h n

दलित-बहुजन पेज 3, जनवरी 2014

दिनांक 6 दिसम्बर को भीमराव आम्बेडकर की निधन स्थली, 26 अलीपुर रोड, दिल्ली में एक राष्ट्रीय सम्मान रैली का आयोजन किया गया। इस सम्मान रैली में देश भर से उनके अनुयायी, भीम सैनिक और कार्यकर्ता परिनिर्वाण भूमि के निर्माण के उद्देश्य से यहां पहुंचे थे

आम्बेडकर के परिनिर्वाण भूमि को राष्ट्रीय स्मारक बनाने की मांग

नई दिल्ली :  दिनांक 6 दिसम्बर को भीमराव आम्बेडकर की निधनस्थली, 26 अलीपुर रोड, दिल्ली में एक राष्ट्रीय सम्मान रैली का आयोजन किया गया। इस सम्मान रैली में देश भर से उनके अनुयायी, भीम सैनिक और कार्यकर्ता परिनिर्वाण भूमि के निर्माण के उद्देश्य से यहां पहुंचे थे। इस अवसर पर डॉ. सत्यनारायण जटिया, चरण सिंह अटवाल, रामदास आठवले, एच हनुमनथप्पा, श्रीमती सत्या बहन, उदित राज, टीएम कुमार और इन्द्रेश गजभिये ने यूपीए सरकार से भीमराव आम्बेडकर की इस निधनस्थली का निर्माण कराने की मांग की।

उन्होंने इस अवसर पर यूपीए सरकार से उस 100 करोड़ रुपयों का हिसाब भी मांगा जो वर्ष 2003 में एनडीए सरकार ने भीमराव आम्बेडकर की निधनस्थली को राष्ट्रीय स्मारक बनाने के लिए दिया था लेकिन अब तक इस परियोजना पर काम शुरू नहीं हुआ है।

प्रोन्नति में आरक्षण के लिए महारैली

नई दिल्ली : दिनांक 11 नवंबर को देश भर के दलित-आदिवासी कार्यकर्ता प्रोन्नति में आरक्षण की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर जुटे। राष्ट्रीय दलित महापंचायत की ओर से आयोजित इस महारैली में कांग्रेस के पीएल पुनिया समेत अनेक नेताओं ने शिरकत की और केंद्र सरकार से दलितों और आदिवासियों के लिए प्रोन्नति में आरक्षण की सुविधा को अविलंब बहाल करने की मांग की। इस महारैली के जरिए समाज के कमजोर वर्गों के लिए निजी क्षेत्रों में भी आरक्षण की मांग की गई। महारैली की अगुवाई राष्ट्रीय दलित महापंचायत के संयोजक अशोक कुमार ने की।

फारवर्ड प्रेस के जनवरी, 2014 अंक में प्रकाशित


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

सोहन सिंह

संबंधित आलेख

पहुंची वहीं पे ख़ाक जहां का खमीर था
शरद यादव ने जबलपुर विश्वविद्यालय से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी और धीरे-धीरे देश की राजनीति के केंद्र में आ गए। पिता ने...
मंडल आयोग की सिफारिशें लागू करवाने में शरद यादव की भूमिका भुलाई नहीं जा सकती
“इस स्थिति का लाभ उठाते हुए मैंने वी. पी. सिंह से कहा कि वे मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा तुरंत...
शरद यादव : रहे अपनों की राजनीति के शिकार
शरद यादव उत्तर प्रदेश और बिहार की यादव राजनीति में अपनी पकड़ नहीं बना पाए और इसका कारण थे लालू यादव और मुलायम सिंह...
सावित्रीबाई फुले : पहली मुकम्मिल भारतीय स्त्री विमर्शकार
स्त्रियों के लिए भारतीय समाज हमेशा सख्त रहा है। इसके जातिगत ताने-बाने ने स्त्रियों को दोहरे बंदिशों मे जकड़ रखा था। उन्हें मानवीय अधिकारों...
आधुनिक भारत के पुरोधा डॉ. मुख्तार अहमद अंसारी
अपनी खिदमात के जरिए डॉ. अंसारी लगातार समाज को जोड़ते रहे। थोड़े ही दिनो में उनकी बातों को पूरे देश में सम्मानपूर्वक सुना जाने...