h n

दलित से दुर्व्यवहार करने वाले युवकों पर प्रकरण दर्ज

तमिलनाडु पुलिस ने मदुरई के सबतुर में तीन युवकों के खिलाफ एक दलित को जाति के आधार पर अपमानित करने के आरोप में अनुसूचित जाति व जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के तहत प्रकरण दर्ज किया है

tamilमदुरै। तमिलनाडु पुलिस ने मदुरई के सबतुर में तीन युवकों के खिलाफ एक दलित को जाति के आधार पर अपमानित करने के आरोप में अनुसूचित जाति व जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। मंगलरेव गांव के 21 वर्षीय दलित टी. राजापंडी, उस बॉलीवाल टीम के कप्तान थे, जिसने परासक्थी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में कूडीसेरी पंचायत द्वारा आयोजित बॉलीवाल प्रतियोगिता में विजय प्राप्त की। हारने वाली टीम ने इस निर्णय को स्वीकार करने से इंकार कर दिया और विजयी टीम से भिड़ गई। राजापंडी का दावा है कि दूसरी टीम के तीन खिलाडिय़ों-एस. आनंधन, एस. पालपंडी व पी. माथन-ने उनकी जाति के आधार पर उन्हें अपमानित किया। राजापंडी की शिकायत पर सिंधुपड्डी पुलिस ने तीनों युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, जिसकी जांच जारी है।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

मध्य प्रदेश : विकास से कोसों दूर हैं सागर जिले के तिली गांव के दक्खिन टोले के दलित-आदिवासी
बस्ती की एक झोपड़ी में अनिता रहती हैं। वह आदिवासी समुदाय की हैं। उन्हें कई दिनों से बुखार है। वह कहतीं हैं कि “मेरी...
विस्तार से जानें चंद्रू समिति की अनुशंसाएं, जो पूरे भारत के लिए हैं उपयोगी
गत 18 जून, 2024 को तमिलनाडु सरकार द्वारा गठित जस्टिस चंद्रू समिति ने अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री एमके स्टालिन को सौंप दी। इस समिति ने...
नालंदा विश्वविद्यालय के नाम पर भगवा गुब्बारा
हालांकि विश्वविद्यालय द्वारा बौद्ध धर्म से संबंधित पाठ्यक्रम चलाए जा रहे हैं। लेकिल इनकी आड़ में नालंदा विश्वविद्यालय में हिंदू धर्म के पाठ्यक्रमों को...
लाला हरदयाल का दृष्टि दोष (संदर्भ : भगत सिंह के दस्तावेज)
ऐसा क्या कारण था कि भारतीय समाज-व्यवस्था को जितनी गहराई से पेरियार रामासामी नायकर और डॉ. आंबेडकर जैसे दलित-बहुजन विचारकों ने समझा, उतनी गहराई...
दुखद है सैकड़ों का जीवन सुखमय बनानेवाले कबीरपंथी सर्वोत्तम स्वरूप साहेब की उपेक्षा
सर्वोत्तम स्वरूप साहेब ने शिक्षा और समाजसेवा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देते हुए सद्गुरु कबीर साहेब के आदर्शों को साकार करने का एक...