h n

मुझे जनता ने बाबा साहेब के संविधान की रक्षा के लिए चुना है : भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले

सुप्रीम कोर्ट की एक खंडपीठ द्वारा एससी/एसटी एक्ट के संदर्भ में दिये गये एक फैसले के विरोध में सत्तारूढ भाजपा में भी बगावती स्वर तेज हो गये हैं। उत्तरप्रदेश के बहराइच सुरक्षित लोकसभा क्षेत्र की भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले यह मानती हैं कि वे किसी पार्टी के लिए नहीं बल्कि संविधान की रक्षा के लिए संसद में हैं। फारवर्ड प्रेस के संपादक (हिंदी) नवल किशोर कुमार ने उनसे बातचीत की। प्रस्तुत है बातचीत का संपादित अंश :

सावित्री जी, एससी/एसटी एक्ट के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के फैसला आया है। इससे दलितों और आदिवासियों की चिंता बढ़ गयी है। वे सशंकित हो गये हैं। आपने भी विरोध किया है। आपके विरोध की वजह क्या है?

देखिए, भारत के संविधान द्वारा प्रदत्त आरक्षण के तहत बहराइच लोकसभा सीट से मैं सांसद बन कर आई हूँ। और मेरी जिम्मेदारी बनती है कि भारत के संविधान में जो दी गई व्यवस्था है, यदि उसके साथ छेड़छाड़ हो तो विरोध करूं। भारत का संविधान पूरी तरह से लागू हो। आए दिन कुछ न कुछ बयानबाजी होती है। कभी कहा जा रहा है कि हम संविधान को बदलने आए हैं। कभी कहा जा रहा है कि हम भारत के संविधान की समीक्षा करेंगे। कभी कहा जा रहा है कि हम संविधान आरक्षण को खत्म कर देंगे। यह भी कहा जा रहा है कि हम इसकी हालत ऐसी कर देंगे कि रहना या न रहना बराबर हो। मैं मानती हूं कि अगर हमारा आरक्षण और संविधान खत्म हुआ, तो हमारे बहुजन समाज का अधिकार खत्म हो जाएगा। मैं सुरक्षित सीट से सांसद बन कर आई हूँ।  मेरी जिम्मेदारी बनती है कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर जी के संविधान के साथ किसी प्रकार की छेड़छाड़ न हो और भारत का संविधान पूरी तरह से लागू हो।

लोकसभा में अपनी बात रखतीं सांसद सावित्री बाई फुले


क्या आप को लगता है कि ये जितनी बातें हो रही हैं, यह सब आरएसएस के कहने पर हो रही हैं?  

यह तो टीवी, रेडियो, अखबार के माध्यम से आपको देखने-सुनने और पढ़ने को मिलता होगा। आप लोग खुद जानते हैं और चाहते हैं कि संविधान के साथ किसी भी प्रकार का छेड़छाड़ न हो, और जो आरक्षण को पूर्णरूपेण लागू करने के संबंध में विधेयक लोकसभा में लंबित पड़े हैं, उन्हें मंजूरी मिलनी चाहिए। इसके अलावा प्रोन्नति में आरक्षण की नीति में साजिश की गयी है। इसके कारण जिन्हें प्रोमोशन मिलना चाहिए था उनका डिमोशन हो गया। सभी बहुजनों का पुनः उनका प्रमोशन होना चाहिए।

मैं मानती हूं कि भारत का संविधान दुनिया के संविधान में सबसे अच्छा संविधान है।  इसलिए भारत का संविधान पूरी तरीके से लागू जिस दिन कर देंगे, उस दिन भारत में चिराग उठाकर भी गरीब ढूँढेंगे तो नहीं मिलेंगे। इसलिए अनुसूचित, जाति अनुसूचित जनजाति और पिछड़ी जातियों के लिए जो संविधान में व्यवस्था है और जो आरक्षण दिया गया है। उसको पूरी तरह से लागू करना चाहिए।


ऐसा भी हो सकता है कि बीजेपी आपके खिलाफ अनुशासनहीनता का आरोप लगाए और आपको विरोध झेलना पड़े! क्या करेंगी आप?

देखिए, मैं कोई गलत काम नहीं कर रही हूँ। बहुजनों के हित की बात कर रही हूँ। बहुजन समाज जिसकी हिस्सेदारी सबसे अधिक है। संविधान में दिये गये आरक्षण के कारण ही आज आरक्षित वर्गों को आईएएस, आईपीएस, डॉक्टर, मास्टर, सांसद, विधायक जिला पंचायत सदस्य, ब्लॉक प्रमुख से लेकर मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक बनने का मौका मिल रहा है।  इसलिए भारत के संविधान में किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए। अगर छेड़छाड़ हुई तो बहुजन समाज का आरक्षण खत्म हो जाएगा।

बहराइच से भाजपा की सांसद सावित्री बाई फुले

आप यह मानती हैं कि बहुजनों के अधिकारों में कटौती की जा रही है। आप क्या करेंगी?

इस बात को मैं लोकसभा में निरंतर उठा रही हूँ, कि लोकसभा में भारत का संविधान पूरी तरह से लागू किया जाए। आरक्षण को पूरी तरह से लागू किया जाए।

यदि सरकार अपने रूख में बदलाव नहीं लाती है तो क्या करेंगी?

मैं तो सदन से सड़क तक लड़ रही हूँ भैया कि हम आरक्षण के तहत जीत कर आए हैं। हमारा संविधान पूरी तरीके से लागू करो।

मतलब आप हर तरह की लड़ाई लड़ेंगी?

मैं संविधान, आरक्षण को पूरी तरीके से लागू कराने के लिए लड़ाई लड़ रही हूँ। और हम चाहेंगे कि भारत की चाहे जो भी पार्टी हो, सभी लोगों को मिलकर संविधान को लागू कराना चाहिए। उसकी रक्षा करनी चाहिए।

तो क्या आप भी पार्टी लाइन से हटकर विरोध कर रही हैं?

संविधान को लेकर तो यह लड़ाई चल रही है। संविधान के तहत जो भी आदमी जीतकर सांसद, विधायक जाता है। चाहे जिस दल से लोग जीत कर जाते हैं, वे संविधान की शपथ लेते हैं कि हम संविधान के अनुसार हर काम करेंगे। तो हम संविधान के अनुसार ही काम करेंगे। संविधान के अनुसार ही देश का संचालन होता है। तो हम संविधान को लागू करने की ही बात कर रहे हैं। तो इसके लिए मेरे खिलाफ कार्यवाही होगी, तो इसका मतलब होगा कि संविधान का उल्लंघन हो रहा है।  हम कोई गलत काम तो नहीं कर रहे हैं। हम अपने अधिकार की बात कर रहे हैं। हम संविधान को लागू करने की बात ही तो कर रहे हैं, तो इसमें हमने क्या गलत कर दिया। इसलिए हम चाहते हैं कि आप लोग भी सब इसमें सहयोग करें। आप लोग भी संविधान को लागू करने की मांग कीजिए।

अापने फारवर्ड प्रेस से बातचीत की। इसके लिए आपके प्रति आभार

धन्यवाद। जय भीम भैया

(लिप्यांतर : पंडित प्रेम बरेलवी)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (दूसरा भाग)
मराठा आरक्षण आंदोलन पर आधारित आलेख शृंखला के दूसरे भाग में प्रो. श्रावण देवरे बता रहे हैं वर्ष 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण...
बहुजनों के वास्तविक गुरु कौन?
अगर भारत में बहुजनों को ज्ञान देने की किसी ने कोशिश की तो वह ग़ैर-ब्राह्मणवादी परंपरा रही है। बुद्ध मत, इस्लाम, अंग्रेजों और ईसाई...
अनुज लुगुन को ‘मलखान सिंह सिसौदिया सम्मान’ व बजरंग बिहारी तिवारी को ‘सत्राची सम्मान’ देने की घोषणा
डॉ. अनुज लुगुन को आदिवासी कविताओं में प्रतिरोध के कवि के रूप में प्रसिद्धि हासिल है। वहीं डॉ. बजरंग बिहारी तिवारी पिछले करीब 20-22...
ग्राम्शी और आंबेडकर की फासीवाद विरोधी संघर्ष में भूमिका
डॉ. बी.आर. आंबेडकर एक विरले भारतीय जैविक बुद्धिजीवी थे, जिन्होंने ब्राह्मणवादी वर्चस्व को व्यवस्थित और संरचनात्मक रूप से चुनौती दी। उन्होंने हाशिए के लोगों...
गोरखपुर : दलित ने किया दलित का उत्पीड़न, छेड़खानी और मार-पीट से आहत किशोरी की मौत
यह मामला उत्तर प्रदेश पुलिस की असंवेदनशील कार्यशैली को उजागर करता है, क्योंकि छेड़खानी व मारपीट तथा मौत के बीच करीब एक महीने के...