h n

बहुजन-विरोधी नीतियों के प्रति गुस्सा उबला

भूमि अधिग्रहण विधेयक 2015 के जरिये बिल्डरों और खनन कंपनियों को दलित-बहुजनों को उनके जीविकोपार्जन के साधनों से वंचित करने की खुली छूट देने की तैयारी है। नरेन्द्र मोदी सरकार के इन वर्गों को समाज की हाशिये पर खिसकाए जाने के प्रयासों के विरुद्ध दलित-बहुजन पिछले माह सड़क पर उतर आये

वर्ष 2014-15 के बजट से स्कूलों और विश्वविद्यालयों के अधिकांश दलित-बहुजनों की पहुँच से दूर हो जाने का खतरा उत्पन्न हो गया है । बजट में जहाँ छात्रवृत्तियों की संख्या घटाई गयी है, वहीं सर्वशिक्षा अभियान और मध्यान्ह भोजन योजना के लिए आवंटन कम किया गया है । दूसरी ओर भूमि अधिग्रहण विधेयक 2015 के जरिये बिल्डरों और खनन कंपनियों को दलित-बहुजनों को उनके जीविकोपार्जन के साधनों से वंचित करने की खुली छूट देने की तैयारी है। नरेन्द्र मोदी सरकार के इन वर्गों को समाज की हाशिये पर खिसकाए जाने के प्रयासों के विरुद्ध दलित-बहुजन पिछले माह सड़क पर उतर आये।

beena-arrest

img_4352

img_4393

पिछले 12 मार्च को जंतर मंतर, नई दिल्ली पर बहुजन विरोधी शिक्षा बजट के खिलाफ जन जुटान हुआ। मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति इरानी से मिलने का प्रयास करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता बीना पल्लिकल (उपर से बांए), अभय खाखा एन. पॉल. दिवाकर (नीचे से दाएं) की गिरफ्तारी की गई
पिछले 12 मार्च को जंतर मंतर, नई दिल्ली पर बहुजन विरोधी शिक्षा बजट के खिलाफ जन जुटान हुआ। मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति इरानी से मिलने का प्रयास करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता बीना पल्लिकल (उपर से बांए), अभय खाखा एन. पॉल. दिवाकर (नीचे से दाएं) की गिरफ्तारी की गई

 

jashpur

भूमि अधिग्रहण अध्यादेश की वापसी से कुछ कम स्वीकार नहीं : 15 मार्च 2015 को 20 हजार से अधिक आदिवासियों ने छत्तीसगढ़ के कांसाबेल [जशपुर] में विशाल रैली निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया।
भूमि अधिग्रहण अध्यादेश की वापसी से कुछ कम स्वीकार नहीं : 15 मार्च 2015 को 20 हजार से अधिक आदिवासियों ने छत्तीसगढ़ के कांसाबेल [जशपुर] में विशाल रैली निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया।

kolhan1

 

भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ 'विस्थापन विरोधी एकता मंच' के बैनर तले 15 मार्च 2015 को झारखण्ड के कोल्हान अंतर्गत तेतला से हाता के बीच मूलवासियों-आदिवासियों ने विरोध रैली निकाला। प्रदर्शनकारियों का नारा था — 'लोहा नहीं अनाज चाहिए, खेती का विकास चाहिए'
भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ ‘विस्थापन विरोधी एकता मंच’ के बैनर तले 15 मार्च 2015 को झारखण्ड के कोल्हान अंतर्गत तेतला से हाता के बीच मूलवासियों-आदिवासियों ने विरोध रैली निकाला। प्रदर्शनकारियों का नारा था — ‘लोहा नहीं अनाज चाहिए, खेती का विकास चाहिए’

 

jays-kukshi1

17 मार्च 2015 को मध्य प्रदेश के धार जिले कुक्षी शहर में जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस) के आदिवासी युवाओं ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ विशाल महारैली निकाली
17 मार्च 2015 को मध्य प्रदेश के धार जिले कुक्षी शहर में जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस) के आदिवासी युवाओं ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ विशाल महारैली निकाली

(फारवर्ड प्रेस के अप्रैल, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

राजन कुमार

राजन कुमार फारवर्ड प्रेस के उप-संपादक (हिंदी) हैं

संबंधित आलेख

ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड : बिहार की भूमिहार राजनीति में फिर नई हलचल
भोजपुर जिले में भूमिहारों की राजनीति अब पहले जैसी नहीं रही। एक समय सुनील पांडे और उसके भाई हुलास पांडे की इस पूरे इलाके...
लोकसभा चुनाव के बाद उपचुनावों में भी मिली एनडीए को हार
अयोध्या लोकसभा क्षेत्र में हार के सदमे से अभी भाजपा उबरी भी नहीं थी कि उपचुनाव में बद्रीनाथ विधानसभा सीट हारने के बाद सोशल...
बिहार : दलितों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एससी की सूची से तांती-तंतवा बाहर
सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि वर्तमान मामले में राज्य की कार्रवाई दुर्भावनापूर्ण और सांविधानिक प्रावधानों के विरुद्ध पायी...
अयोध्या में राम के नाम पर जमीन की लूट
अयोध्या के सुरेश पासी बताते हैं कि “सारा धंधा नेताओं, अफसरों, और बड़े लोगों की मिलीभगत से चल रहा है। ग़रीब की कहीं कोई...
बिहार : राजपूतों के कब्जे में रूपौली, हारे ओबीसी, जिम्मेदार कौन?
भाजपा ऊंची जाति व हिंदू वर्चस्ववाद को बढ़ावा देने वाली पार्टी के रूप में मानी जाती है। उसका राजनीतिक कार्य व व्यवहार इसी लाइन...