h n

अछूत की शिकायत

बभने के लेखे हम भिखिया न मांगबजा, ठकुरे के लेखे नाहि लउरि चलाइबि। सहुआ के लेखे नाहि डांडी हम मारबजां,अहिरा के लेखे नहि गैया चोराइबि

हमनी के राति दिन दुखवा भोगत बानी,
हमनी के सहेबे से मिनति सुनाइबि।
हमनी के दुख भगवनओं न देखताजे
हमनी के कबले कलेसबा उठाइबि।
पदरी सहेब के कचहरी में जाइबिजां
बेधरम होके रंगरेज बनिजाइबि।
हाय राम! धरम न छोडत बनत बाजे,
बेधरम होके कैसे मुंहवा देखाइबि

खम्भवा के फारि पह्लाद के बचवले जां,
ग्राह के मुंहे से गजराज के बचवले
धोती जुरजोधना कै भइआ छोरत रहै
परगट होके तहां कपडा बढवले।
मरले रवनवां के पलले भभिखना के
कानी अंगुरी पै धैके पथरा उठवले
कहंवा सुतल बाटे सुनत न बाटे अब
डोम ज़ानि हमनी के छुए से डेरइले

हमनी के राति दिन मेहनत करीलेजां,
दुईगो रूपयवा दरमाह में पाइबि।
ठकुरे के सुखसेत घर में सुतल बानीं,
हमनी के जोति जोति खेतिया कमाइबि।
हकीमे के लसकरी उतरल बानि,
जेत उंहवो बेगरिया में पकरल जाइबि।
मुंह बान्हि ऐसन नोकरिया करत बानीं,

इ कुलि खबरि सरकार के सुनाइबि

बभने के लेखे हम भिखिया न मांगबजा,
ठकुरे के लेखे नाहि लउरि चलाइबि।
सहुआ के लेखे नाहि डांडी हम मारबजां,
अहिरा के लेखे नहि गैया चोराइबि।
भटउ के लेखे न कवित्त हम जोरबजां,
पगड़ी न बान्हि के कचहरी में जाइबि।
अपने पसीनवां कै पइसा कमाइबजां
घर भर मिलि जुली बांटी चोटी खाइबि।

हडवा मसुइया के देहइया है हमनी कै,
ओकरे के देहिया बभनो के बानि।
ओकरा के घरे-घरे पुजवा होखत बाजे,
सगरे इलकवा भईले जजमानी।
हमनी के इनरवा के निगिचे न जाइले जा,
पांके में से भरि भरि पिअतानी पानी
पनही से पिटी पिटी हाथ गोड तुडि दैलें
हमनी के इतनी काहे के हलकानि!

यह कविता महावीर प्रसाद द्विवेदी द्वारा संपादित ‘सरस्वती’ (सितंबर1914, भाग 15, खंड 2, पृष्ठ संख्या 512-513) में प्रकाशित हुई थी।

(फारवर्ड प्रेस के नवम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

लेखक के बारे में

हीरा डोम

संबंधित आलेख

दलित स्त्री विमर्श पर दस्तक देती प्रियंका सोनकर की किताब 
विमर्श और संघर्ष दो अलग-अलग चीजें हैं। पहले कौन, विमर्श या संघर्ष? यह पहले अंडा या मुर्गी वाला जटिल प्रश्न नहीं है। किसी भी...
व्याख्यान  : समतावाद है दलित साहित्य का सामाजिक-सांस्कृतिक आधार 
जो भी दलित साहित्य का विद्यार्थी या अध्येता है, वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे बगैर नहीं रहेगा कि ये तीनों चीजें श्रम, स्वप्न और...
‘चपिया’ : मगही में स्त्री-विमर्श का बहुजन आख्यान (पहला भाग)
कवि गोपाल प्रसाद मतिया के हवाले से कहते हैं कि इंद्र और तमाम हिंदू देवी-देवता सामंतों के तलवार हैं, जिनसे ऊंची जातियों के लोग...
दुनिया नष्ट नहीं होगी, अपनी रचनाओं से साबित करते रहे नचिकेता
बीते 19 दिसंबर, 2023 को बिहार के प्रसिद्ध जन-गीतकार नचिकेता का निधन हो गया। उनकी स्मृति में एक शोकसभा का आयोजन किया गया, जिसे...
आंबेडकर के बाद अब निशाने पर कबीर
निर्गुण सगुण से परे क्या है? इसका जिक्र कर्मेंदु शिशिर ने नहीं किया। कबीर जो आंखिन-देखी कहते हैं, वह निर्गुण में ही संभव है,...