h n

ओबीसी उपन्यासकार को ज्ञानपीठ सम्मान

मराठी लेखक भालचंद्र नेमाडे को वर्ष 2014 के ज्ञानपीठ पुरस्कार के लिए चुना गया है। नेमाडे का जन्म 1938 में महाराष्ट्र के ओबीसी (लेवा पाटीदार) किसान परिवार में हुआ था। 1963 में केवल 35 वर्ष की आयु में प्रकाशित 'कोसला' नामक उपन्यास से उन्हें अपार प्रसिद्धी मिली

img_20141008_155116मराठी लेखक भालचंद्र नेमाडे को वर्ष 2014 के ज्ञानपीठ पुरस्कार के लिए चुना गया है। नेमाडे का जन्म 1938 में महाराष्ट्र के ओबीसी (लेवा पाटीदार) किसान परिवार में हुआ था। 1963 में केवल 35 वर्ष की आयु में प्रकाशित ‘कोसला’ नामक उपन्यास से उन्हें अपार प्रसिद्धी मिली। सन 1991 में उनकी कृति ‘टीकास्वयंवर’ के लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। अपने साहित्य को सही मायनों में देशी-देहाती स्वर देने वाले वे माराठी के एकमात्र लेखक है। ब्राह्मणवाद के विरोध के प्रति उनकी संपूर्ण प्रतिबद्धता रही है। राम-कृष्ण, पेशवाई और ब्राह्मणवाद के खिलाफ जितना उन्होंने बोला और लिखा है, उतना शायद ही किसी अन्य मराठी लेखक ने किया होगा। उनका उपन्यास ‘हिन्दू’ इस धर्म की खामियों की तीखी आलोचना प्रस्तुत करता है। उपन्याास के अतिरिक्त कविता और आलोचना के क्षेत्र में भी नेमाडे के योगदान को बहुत प्रतिष्ठा से देखा जाता  है। – श्रवण देवरे

इंसानी ज्ञान और इतिहास का दस्तावेज हैं आदिम आदिवासी कलाएं

आदिम जनजातीय समुदायों की कला परंपरा पर केन्द्रित दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन 3-4 फरवरी को रांची में संपन्न हुआ। इस कार्यशाला में राज्य के 12 जिलों से नौ आदिम जनजातीय समुदायों के 34 कलाकारों ने भाग लिया। इसका आयोजन प्यारा केरकेट्टा फाउंडेशन के द्वारा होटवार स्थित रामदयाल मुंडा कला भवन में किया गया।

img_1028

img_1053

img_1184

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

फारवर्ड प्रेस

संबंधित आलेख

संविधान-निर्माण में डॉ. आंबेडकर की भूमिका
भारतीय संविधान के आलोचक, ख़ास तौर से आरएसएस के बुद्धिजीवी डॉ. आंबेडकर को संविधान का लेखक नहीं मानते। इसके दो कारण हो सकते हैं।...
पढ़ें, शहादत के पहले जगदेव प्रसाद ने अपने पत्रों में जो लिखा
जगदेव प्रसाद की नजर में दलित पैंथर की वैचारिक समझ में आंबेडकर और मार्क्स दोनों थे। यह भी नया प्रयोग था। दलित पैंथर ने...
राष्ट्रीय स्तर पर शोषितों का संघ ऐसे बनाना चाहते थे जगदेव प्रसाद
‘ऊंची जाति के साम्राज्यवादियों से मुक्ति दिलाने के लिए मद्रास में डीएमके, बिहार में शोषित दल और उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय शोषित संघ बना...
‘बाबा साहब की किताबों पर प्रतिबंध के खिलाफ लड़ने और जीतनेवाले महान योद्धा थे ललई सिंह यादव’
बाबा साहब की किताब ‘सम्मान के लिए धर्म परिवर्तन करें’ और ‘जाति का विनाश’ को जब तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने जब्त कर लिया तब...
जननायक को भारत रत्न का सम्मान देकर स्वयं सम्मानित हुई भारत सरकार
17 फरवरी, 1988 को ठाकुर जी का जब निधन हुआ तब उनके समान प्रतिष्ठा और समाज पर पकड़ रखनेवाला तथा सामाजिक न्याय की राजनीति...