h n

दलित से दुर्व्यवहार करने वाले युवकों पर प्रकरण दर्ज

तमिलनाडु पुलिस ने मदुरई के सबतुर में तीन युवकों के खिलाफ एक दलित को जाति के आधार पर अपमानित करने के आरोप में अनुसूचित जाति व जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के तहत प्रकरण दर्ज किया है

tamilमदुरै। तमिलनाडु पुलिस ने मदुरई के सबतुर में तीन युवकों के खिलाफ एक दलित को जाति के आधार पर अपमानित करने के आरोप में अनुसूचित जाति व जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। मंगलरेव गांव के 21 वर्षीय दलित टी. राजापंडी, उस बॉलीवाल टीम के कप्तान थे, जिसने परासक्थी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में कूडीसेरी पंचायत द्वारा आयोजित बॉलीवाल प्रतियोगिता में विजय प्राप्त की। हारने वाली टीम ने इस निर्णय को स्वीकार करने से इंकार कर दिया और विजयी टीम से भिड़ गई। राजापंडी का दावा है कि दूसरी टीम के तीन खिलाडिय़ों-एस. आनंधन, एस. पालपंडी व पी. माथन-ने उनकी जाति के आधार पर उन्हें अपमानित किया। राजापंडी की शिकायत पर सिंधुपड्डी पुलिस ने तीनों युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, जिसकी जांच जारी है।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

‘मैं धंधेवाली की बेटी हूं, धंधेवाली नहीं’
‘कोई महिला नहीं चाहती कि उसकी आने वाली पीढ़ी इस पेशे में रहे। सेक्स वर्कर्स भी नहीं चाहतीं। लेकिन जो समाज में बैठे ट्रैफिकर...
रेडलाइट एरिया के हम वाशिंदों की पहली जीत
‘बिहार में ज़्यादातर रेडलाइट ब्रोथल एरिया है। इसका मतलब लोग वहीं रहते हैं, वहीं खाते-पीते हैं, वहीं पर उनका पूरा जीवन चलता है और...
फुले, पेरियार और आंबेडकर की राह पर सहजीवन का प्रारंभोत्सव
राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के सुदूर सिडियास गांव में हुए इस आयोजन में न तो धन का प्रदर्शन किया गया और न ही धन...
भारतीय ‘राष्ट्रवाद’ की गत
आज हिंदुत्व के अर्थ हैं– शुद्ध नस्ल का एक ऐसा दंगाई-हिंदू, जो सावरकर और गोडसे के पदचिह्नों को और भी गहराई दे सके और...
जेएनयू और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के बीच का फर्क
जेएनयू की आबोहवा अलग थी। फिर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मेरा चयन असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर हो गया। यहां अलग तरह की मिट्टी है...