इनकी पसंदीदा विषयों में औपनिवेशिक दौर के बाद के साहित्य, दलित साहित्य, जाति उन्मूलन, मौखिक इतिहास व सिनेमा आदि शामिल हैं

संबंधित आलेख

भारतीय समाज में व्याप्त पूर्व-आधुनिक सोच का असर
देश भर में दलितों, पिछड़ों और‌ आदिवासियों के नरसंहार तथा उनके साथ ‌भेदभाव एवं गैरबराबरी से इतिहास भरा पड़ा है और कमोबेश यह आज...
आंखों-देखी : दलित-बहुजनों में बढ़ रहा पितरों को सुख पहुंचाने का अंधविश्वास
समाज विज्ञानी अभी तक हमें यही बताते आये हैं कि आर्थिक संपन्नता के बाद ही व्यक्ति अपने संस्कृतिकरण की दिशा में अग्रसर व प्रयासरत...
‘मिमी’ : केवल एक सरोगेट मदर की कहानी नहीं
वैसे तो फ़िल्म सरोगेसी के मुद्दे को केंद्र में रखकर बनायी गयी है, मगर कहानी के भीतर न जाने कितने ही और मुद्दे बारीकी...
बहस-तलब : जबरन विवाह, नस्लभेद और जातिभेद आधुनिक गुलामी के मुख्य हथियार
आज के दौर में पेरियार की बातें इसलिए भी सही साबित हो रही हैं क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जिसे जबरन विवाह कहा जाता है,...
विज्ञान की किताब बांचने और वैज्ञानिक चेतना में फर्क
समाज का बड़ा हिस्सा विज्ञान का इस्तेमाल कर सुविधाएं महसूस करता है, लेकिन वह वैज्ञानिक चेतना से मुक्त रहना चाहता है। वैज्ञानिक चेतना का...