भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का एक प्रारंभिक आंदोलन जिसे आज तक चुहाड़ के अपशब्द से मुक्ति नहीं मिली

पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिले के जंगल महल में आदिवासियों द्वारा शोषक अंग्रेजों के खिलाफ छेड़े गये व्यापक जन विद्रोह को आज क्यों याद नहीं किया जाता? क्या यह ऐसा इसलिए है क्योंकि बंगाल के तथाकथित सवर्ण भद्रजन उन लोगों के नायकत्व को स्वीकार नहीं करना चाहते हैं जिन्हें वे आजतक पारंपरिक रूप से असभ्य, जंगली और शैतान मानते हैं

फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply