h n

मेश्राम, बामसेफ से प्रेरित लोगों ने बनाई नई पार्टी

बामसेफ दवारा गठित नई पार्टी ने बहुत सारे सवाल राजनीतिक हलकों में खड़े कर दिए हैं। मसलन, क्या यह नई पार्टी गैर कांग्रेसी, गैर भाजपाई राजनीति करते हुए भारत के दलितों और ओबीसी को एक सशक्त राजनीतिक विकल्प देगी या फिर सिर्फ बहुजन समाज पार्टी का विरोध के लिए जानी जाएगी? 

बामसेफ और भारतीय मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष वामन मेश्राम से प्रेरित और दिशा-निर्देश प्राप्त दलित बहुजन कार्यकर्ताओं ने एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा की। गत 6 दिसंबर, 2012 को डा. भीमराव आम्बेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर नई दिल्ली स्थित गढ़वाल भवन में यह घोषणा की गई। लगभग 3 हजार कार्यकर्ताओं ने जय मूलनिवासी की उदघोषणा कर नई पार्टी के लिए कार्य करने का संकल्प लिया।

राजस्थान उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश आरके अकोदिया को पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया। पार्टी के संस्थापकों ने कहा कि यह नई पार्टी बामसेफ और भारतीय मुक्ति मोर्चा के आंदोलनों से प्रेरित है। उन्होंने दावा किया कि हम 2014 के लोकसभा चुनाव में कम-से-कम 250 सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगे। यह घोषणा भी की गई कि नई पार्टी को मेश्राम की शुभकामनाएं प्राप्त हैं और वह उनके दिशा-निर्देश में काम करेगी।

नई पार्टी के गठन के घोषणा हेतु आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए अकोदिया ने कहा कि आजादी के 65 साल बाद भी भारत दुनिया के गरीब देशों में गिना जाता है। देश के मात्र 3 प्रतिशत लोग ही 97 प्रतिशत जल, जमीन और संपत्ति, संसाधन पर काबिज हैं और 97 प्रतिशत लोगों के हिस्से में मात्र 3 प्रतिशत जल, जमीन और संपत्ति है। अकोदिया ने कहा कि हमारी पार्टी का मूल उदेश्य है शोषित एवं पिछड़े वर्ग को सत्ता के संसाधनों में बराबरी का हक दिलाना और मूलनिवासियों को सत्ता के केंद्र में लाकर खडा़ करना। हालांकि नवनिर्मित पार्टी के नाम को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई है। पहले इसका नाम जनसत्ता पार्टी तय किया गया था। लेकिन चुनाव आयोग में किसी अन्य पार्टी के इसी नाम से रजिस्टर होने के कारण आयोग ने यह नाम देने से इनकार कर दिया। पार्टी के लिए अन्य वैकल्पिक नामों पर विचार हो रहा है।

बहरहाल, बामसेफ दवारा गठित नई पार्टी ने बहुत सारे सवाल राजनीतिक हलकों में खड़े कर दिए हैं। मसलन, क्या यह नई पार्टी गैर कांग्रेसी, गैर भाजपाई राजनीति करते हुए भारत के दलितों और ओबीसी को एक सशक्त राजनीतिक विकल्प देगी या फिर सिर्फ बहुजन समाज पार्टी का विरोध के लिए जानी जाएगी?

(फारवर्ड प्रेस के जनवरी, 2013 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

जितेंद्र कुमार ज्योति

संबंधित आलेख

लोकसभा चुनाव : आरएसएस की संविधान बदलने की नीयत के कारण बदल रहा नॅरेटिव
क्या यह चेतना अचानक दलित-बहुजनों के मन में घर कर गई? ऐसा कतई नहीं है। पिछले 5 साल से लगातार सामाजिक जागरूकता कार्यक्रमों और...
जातिगत जनगणना का विरोध एक ओबीसी प्रधानमंत्री कैसे कर सकता है?
पिछले दस वर्षों में ओबीसी प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने ओबीसी वर्ग के आमजनों के लिए कुछ नहीं किया। जबकि ओबीसी वर्ग...
मोदी फिर अलापने लगे मुस्लिम विरोधी राग
नरेंद्र मोदी की हताशा का आलम यह है कि वे अब पाकिस्तान का नाम भी अपने भाषणों में लेने लगे हैं। गत 3 मई...
‘इंडिया’ गठबंधन को अब खुद भाजपाई मान रहे गंभीर चुनौती
दक्षिण भारत में तो फिर भी लोगों को यक़ीन था कि विपक्षी दल, ख़ासकर कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करेगी। लेकिन उत्तर, पूर्व, मध्य और पश्चिम...
परिणाम बदल सकता है गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में पिछड़ा बनाम अगड़ा का नॅरेटिव
गोरखपुर में पिछड़े और दलित मतदाताओं की संख्या सबसे ज़्यादा है। एक अनुमान के मुताबिक़ यहां पर क़रीब 4 लाख निषाद जाति के मतदाता...