h n

पदोन्नति में आरक्षण की मांग को लेकर जम्मू में रैली

सरकार पर पदोन्नति में आरक्षण तुरन्त लागू करने के लिए दबाव बनाने हेतु एक रैली जम्मू प्रेस क्लब के नज़दीक डोगरा चौक से 26 जून 2016 को 10 बजे शुरु होगी

?

कठुआ: आल इंडिया कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ एससी/एसटी/ओबीसी ऑर्गनाइजेशन के कठुआ चैप्टर ने एससी/एसटी/ओबीसी/आरबीए (पिछड़े इलाकों के रहवासी)/एएलसी (वास्तविक नियंत्रण रेखा से सटे इलाके के रहवासी) को पदोन्नति में आरक्षण के ज्वलंत मुद्दे और पर इस पर जम्मू-कश्मीर विधानसभा में हुई चर्चा पर विचार करने के लिए युवाओं की संगोष्ठी आयोजित की।  अपने संबोधन में रोशन चौधरी ने राज्य सरकार पर पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था तुरंत फिर से लागू करने के लिए दबाव बनाने हेतु एक और रैली आयोजित करने के निर्णय की सराहना की। उन्होंने सदस्यों से अपील की कि वे कठुआ से रैली में भाग लेने के लिए अधिक से अधिक संख्या में लोगों को भेजें। रैली 26 जून को सुबह 10 बजे प्रेस क्लब, जम्मू के पास स्थित डोगरा चौक से शुरू होगी।

कॉन्फ़ेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष आरके कल्सोत्रा ने कहा कि संगठन तब तक अपनी लड़ाई जारी रखेगा जब तक कि सरकार अपना निर्णय वापस नहीं ले लेती परन्तु इसके लिए रैली में शक्ति प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने सदस्यों से कहा कि वे लोगों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर उनसे अनुरोध करें कि वे रैली में भाग लें। उन्होंने कहा कि कॉन्फ़ेडरेशन राज्य में 77वें, 81वें, 82वें और 85वें संविधान संशोधन लागू करवाने के लिए प्रतिबद्ध है। जिन लोगों ने 26 जून की रैली में हिस्सेदारी करने और अन्यों को इसमें भाग लेने के लिए प्रेरित करने की घोषणा की उनमें नव चेतन, अजीत कुमार, ललित कुमार, मनोज कुमार, गायत्री नंदन, मनोहर लाल, श्याम लाल, देविंदर पल, किशोरे कुमार, अंकुश कुमार और नरेश कुमार शामिल हैं। देव राज सोनी ने धन्यवाद ज्ञापन दिया और जोर देकर कहा कि सभी को रैली में भाग लेकर सरकार पर दबाव बनाना चाहिए कि वह उनके अधिकार उन्हें दे। उन्होंने कर्मचारियों, सामाजिक, धार्मिक, विद्यार्थी व गैर-सरकारी संगठनों सहित राजनैतिक दलों के सदस्यों को रैली में भाग ले लेकर उसे सफल और शांतिपूर्ण बनाने का आह्वान किया।

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

आदिवासियों की अर्थव्यवस्था की भी खोज-खबर ले सरकार
एक तरफ तो सरकार उच्च आर्थिक वृद्धि दर का जश्न मना रही है तो दूसरी तरफ यह सवाल है कि क्या वह क्षेत्रीय आर्थिक...
विश्व के निरंकुश देशों में शुमार हो रहा भारत
गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय, स्वीडन में वी-डेम संस्थान ने ‘लोकतंत्र रिपोर्ट-2024’ में बताया है कि भारत में निरंकुशता की प्रक्रिया 2008 से स्पष्ट रूप से शुरू...
मंडल-पूर्व दौर में जी रहे कांग्रेस के आनंद शर्मा
आनंद शर्मा चाहते हैं कि राहुल गांधी भाजपा की जातिगत पहचान पर आधारित राजनीति को पराजित करें, मगर इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की...
‘मैं धंधेवाली की बेटी हूं, धंधेवाली नहीं’
‘कोई महिला नहीं चाहती कि उसकी आने वाली पीढ़ी इस पेशे में रहे। सेक्स वर्कर्स भी नहीं चाहतीं। लेकिन जो समाज में बैठे ट्रैफिकर...
एक शाम जेएनयू छात्रसंघ के नवनिर्वाचित सदस्यों के साथ
छात्रसंघ के लिए यह इम्तहान का वक़्त है कि वह कैसे हठधर्मी प्रशासन से लड़ेगा? कैंपस के छात्रों ने इस बात पर मायूसी ज़ाहिर...