h n

थेरी : मुक्ति मार्ग पर स्त्री

कड़े नियमों के बावजूद बड़े पैमाने पर स्त्रियाँ बौद्ध संघों में आईं। बौद्ध भिक्षुणी थेरी कहलाती थीं। संघ में आकर उन्होंने खुद को कई सामाजिक प्रतिबंधों से मुक्त पाया।

बुद्ध ने बड़ी मुश्किल से संघों में स्त्रियों के प्रवेश की अनुमति दी। संघ में आने वाली स्त्रियों के लिए कड़े नियम लागू किये गए। इन नियमों में एक नियम था कि किसी भी आयु की बौद्ध भिक्षुणी के लिए युवा बौद्ध भिक्षु को सम्मान देना होगा और उसके आने पर खडा होना होगा। कड़े नियमों के बावजूद बड़े पैमाने पर स्त्रियाँ बौद्ध संघों में आईं। बौद्ध भिक्षुणी थेरी कहलाती थीं। संघ में आकर उन्होंने खुद को कई सामाजिक प्रतिबंधों से मुक्त पाया। उन्होंने कविताओं में इस मुक्ति के गीत लिखे, जिनके संग्रह को थेरी गाथा कहा जाता है। थेरी गाथा बहुजन साहित्य की अपूर्व थाती हैं।

भिक्षुणियां भिन्न-भिन्न जाति-कुलों की थीं। उदाहरणत: पूर्णिका दासी पुत्री थी। शुभा, सुनार की पुत्री और चापा एक बहेलिए की लड़की थी। अड्ढ-काशी, अभय-माता, विमला और अम्बपाली जैसी गणिकाएँ भी थीं। गृहपति और वैश्य (सेठ) वर्ग की महिलाओं में पर्णा, चित्रा और अनोपमा थी। मैत्रिका, अमतरा, उत्तमा, चन्दा, गुप्ता, दन्तिका और सोमा ब्राह्मण-वंश की थीं। खेमा, सुमना, शैला और सुमेध; कोसल, मगध और आलवी राजवंशों की महिलायें थीं। महाप्रजापती गौतमी, तिष्या, अभिरूपा नन्दा, आदि सामन्तों की लड़कियां थीं।

सभी पेंटिंग्स डॉ. लाल रत्नाकर की

 

 

(फारवर्ड प्रेस के मई 2016 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

लाला हरदयाल का दृष्टि दोष (संदर्भ : भगत सिंह के दस्तावेज)
ऐसा क्या कारण था कि भारतीय समाज-व्यवस्था को जितनी गहराई से पेरियार रामासामी नायकर और डॉ. आंबेडकर जैसे दलित-बहुजन विचारकों ने समझा, उतनी गहराई...
दुखद है सैकड़ों का जीवन सुखमय बनानेवाले कबीरपंथी सर्वोत्तम स्वरूप साहेब की उपेक्षा
सर्वोत्तम स्वरूप साहेब ने शिक्षा और समाजसेवा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देते हुए सद्गुरु कबीर साहेब के आदर्शों को साकार करने का एक...
हिजाब और अशराफ़िया पितृसत्ता
पूरी अशराफ़िया राजनीति ज़ज़्बाती मुद्दों की राजनीति रही है। सैकड़ों सालों से यह अपनी संस्कृति, अपनी भाषा, अपने पहनावे को पूरे मुस्लिम समाज की...
राजनीति की बिसात पर धर्म और महिलाएं
पिछले सौ सालों में समाज और परिवेश धीरे-धीरे बदला है। स्त्रियां घर से बाहर निकलकर आत्मनिर्भर हुई हैं, पर आज भी पढ़ी-लिखी स्त्रियों का...
भगत सिंह की दृष्टि में सांप्रदायिक दंगों का इलाज
भगत सिंह का यह तर्क कि भूख इंसान से कुछ भी करा सकती है, स्वीकार करने योग्य नहीं है। यह गरीबों पर एक ऐसा...