h n

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना : बीमा कंपनियों की चांदी, किसान हो रहे हैं परेशान

किसानों के लिए शुरू की गयी नयी बीमा योजना को सिर्फ विफल बताना इसमें हुई धोखाधड़ी पर पर्दा डालना है। इस योजना का लाभ पहुंचाने लक्ष्य जितने किसानों तक रखा गया था उसे पूरा नहीं किया गया, दावों को निपटाया नहीं गया, और मुख्य बात यह कि किसानों के बीमा के नाम पर करदाताओं की गाढ़ी कमायी के पैसे पहले से 4 सौ प्रतिशत अधिक खर्च किये गये हैं। लोकेश कुमार की रिपोर्ट :

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) 2016 के खरीफ सीजन से शुरू किया गया।  यह योजना किसानों को असामयिक और खराब मौसम की वजह से फसल के बरबाद होने से किसानों को बचाने के लिए शुरू की गयी थी।  इस योजना ने राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना की जगह ली और इसमें संशोधन किया। इस नयी योजना में मौसम-आधारित फसल बीमा योजना (डब्ल्यूबीसीआईएस) को नये रूप में लागू किया गया है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना : बीमा कंपनियों की चांदी, किसान हो रहे हैं परेशान

लेखक के बारे में

लोकेश कुमार

इंजीनियरिंग और बिजनेस मैजेमेंट के क्षेत्र में शिक्षा प्राप्त लोकेश कुमार ने कई वर्षों तक आईटी इंडस्ट्री में काम किया। इन दिनों वे भारतीय सिविल सर्विसेज़ की परीक्षा से संबंधित एक ऑनलाइन पोर्टल बनाने में जुटे हैं।

संबंधित आलेख

जातिगत जनगणना की आवश्यकता को स्थापित कर रही है वर्ल्ड इक्वलिटी लैब की अद्यतन रिपोर्ट
‘वर्ल्ड इक्वलिटी लैब’ की रपट एक बार फिर जातिगत व्यवस्था और अमीर-गरीब के बीच संबंधों की ओर स्पष्ट रूप से इशारा करती है। रपट...
लोकसभा चुनाव परिणाम ने स्पष्ट कर दिया है सामाजिक न्याय के एजेंडे का महत्व
इस बार सामाजिक न्याय केवल कुछ चेहरों के साथ और कुछ जातियों के अंकगणितीय जोड़ पर खड़ा नहीं हुआ, बल्कि वह व्यापक मुद्दों के...
सुरक्षित संविधान के अलावा वी.पी. सिंह के प्रति आभारी होने के और भी कारण हैं हमारे पास
मंडल कमीशन को लागू कर देश की राजनीतिक दिशा में ऐतिहासिक बदलाव लाने वाले वी.पी. सिंह की 93वीं जयंती पर उन्हें याद करने के...
चुनाव के तुरंत बाद अरुंधति रॉय पर शिकंजा कसने की कवायद का मतलब 
आज़ादी के आंदोलन के दौर में भी और आजाद भारत में भी धर्मनिरपेक्षता और वास्तविक लोकतंत्र व सामाजिक न्याय के सवाल को ज्यादातर निर्णायक...
अब संसद मार्ग से संसद परिसर में नज़र नहीं आएंगे डॉ. आंबेडकर
लोगों की आंखों में बाबा साहेब को श्रद्धांजलि देने की अधीरता साफ दिख रही थी। मैंने भारत में किसी राजनीतिक जीवित या मृत व्यक्ति...