ओबीसी मुख्यमंत्री ही हो सकता है कांग्रेस-एनसीपी का तारणहार

ओबीसी आरक्षण बचाओ समिति, जाटों और मराठाओं के लिए आरक्षण के खिलाफ नहीं है। हमने यह साफ कर दिया है कि हमारी आपत्ति आरक्षण देने की प्रक्रिया को लेकर है। हमारी मांग है कि मराठा समुदाय को अलग से, आबादी में उसके अनुपात के अनुसार, आरक्षण दिया जाए

सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न यह है : अगर कोई सरकार किसी समुदाय विशेष को लाभान्वित करने वाली कोई नीति लागू करती है, तो क्या उसे संबंधित समुदाय के सभी सदस्यों के मत मिलेंगे और क्या इन मतों के सहारे वह पुनर्निर्वाचित हो सकेगी? निस्संदेह, अनुसूचित जातियों, जनजातियों व ओबीसी के संदर्भ में इस प्रश्न का उत्तर ‘हां’ है। परंतु हालिया लोकसभा चुनाव ने यह साबित कर दिया है कि क्षत्रिय जातियों के मामले में ऐसा नहीं होता। जाटों का उदाहरण लीजिए। लोकसभा चुनाव के कुछ समय पहले, केन्द्र की कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने जल्दबाजी में जाटों के जमींदार समुदाय को ओबीसी का दजाज़् दे दिया। यह स्पष्ट था कि यह निर्णय वोटों की खातिर लिया गया था। राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और उत्तरप्रदेश जैसे महत्वपूर्ण राज्यों में कई ऐसे संसदीय क्षेत्र हैं जिन्हें जाट मतों के सहारे जीता जा सकता है। अत: यह अपेक्षा थी कि कांग्रेस इन चार राज्यों में 50 से अधिक सीटें जीतेगी। हो सकता है कि तथाकथित मोदी सुनामी के चलते, इन सीटों की संख्या में कुछ कमी आ जाती, परंतु फिर भी, कांग्रेस को कम से कम 30 सीटें तो जीतनी ही थीं। जब नतीजे आए तो पता चला कि कांग्रेस इन चार राज्यों में केवल 5 सीटें जीत सकी है और राजस्थान में तो उसे एक भी सीट नहीं मिली। यूपीए के जाट क्षत्रप अजीत सिंह मुंह के बल गिरे।

कांग्रेस को इस निर्णय से लाभ की बजाय नुकसान हुआ क्योंकि इससे ओबीसी नाराज हो गए थे। इन चारों राज्यों में, यादवों को छोड़कर, अन्य सभी ओबीसी जातियों ने कांग्रेस को सबक सिखाने के लिए भाजपा को वोट दिया। इससे यह साबित होता है कि भले ही किसी जाति या समुदाय का आकार, किसी सरकार को पुनर्निर्वाचित करने के लिए ‘पर्याप्त हो, तब भी, आक्रोशित और एकसूत्र में बंधे ओबीसी, चुनाव में जीत-हार का या शायद एकमात्र कारक बन सकते हैं। चूंकि वे आबादी का 52 प्रतिशत हैं इसलिए कोई भी अन्य समुदाय संख्याबल में उनका मुकाबला नहीं कर सकता।

कांग्रेस-एनसीपी की आमचुनाव में हार का सच

महाराष्ट्र के कुछ ओबीसी संगठनों और बुद्धिजीवियों ने ‘ओबीसी आरक्षण बचाओ समिति’ का गठन किया। इस समिति ने मराठा और ओबीसी आरक्षण के मुद्दे के उचित समाधान की मांग को लेकर 9 अप्रैल 2013 को मुंबई के आजाद मैदान में एक-दिवसीय धरने का आयोजन किया। समिति की ओर से मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, समाज कल्याण मंत्री व नारायण राणे समिति को औपचारिक रूप से एक पत्र सौंपा गया जिसमें इस समस्या के हल सुझाए गए थे। परंतु आज तक सरकार ने इस समिति के सदस्यों को चर्चा के लिए आमंत्रित करना तक जरूरी नहीं समझा है।

ऐसा कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में मराठा समुदाय ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को वोट नहीं दिया। परंतु यह सही नहीं है। महाराष्ट्र में 2009 के लोकसभा चुनाव की तुलना में, कांग्रेस के वोटों के प्रतिशत में मात्र 1.51 की कमी आई और एनसीपी को पिछली बार की तुलना में केवल 3.28 प्रतिशत कम मत प्राप्त हुए। अगर मराठा समुदाय ने गठबंधन का साथ न दिया होता तो उसे इससे बहुत कम मत मिलते क्योंकि स्वयं मराठा संगठनों के अनुसार, मराठा (कुनबी को छोड़कर), कुल मतदाताओं का 20 प्रतिशत हैं। नारायण राणे समिति के अनुसार यह आंकड़ा 32 प्रतिशत है परंतु असल में मराठा, आबादी का लगभग 12 प्रतिशत होंगे।

लोकसभा चुनाव के पहले सभी प्रमुख मराठा संगठन एकजुट हुए और उनके नेताओं ने मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री से भेंट कर उन्हें यह आश्वासन दिया कि चुनाव में मराठा समुदाय, सत्ताधारी गठबंधन का समथज़्न करेगा। यही नहीं, इन संगठनों ने एक प्रेसवार्ता आयोजित कर यह सार्वजनिक घोषणा भी की कि वे कांग्रेस एनसीपी गठबंधन का साथ देंगे। इसलिए यह मानना अनुचित होगा कि मराठाओं ने लोकसभा चुनाव में गठबंधन का साथ नहीं दिया। यह भी कहा जा रहा है कि चूंकि महाराष्ट्र में गठबंधन 15 साल से लगातार शासन में है अत: सरकार विरोधी लहर के कारण उसे हार का मुंह देखना पड़ा। सच यह है कि इस कारक ने चुनाव नतीजों पर बहुत कम प्रभाव डाला।
गठबंधन की हार का सबसे महत्वपूणज़् कारण था जाट और मराठा आरक्षण के मुद्दे पर अवांछित आक्रामकता, जिसके कारण ओबीसी गठबंधन से दूर हो गए। भाजपा को ओबीसी में व्याप्त असंतोष का अंदाजा था और इसलिए उसने शुरुआत से ही मोदी के ओबीसी होने का प्रचार किया। ओबीसी अपने समुदाय के सदस्य को देश के सर्वोच्च’ पद पर आसीन देखना चाहते थे और इसलिए उन्होंने भावनाओं में बहकर भाजपा को वोट दिया।


2014 लोकसभा चुनाव में ओबीसी ने कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को वोट क्यों नहीं दिया

(ए) केन्द्र की यूपीए सरकार ने जाटों के जमींदार समुदाय को ओबीसी का दर्जा दिया।

(बी) उन्हें डर था कि मराठाओं को भी ओबीसी में शामिल कर लिया जाएगा।

(सी) यद्यपि ओबीसी को पदोन्नति में आरक्षण देने का प्रस्ताव विधानसभा ने 2005 में पारित कर दिया था तथापि इस संबंध में आवश्यक आदेश आज तक जारी नहीं किए गए हैं। यह सबसे बड़ा कारण था।

(डी) ओबीसी विद्यार्थियों को फीस में मिलने वाली 50 प्रतिशत छूट को पिछले वर्ष अचानक समाप्त कर दिया गया। इस कारण कई अभिभावकों को फीस चुकाने के लिए कर्ज लेने पड़े और कई विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोडऩी पड़ी।

(इ) 6 आदिवासी बहुल जिलों धुले, चंद्रपुर, गढचिरौली, यवतमाल, नासिक व ठाणे में ओबीसी का आरक्षण कोटा कम कर आदिवासियों को आरक्षण दे दिया गया।

(एफ ) ओबीसी युवाओं में स्वरोजगार को प्रोत्साहन देने के लिए ओबीसी निगम की स्थापना की गई परंतु पिछले चार सालों से यह निगम कोई काम नहीं कर रहा है।

(जी) तीसरे लिंग के सदस्यों को ओबीसी कोटे में आरक्षण देना गठबंधन के लिए घातक साबित हुआ।


ओबीसी आरक्षण बचाओ

ओबीसी आरक्षण बचाओ समिति, जाटों और मराठाओं के लिए आरक्षण के खिलाफ नहीं है। हमने यह साफ कर दिया है कि हमारी आपत्ति आरक्षण देने की प्रक्रिया को लेकर है। हमारी मांग है कि मराठा समुदाय को अलग से, आबादी में उसके अनुपात के अनुसार, आरक्षण दिया जाए। और यह करना बहुत मुश्किल नहीं है। पिछले छह सालों से ओबीसी संगठनों की ओर से समिति, मराठा नेताओं को ‘सरकार द्वारा स्वीकृत’ समाधान सुझाती आ रही है। उच्चतम न्यायालय के एक निर्णय के अनुसार, कुल आरक्षण 50 प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकता। इसलिए कुछ लोगों का तकज़् है कि मराठा समुदाय को अलग से आरक्षण देना संभव नहीं है। इस समस्या का हल यह है कि आरक्षण पर लगी 50 प्रतिशत की सीमा को हटाया जाए। आगामी विधानसभा सत्र में महाराष्ट्र सरकार इस आशय का विधेयक पास कर सकती है और 2005 की नच्चियापन समिति की सिफारिशें लागू कर सकती हैं। 50 प्रतिशत की सीमा हटने के बाद मराठाओं, जाटों, मुसलमानों और ईसाईयों को ‘विशेष पिछड़ा वर्ग’ का दर्जा दिया जा सकता है।

यह करने के बाद, कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को विधानसभा चुनाव के पहले अपने किसी ओबीसी नेता को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो शायद यह गठबंधन अगले पांच सालों के लिए फि र से सत्ता में आ जाएगा।

 

(फारवर्ड प्रेस के सितम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

महिषासुर : मिथक व परंपराए

चिंतन के जन सरोकार 

About The Author

Reply