h n

पदोन्नति में आरक्षण की मांग को लेकर जम्मू में रैली

सरकार पर पदोन्नति में आरक्षण तुरन्त लागू करने के लिए दबाव बनाने हेतु एक रैली जम्मू प्रेस क्लब के नज़दीक डोगरा चौक से 26 जून 2016 को 10 बजे शुरु होगी

?

कठुआ: आल इंडिया कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ एससी/एसटी/ओबीसी ऑर्गनाइजेशन के कठुआ चैप्टर ने एससी/एसटी/ओबीसी/आरबीए (पिछड़े इलाकों के रहवासी)/एएलसी (वास्तविक नियंत्रण रेखा से सटे इलाके के रहवासी) को पदोन्नति में आरक्षण के ज्वलंत मुद्दे और पर इस पर जम्मू-कश्मीर विधानसभा में हुई चर्चा पर विचार करने के लिए युवाओं की संगोष्ठी आयोजित की।  अपने संबोधन में रोशन चौधरी ने राज्य सरकार पर पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था तुरंत फिर से लागू करने के लिए दबाव बनाने हेतु एक और रैली आयोजित करने के निर्णय की सराहना की। उन्होंने सदस्यों से अपील की कि वे कठुआ से रैली में भाग लेने के लिए अधिक से अधिक संख्या में लोगों को भेजें। रैली 26 जून को सुबह 10 बजे प्रेस क्लब, जम्मू के पास स्थित डोगरा चौक से शुरू होगी।

कॉन्फ़ेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष आरके कल्सोत्रा ने कहा कि संगठन तब तक अपनी लड़ाई जारी रखेगा जब तक कि सरकार अपना निर्णय वापस नहीं ले लेती परन्तु इसके लिए रैली में शक्ति प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने सदस्यों से कहा कि वे लोगों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर उनसे अनुरोध करें कि वे रैली में भाग लें। उन्होंने कहा कि कॉन्फ़ेडरेशन राज्य में 77वें, 81वें, 82वें और 85वें संविधान संशोधन लागू करवाने के लिए प्रतिबद्ध है। जिन लोगों ने 26 जून की रैली में हिस्सेदारी करने और अन्यों को इसमें भाग लेने के लिए प्रेरित करने की घोषणा की उनमें नव चेतन, अजीत कुमार, ललित कुमार, मनोज कुमार, गायत्री नंदन, मनोहर लाल, श्याम लाल, देविंदर पल, किशोरे कुमार, अंकुश कुमार और नरेश कुमार शामिल हैं। देव राज सोनी ने धन्यवाद ज्ञापन दिया और जोर देकर कहा कि सभी को रैली में भाग लेकर सरकार पर दबाव बनाना चाहिए कि वह उनके अधिकार उन्हें दे। उन्होंने कर्मचारियों, सामाजिक, धार्मिक, विद्यार्थी व गैर-सरकारी संगठनों सहित राजनैतिक दलों के सदस्यों को रैली में भाग ले लेकर उसे सफल और शांतिपूर्ण बनाने का आह्वान किया।

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

अठारहवीं लोकसभा के पहले सत्र का हासिल
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कोई घंटा ख़ाली नहीं गया जब संविधान का ज़िक्र न हुआ हो। इस दौरान...
हाथरस हादसे की जाति और राजनीति
सूरजपाल सिंह नारायण साकार हरि उर्फ भोले बाबा जाति से जाटव है। उसके भक्तों में भी अधिकांश या तो जाटव हैं या फिर अति-पिछड़े...
पश्चिमी उत्तर प्रदेश : चुनाव में अगर ऐसा होता तो क्या होता, मगर वैसा होता तो क्या होता?
एनडीए यहां पर अपनी जीत को लेकर अति-आत्मविश्वास में था जबकि इंडिया गठबंधन के कार्यकर्ता तक़रीबन हतोत्साहित थे। हालात ऐसे थे कि चुनाव सिर...
विस्तार से जानें चंद्रू समिति की अनुशंसाएं, जो पूरे भारत के लिए हैं उपयोगी
गत 18 जून, 2024 को तमिलनाडु सरकार द्वारा गठित जस्टिस चंद्रू समिति ने अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री एमके स्टालिन को सौंप दी। इस समिति ने...
‘दी इन्कार्सरेशंस’ : भीमा-कोरेगांव के कैदी और भारत का ‘डीप स्टेट’
अल्पा शाह ने पिछले 4 सालों से जेल में बंद दिल्ली में अंग्रेजी के प्रोफेसर और दलितों-आदिवासियों-पिछड़ों के अधिकारों के लिए लड़नेवाले एक्टिविस्ट हैनी...