h n

हम हरियाणा को मजबूत राजनीतिक विकल्प देंगे : राव इंदरजीत सिंह

पूरे राज्य में आज दलित और ओबीसी वर्ग की बहू-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। सरकार के जातिवादी रवैये के कारण प्रशासन में भी एक खास जाति का ही बोलबाला है। हम प्रशासन में इस जाति के वर्चस्व को तोडऩे के लिए प्रतिबद्ध हैं। राव इंदरजीत सिंह से विशेष बातचीत

यादव परिवार में जन्मे 63 वर्षीय राव इंदरजीत सिंह, गुडग़ांव, हरियाणा से कांग्रेस के बागी सांसद हैं। उन्होंने एक अलग राजनीतिक संगठन हरियाणा इंसाफ मंच की स्थापना की है और उसे मजबूत करने में जुटे हैं। उपरोक्त टिप्पणी फारवर्ड प्रेस के प्रमुख संवाददाता अमरेंद्र यादव से उनकी बातचीत पर आधारित है

हरियाणा इंसाफ मंच एक सामाजिक और राजनीतिक मंच है। हम समाज के सभी तबकों के साथ न्याय के पक्षधर हैं। हम लोगों ने इस मंच का गठन राज्य को एक मजबूत राजनीतिक विकल्प देने के लिए किया है। आज हरियाणा में कांग्रेस का निजीकरण हो चुका है और इस पार्टी को चंद लोगों द्वारा चलाया जा रहा है। हरियाणा की सरकार द्वारा विकास कार्यों में भेदभाव बरता जा रहा है। राज्य को सबसे अधिक राजस्व दक्षिण हरियाणा से प्राप्त होता है लेकिन यहां विकास नाम की चीज नहीं है। रोजगार के अवसरों का सृजन व आधारभूत ढांचागत विकास केवल रोहतक जिले में हो रहा है।

पूरे राज्य में आज दलित और ओबीसी वर्ग की बहू-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। सरकार के जातिवादी रवैये के कारण प्रशासन में भी एक खास जाति का ही बोलबाला है। हम प्रशासन में इस जाति के वर्चस्व को तोडऩे के लिए प्रतिबद्ध हैं। अगर हरियाणा सरकार पक्षपात के आरोपों को नकारना चाहती है तो पिछले सालों में प्रदेश सरकार में नौकरी पाने वालों के 10वीं के प्रमाणपत्रों को जनता के सामने प्रस्तुत करे। इससे साफ हो जाएगा कि किस तरह से कांग्रेस की हुड्डा सरकार ने एक विशेष जाति और विशेष क्षेत्र के लोगों को नौकरियां दी हैं।

हरियाणा का दक्षिणी इलाका ‘अहीरवाल’ राज्य के गठन के समय से ही उपेक्षा का शिकार रहा है। यहां न तो कोई उद्योग-धंधा स्थापित हुआ और ना ही यहां पर कृषि की हालत बहुत अच्छी है। इस क्षेत्र में सड़कों और गलियों की हालत भी अत्यंत दयनीय है। शिक्षा के मामले में भी यह क्षेत्र काफी पिछड़ा हुआ है। मैं आरक्षण के बारे में अपनी सोच स्पष्ट करना चाहूंगा। मेरा मानना है कि सामाजिक समानता के लिए आरक्षण की आवश्यकता है लेकिन यह आर्थिक आधार पर होना चाहिए। जाति आधारित आरक्षण समाज को विभाजित कर रहा है। जाति आधारित आरक्षण के रोग ने बिहार और यूपी को बरबाद कर दिया है। हम हरियाणा को बरबाद नहीं होने देंगे।

(फारवर्ड प्रेस के जून 2013 अंक में प्रकाशित)

लेखक के बारे में

अमरेन्द्र यादव

अमरेन्द्र यादव फारवर्ड प्रेस के प्रमुख संवाददाता हैं।

संबंधित आलेख

चुनाव के तुरंत बाद अरूंधति रॉय पर शिकंजा कसने की कवायद का मतलब 
आज़ादी के आंदोलन के दौर में भी और आजाद भारत में भी धर्मनिरपेक्षता और वास्तविक लोकतंत्र व सामाजिक न्याय के सवाल को ज्यादातर निर्णायक...
अब संसद मार्ग से संसद परिसर में नज़र नहीं आएंगे डॉ. आंबेडकर
लोगों की आंखों में बाबा साहेब को श्रद्धांजलि देने की अधीरता साफ दिख रही थी। मैंने भारत में किसी राजनीतिक जीवित या मृत व्यक्ति...
एनईईटी : केवल उच्च वर्ग, उच्च जातियों और शहरी छात्रों को डाक्टर बनाने की योजना
भारत में गरीब और निम्न मध्यवर्ग के दायरे में आने वाली बहुलांश आबादी आदिवासियों, दलितों और पिछड़ों की है। एनईईटी की संरचना ने मेडिकल...
बिहार : 65 प्रतिशत आरक्षण पर हाई कोर्ट की रोक, विपक्षी दलों की सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की मांग
राजद के राज्यसभा सदस्य प्रो. मनोज झा और भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में...
किसानों की नायिका बनाम आरएसएस की नायिका
आरएसएस व भाजपा नेतृत्व की मानसिकता, जिसमें विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को खालिस्तानी बताना शामिल है, के चलते ही कंगना रनौत की इतनी...