बुंदेलखंड के बहुजन याेद्धा हिरदेशाह : 1842 में हुए विद्रोह के महानायक

अंग्रेजों के खिलाफ पहली लड़ाई छेड़ने का श्रेय पक्षपाती इतिहासकारों ने मंगल पांडे को दिया जबकि उनके पहले बुंदेलखंड इलाके हीरापुर के हिरदेशाह ने अंग्रेजों को इस कदर पानी पिला रखा था कि लंदन में बैठी महारानी विक्टोरिया का सिंहासन भी डोल गया था। अदम्य साहसी बहुजन नायक हिरदेशाह के बारे में बता रहे हैं बी. के. लोधी

ब्रिटिश हुकूमत के विद्रोही ‘हीरापुर के हिरदेशाह’

यह एक आम धारणा है कि जो वीर होगा वह निश्चित रूप से क्षत्रिय होगा और जो विद्वान होगा वह ब्राह्मण ही होगा। इतना ही नहीं वर्णव्यवस्था को भी सर्वकालीन और सार्वदेशिक मान लिया गया है। यद्यपि वर्णव्यवस्था का प्रारंभ उत्तर में गंगा-यमुना की घाटी में हुआ और इसका प्रसार दक्षिण भारत तक हो चुका था, लेकिन बुंदेलखंड एवं महाकोशल प्रांत इस व्यवस्था से हजारवीं शताब्दी तक कमोबेश मुक्त ही था। प्रस्तुत शोध पत्र लोधी राजा हिरदेशाह और उनके परिवार का भारत के स्वातंत्र्य समर किये गए बलिदानों पर आधारित है। राजा हिरदेशाह बुंदेलखंड विद्रोह-1842 के प्रमुख नायक थे। यद्यपि यह विद्रोह कंपनी सरकार द्वारा दबा दिया गया था, लेकिन 1857 के समर में हिरदेशाह ने पुन: बलिदानी भूमिका निभाई थी, जिसमें इनका पूरा परिवार शहीद हो गया था। अंग्रेजों के विरुद्ध 1842 के विद्रोह एवं 1857 के समर में राजा हिरदेशाह का साथ उनकी बिरादरी के अन्य लोधी राजाओं, तालुकेदारों, जागीरदारों व प्रजाजनों तथा गोंड़ राजाओं और उनकी प्रजा ने दिया था। ब्रिटिश दस्तावेज राजा हिरदेशाह को 1842 के विद्रोह एवं 1857 के ग़दर का प्रमुख दोषी राजा हिरदेशाह को मानते हैं, लेकिन पूर्वाग्रही भारतीय लेखक और इतिहासकारों ने उनके त्याग और बलिदानों को जानबूझकर नज़रंदाज़ कर दिया।

राजा हिरदेशाह के पूर्वज राजा ईश्वरदास महोबा के राजा परमाल के मित्र व अनन्य सहयोगी थे। एक बार वीर आल्हा-ऊदल की अनुपस्थिति में जब पृथ्वीराज चौहान ने महोबा पर आक्रमण किया था तो राजा ईश्वरदास ने अपने दो पुत्रों को सेना सहित राजा परमाल की मदद करने भेजा, इस युद्ध में पृथ्वीराज चौहान को पराजित होना पड़ा था। इस युद्ध में राजा ईश्वरदास लोधी के एक पुत्र को जान गंवानी पड़ी थी। 11 वीं शताब्दी में भारत में अंदरूनी युद्ध के अलावा विदेशी मुस्लिम आक्रमण भी तेज हो रहे थे, उस दौर में बुंदेलखंड-महाकोशल प्रान्त के रणशील और ताकतवर जनसमुदायों को वर्णव्यवस्था में समाहित कर उनका क्षत्रियकरण किया जा रहा था। किन्तु जो समुदाय एक दो पीढ़ी पहले क्षत्रिय का दर्जा प्राप्त कर चुके थे, नव क्षत्रियों को ओछी जात ही कहते थे। नव क्षत्रियों में लोधी, गोंड़, अहीर, खंगार आदि थे। गोंड़ मुग़ल काल में राजपूत का दर्जा प्राप्त कर चुके थे। इस प्रघटना का दुष्प्रभाव यह पड़ा की गोंड़ राजा ने अपनी समतामूलक संस्कृति का परित्याग कर अपनी गोंड़ प्रजा से दूरी बना ली बदले में प्रजा ने भी राजा से दूरी बना ली और मन से युद्ध में राजा का साथ नहीं दिया परिणाम: गोंडवाना राज्य बिखर गया। लोधियों को क्षत्रिय वर्ण में समाहित करने के लिए कुछ नए पुराण व संहिताएँ लिखी गयीं या क्षेपक जोड़े गए। इस प्रकार लोधियों को चंद्रवंशी क्षत्रिय सिद्ध किया गया। यद्यपि बुंदेलखंड और महाकोशल क्षेत्र के लोधी राजाओं (अभिजनों) ने प्रजाजनों व किसानों के साथ अपने आत्मीय सम्बन्ध यथावत बनाये रखे जो 1842 के विद्रोह और 1857 के स्वातंत्र्य समर में काम आये। वर्तमान समय में लोधी जन, अन्य हिन्दूकृत स्थानीय जनसमुदायों की तरह राजपूत या क्षत्रिय होने का दावा करते हैं, लेकिन बुंदेलखंड और महाकोशल क्षेत्र के बाहर इस दावे को हास्यापद ही मन जाता है। चारण वृत्ति के लेखकों ने देश के लिए मर मिटने वाले जनसमुदायों को इतिहास की पुस्तकों में कोई स्थान नहीं दिया। राजा हिरदेशाह लोधी व उनका पूरा परिवार ऐसे ही महा बलिदानी स्वातंत्र्य योद्धाओं में से है।

बुंदेलखंड के इलाकों में नाटकों के जरिए जीवंत है हिरदेशाह की शौर्यगाथा

  1. सन 1857 का विद्रोह स्वाधीनता संग्राम इतिहास में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के रूप में प्रसिद्ध है। लेकिन इससे भी 16 वर्ष पहले सन 1841 में वीरभूमि बुंदेलखंड में अंग्रेजों के विरुद्ध क्रांति का बिगुल बज गया था, जो सन 1843 तक जारी रहा। यह कंपनी सरकार को उखाड़ फेंकने का प्रथम संघर्षपूर्ण प्रयत्न था। यह बुंदेलखंड विद्रोह बुंदेलखंड के इतिहास की महत्वपूर्ण घटना है। इस बुंदेलखंड विद्रोह के अग्रणी नेता हीरा गढ़ के राजा हिरदेशाह जूदेव थे। उस दौर में राजा केवल अपने राज्य के शासक ही नहीं हुआ करते थे वरन वे अपनी जाति के मुखिया हुआ करते थे। और उनमें जातीय एकता थी। इसलिये राजा हिरदेशाह के आह्वान पर समूचे बुंदेलखंड के लोधी राजा, जागीरदार, मालगुजार और तालुकेदार तथा समस्त किसान अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह में शामिल हो गए थे। इस संग्राम में बुंदेला ठाकुर एवं गौड़ जाति के राजा जागीरदार व जमींदारों ने भी भाग लिया था। ‘इत जमुना, उत नर्मदा, इत चंबल उत्तर टोंस’ वाले विस्तृत बुंदेलखंड क्षेत्र में यह संघर्ष फैला था, जो 1857 के संघर्ष जैसा व्यापक रूप तो न ले सका लेकिन 1857 के स्वतंत्रता आंदोलन के बीज इसी प्रथम संघर्ष में छुपे हुए थे। 1857 के विद्रोह में मध्यप्रांत के समस्त लोधी जन अंग्रेजों के विरुद्ध युद्ध में शामिल हो गए थे (आर. वी. रसैल- 1916)। डॉ. सुरेश मिश्र अपनी पुस्तक ‘रामगढ़ की रानी अवन्तिबाई’ में पृष्ठ 11 पर लिखते हैं कि “1842 के बुन्देला विद्रोह के समय सागर नर्मदा प्रदेश में जो विद्रोह हुआ था उसमें लोधी जागीरदारों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया था। इनमें नरसिंहपुर जिले के हीरापुर का हिरदेशाह और सागर जिले का मधुकर शाह प्रमुख थे।” ब्रिटिश सत्ता के प्रति लोधियों के विरोध की यह विरासत 1857 में और ज्यादा मुखर हुई और इसकी अगुआई रामगढ़ की रानी अवन्तिबाई ने की थी। जबकि वास्तव में मध्यप्रांत के स्वातंत्र्य समर-1857 के प्रमुख ऐतिहासिक प्रेरणाश्रोत हिरदेशाह ही थे।

बहुजन विमर्श को विस्तार देतीं फारवर्ड प्रेस की पुस्तकें

  1. 1842 के बुंदेलखंड विद्रोह के बाद 1857 के स्वातंत्र्य समर में राजा हिरदेशाह जूदेव और उनका पूरा परिवार पुन: अंग्रेजों के विरुद्ध सशस्त्र विद्रोह में शामिल हो गया। उनके भाई सावंत सिंह 1857 के युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए और दूसरे भाई गजराज सिंह भी अंग्रेजों से युद्ध करते हुए गिरफ्तार हुए और सन 1858 के मध्य में उन्हें फांसी दी गई तथा 28 अप्रैल 1858 को राजा हिरदेशाह भी वीरगति को प्राप्त हुए। राजा हिरदेशाह के पुत्र मेहरवान सिंह 1857 में अंग्रेजों से युद्ध करते हुए शहीद हुये थे। इस प्रकार हीरापुर के लोधी राजवंश की पीढ़ियों ने 1841 से 1858 तक संघर्ष किया। स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में इस परिवार का अद्वितीय स्थान है। आर. वी. रसेल ने नरसिंहपुर जनपद गजेटियर के पृष्ठ संख्या 62 व 63 पर लिखा है कि ‘यह ध्यान देने योग्य है कि 1842 के बुंदेला विद्रोह और 1857 दोनों में विद्रोह को प्रमुख रूप से भड़कानेवाला एक पहाड़ी लोधी हीरापुर का राजा था’। लेकिन इतिहासकारों ने बुंदेलखंड विद्रोह के नायकों के साथ न्याय नहीं किया।
  2. आल्हा-ऊदल, रानी दुर्गावती, छत्रसाल आदि वीर-वीरांगनाओं की शौर्य गाथाएं बुंदेलखंड के युवकों की प्रेरणा स्रोत रही हैं। बुंदेलखंड क्षेत्र लंबे समय से मुगलों के आक्रमण से टकराता चला आ रहा था। अतः संपूर्ण बुंदेलखंड में वीरता शौर्य पराक्रम की भावनाएं हर नागरिक में रची बसी थी।

यह भी पढ़ें : मंगल पांडे नहीं, तिलका मांझी और सिदो-कान्हू थे पहले स्वतंत्रता संग्रामी

  1. सन 1839 में बुंदेलखंड के कुछ राजा राजकुमार एवं जमींदार काशी में होने वाले बुढ़वा मंगल मेला देखने गए थे। वहां उन्हें बंगाल, बिहार और अवध क्षेत्र में अंग्रेजों के द्वारा किए जा रहे अन्याय व अत्याचारों का पता चला। चारों ओर अंग्रेजी राज्य के विरुद्ध जन असंतोष दृष्टिगोचर हुआ। उससे उनकी विद्रोही भावना में वृद्धि हुई। काशी के बुढ़वा मंगल मेले से प्रेरणा लेकर लौटे राजा जमींदार अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह भावना जगाने में लग गए।
  2. अगले वर्ष सन् 1840 में काशी के बुढ़वा मंगल मेले की तर्ज पर सूपा (चरखारी ) गांव में बुढ़वा मंगल मेले का आयोजन किया गया सूपा में चरखारी राज्य के पूर्व राजा मंडनशाह तथा विकट राय के वंशज लोधी जागीरदार निवास करते थे सूपा के लोधी जमीदारों ने इस मेले का सारा उत्तर दायित्व संभाला । गोपनीय ढंग से बुंदेलखंड के अनेक राजाओं और जागीरदारों से संपर्क किया गया और इस मेले का उद्देश्य समझाया गया। प्रकट रूप से मेले का प्रचार हुआ। इस मेले में जैतपुर (महोबा) के बुंदेला राजा परीक्षित, हीरापुर के राजा हिरदेशाह, चिरगांव झांसी के रायबहादुर भगत सिंह नाराट के जागीरदार मधुकर शाह बुंदेला चंद्रपुर के जागीरदार जवाहर सिंह, गोहांड (राठ) के जमीदार अमर सिंह महतो तथा क्षेत्र के लोधी एवं बुंदेला जमींदारों ने बड़ी संख्या में भाग लिया सबने मिलकर गोपनीय रूप से अंग्रेजों के विरुद्ध संघर्ष का निर्णय लिया और योजना तैयार की। जैतपुर (महोबा) के राजा परीक्षत को उत्तरी बुंदेलखंड क्षेत्र के विद्रोहियों का अध्यक्ष चुना गया। विद्रोह को सफल बनाने और प्रजा का राज्य कायम करने का संदेश सावधानीपूर्वक सभी जगह पहुंचाया जा रहा था। हीरापुर के राजा हिरदेशाह, नाराट के जागीरदार मधुकरशाह बुंदेलखंड के दक्षिण में सागर नर्मदा टेरिटरी क्षेत्र में संपर्क कर क्रांति की आग सुलगा रहे थे। इस अभियान में मदनपुर (नरसिंहपुर) का गौड़ सामंत डिल्लनशाह भी अपने क्षेत्र के असंतुष्ट जमीदारों, भू-स्वामियों को साथ लेकर विद्रोही बन गए इस तरह बुंदेलखंड के दक्षिणी भाग में विद्रोह की ज्वाला जल उठी।

1842 में हुए विद्रोह से संबंधित एक पेंटिंग

  1. राजा हिरदेशाह जूदेव के नेतृत्व मे कंपनी सरकार के ठिकानों पर आक्रमण कर दिया गया सर्वप्रथम गजपुरा चौकी पर अधिकार कर लिया और अंग्रोजों को मार भगाया, लेकिन पूरी तैयारी के साथ कैप्टन ब्राउन के नेतृत्व में अंग्रेजी सेना ने हीरागढ़ पर चढ़ाई कर दी। विद्रोही सेना ने नगर खाली कर दिया। अंग्रेजी सेना ने हीरागढ़ को ध्वस्त कर दिया और नगर को लूट लिया। हीरागढ़ के ध्वस्त होने के बाद से हीरागढ़ को हीरापुर कहा जाने लगा। राजा हिरदेशाह विद्रोही सेना के साथ तेज गढ़ पहुंचे। तेज गढ़ में राजा हिरदेशाह के पूर्वजों का ही राज था। अब उनके वंश के एक लोधी जागीरदार की जागीर थी, उसने विद्रोही सेना का स्वागत किया और हर प्रकार का सहयोग किया। राजा हिरदेशाह ने नरसिंहपुर पर घेरा डाल दिया और अंग्रेजों को वहां से मार भगाया। दमोह, जबलपुर और नरसिंहपुर के बहुत से भाग अधिकार में कर लिये। विद्रोही सेना आगे बढ़ती गई जनपद सागर के मुख्यालय को घेर लिया और अंग्रेजों को परास्त कर सागर को मुक्त कराया। जबलपुर अंग्रेजों का गढ़ था, वहां उनकी भारी सेना जमा थी, अत: राजा हिरदेशाह उससे बचकर विद्रोही सेना को एक तरफ से निकाल कर आगे बढ़ गये। विद्रोही सेना ने नर्मदा नदी को पार किया, वहां के किसानों ने उनका साथ दिया। विद्रोहियों ने ढूंढ-ढूंढ कर कंपनी सरकार के अधिकारियों को परास्त कर वहां से निकाला। वे नगर-गांव अंग्रेजों से खाली कराते चले गये। राजा हिरदेशाह का नाम सुनकर गोरे कांपने लगे। उनको बंदी बनाने के लिये पांच सौ रुपए इनाम की घोषणा की गई। राजा हिरदेशाह अब भूमिगत होकर छापामार युद्ध का संचालन करने लगे। कंपनी सरकार हैरान थी कि एक वर्ष से अधिक समय बीत जाने पर भी विद्रोहियों को नहीं पकड़ा जा सका। विद्रोही छापामार पद्धति से लड़ते थे। इसके साथ ही अंग्रेजों की गतिविधियों का पता विद्रोहियों को तो लग जाता था, परंतु विद्रोहियों की योजनाओं का पता कंपनी सरकार के अधिकारियों को न चल पाता था। बड़े-बड़े मालगुजार उन्हें भोजन देते थे तथा खतरों से उन्हें सचेत कर देते थे। लोगों में विद्रोहियों का भय इतना समाया था कि कोई उनके विरुद्ध बात ही नहीं करता था।

गवर्नर जनरल एलनबरो

  1. गवर्नर जनरल लार्ड एलनबरो और ब्रिटिश सेना अध्यक्ष दोनों ही घबरा उठे, क्योंकि इस समय उनका पूरा ध्यान अफगानिस्तान में अपनी प्रतिष्ठा को प्राप्त करने में लगा हुआ था। दूसरे बुंदेलखंड का क्षेत्र अंग्रेज सैनिकों के लिए बिल्कुल अपरिचित था। निराश होकर मदन सिंह नामक एक व्यक्ति को अंग्रेजों के लिए मार्गदर्शक बनाया गया, किंतु वह विद्रोहियों से मिला हुआ था। उसने सेना को घने जंगल में ऐसा भटकाया कि उन्हें रास्ता ही ना मिला। उसने सेना को गहन जंगल में उलझाकर विद्रोहियों को सूचना दे दी और अंग्रेजी सेना को बुरी तरह पिटवा दिया। जब लंबे समय तक विद्रोही न पकड़े जा सके तो होशंगाबाद के कैप्टन वोलैंड ने सागर के कमिश्नर को सुझाव दिया कि दमन और शक्ति के स्थान पर क्षमादान व आत्मसमर्पण की प्रक्रिया को अपनाया जाए तो परिणाम लाभकारी हो सकते हैं। इस सुझाव पर बुंदेलखंड के गवर्नर जनरल के राजनीतिक प्रतिनिधि एवं कंपनी सरकार के सचिव टी. एच. मेडक ने 2 नवंबर 1882 को गवर्नर जनरल लॉर्ड एलनबरो की ओर से घोषणा की कि जो विद्रोही अपराधी प्रवृति का त्याग कर सामाजिक जीवन बिताने की इच्छा से आत्मसमर्पण करेंगे कंपनी सरकार उनके अपराध विस्मृत कर क्षमादान का वचन देती है। साथ ही विद्रोहियों पर दबाव बढ़ाने के लिए इलाहाबाद, बनारस, नागपुर, झांसी, कानपुर तथा इटावा से सहायता के लिये फौजें मंगवायी। मेजर स्लीमन को फौज की कमान सौंपी गई। होलकर, दतिया, झांसी, बिजनौर, पन्ना, छतरपुर, चरखारी, शाहगढ़ और रीवां के राजाओं से विद्रोहियों को पकड़वाने के लिए सहायता मांगी। विद्रोहियों को पकड़वाने वालों को भारी पुरस्कार देने की घोषणा की गई। विद्रोहियों में भी फूट डालने का प्रयत्न किया गया।
  2. इस घोषणा के प्रसार से विद्रोहियों का उत्साह ढीला हो गया। पुरस्कार के लालच में भाई-भाई का दुश्मन बन गया। शाहगढ़ के राजा बखतबली बुंदेला एवं बानपुर के राजा मर्दन सिंह बुंदेला तथा अन्य कई राजा जागीरदार क्षमादान व पुरस्कार की घोषणा से प्रेरित होकर विद्रोहियों को आत्मसमर्पण कराने अथवा पकड़वाने में सक्रिय हो गये। शाहगढ़ के राजा बखतबली बुंदेला ने विद्रोहियों के अग्रगण्य हीरापुर के लोधी राजा हिरदेशाह जूदेव को दिनांक 21 नवंबर 1842 के दिन पकड़वा दिया। राजा हिरदेशाह को चुनार दुर्ग में कैद कर बड़ी यातनायें दी गई। इनके पकड़े जाने से विद्रोही मुहिम को गहरी क्षति पहुंची। राजा हिरदेशाह के साथ उनका पूरा परिवार भी बंदी बनाया गया था।
  3. जैतपुर (महोबा) के विद्रोही राजा परीक्षत बुंदेला को जनवरी 1843 में जैतपुर निवासी मजबूत सिंह कायस्थ ने जतारा में गिरफ्तार करवा दिया। उन्हें कानपुर में कैद कर फांसी दे दी गई। राजा हिरदेशाह, राजा परीक्षत एवं मधुकरशाह विद्रोह के प्रमुख स्तंभ थे, उनकी गिरफ्तारी के बाद बहुत से विद्रोहियों को आत्मसमर्पण करना पड़ा। डोंगर का दौलत सिंह काफी दिनों तक आतंक मचाये रहा। कठिन परिश्रम के बाद अंग्रेजी सैनिक उसे पकड़ पाए। उसे झांसी में फांसी दे दी गई। इस प्रकार 1841 से 1843 के अंत तक बुंदेलखंड के वीरों ने कंपनी सरकार की तानाशाही और प्रशासनिक व्यवस्था के प्रति असंतोष प्रकट करते हुए उसके शासन को उखाड़ फेंकने का प्रयत्न किया था, यद्यपि यह विद्रोह दबा दिया गया, लेकिन वह आग जो राजा हिरदेशाह जूदेव ने बुंदेलखंड में प्रज्वलित की थी अंदर ही अंदर सुलगती रही, और सन 1857 में भयंकर विस्फोट के रूप में फूट पड़ी।
  4. राजा हिरदेशाह जूदेव 21 नवंबर, 1842 के दिन चुनार दुर्ग में कैद अवश्य कर लिये गये थे किन्तु उनकी गिरफ्तारी से कंपनी सरकार के विरुद्ध व्यापक विद्रोह की स्थितियां उत्पन्न हो गयीं थीं जिसे दबा पाना कंपनी सरकार के लिये संभव नहीं था, अत: 1843 में ही उन्हें इस विनम्र शर्त के साथ रिहा कर दिया गया कि वे आगे विद्रोह नहीं करेंगे। लेकिन स्वातंत्र्य प्रेमी व स्वाभिमानी हिरदेशाह को कोई भी शर्त स्वीकार नहीं थी। इसलिये अवसर मिलते ही 1857-58 के स्वतांत्र्य समर में उनका पूरा परिवार समस्त सैन्यबल के साथ पुनः अंग्रेजों के विरुद्ध युद्ध में डट गया। इस स्वातंत्र्य समर में राजा हिरदेशाह युद्ध करते हुए 28 अप्रैल 1858 को शहीद हो गये, जबकि उनके एक भाई सावंत सिंह जूदेव 1857 के समर में शहीद हो गए थे तथा दूसरे भाई गजराज सिंह जूदेव भी अंग्रेजों से युद्ध करते हुए गिरफ्तार हुए और सन 1858 के मध्य में उन्हें भी फाँसी दे दी गयी तथा राजा हिरदेशाह जूदेव के पुत्र राजकुमार मेहरबान सिंह 20 दिसंबर 1857 को अंग्रेजों से युद्ध करते हुए शहीद हुये थे।
  5. राजा हिरदेशाह के स्वातंत्र्य समर की विरासत को रानी अवंतिबाई ने आगे बढाया और वीरगति को प्राप्त हुयीं। जब ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया ने भारत की बागडोर ईस्ट इंडिया कंपनी से अपने हाथ में ली, उदारता का परिचय देते हुये सभी विद्रोहियों तथा राजाओं को माफ़ कर दिया तथा उनके वंशजों को जीविका हेतु ज़मीनें और पेंशन प्रदान की, लेकिन राजा हिरदेशाह को उन्होंने माफ़ नहीं किया। इससे राजा हिरदेशाह जूदेव के प्रति अंग्रेजों के शत्रुताभाव का अनुमान लगाया जा सकता है।
  6. राजा हिरदेशाह जूदेव के हीरागढ़ राज्य के अंतर्गत 1883 गाँव थे। उनके पास 80 बड़ी तोपें, 100 छोटी तोपें, 200 गुराबें, 7 हाथी, 1600 घोड़े व अश्वारोही सैनिक, 21686 पैदल सैनिक, 500 साड़िया (ऊँट), 200 खच्चर थे। उनके वंशज राजा कोशलेन्द्र सिंह जूदेव को मध्य प्रदेश सरकार ने उनके पूर्वजों की छीनी गयी कुल ज़मीन में से केवल एक सौ एकड़ जमीन दी थी, वह भी वन विभाग ने वापस ले ली है। आज वे साधारण किसान हैं।

यहाँ ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि बुंदेलखंड के लोधी एवं गौड़ लोगों द्वारा गवर्नर जनरल से क्षमा न मांगने के कारण कंपनी सरकार ने 1843 में ही अपराधी प्रवृत्ति का घोषित कर दिया था। इसके बाद लोधियों व गौड़ों ने 1857 में ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध फिर सशस्त्र विद्रोह किया। एक से अधिक पीढ़ी तक विद्रोह करने और स्वातंत्र्य समर विफल होने के पश्चात् ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया से क्षमा न मांगने के कारण और उन्हें आनुवांशिक अपराधी माना गया और उन्हें क्रिमिनल ट्राइब्स एक्ट, 1871 के तहत जन्मजात अपराधी घोषित किया गया था।  

सन्दर्भ ग्रन्थ :

  1. 1842 के विद्रोही ‘ हीरापुर के हिरदेशाह’-  डॉ. सुरेश मिश्र .
  2. क्रांतिपथ – श्रवण कुमार त्रिपाठी
  3. मध्य प्रदेश गजेटियर्स- डॉ. हीरा लाल
  4. 1857 की क्रांति ‘ सागर और नर्मदा क्षेत्र ‘ – डॉ. पी एस मुखारया
  5. बुंदेला विद्रोह- डॉ जयप्रकाश मिश्रा
  6. जंग-ए-आज़ादी में महाकोशल 1857-60, भगवानदास श्रीवास्तव
  7. राजा हिरदेशाह जूदेव के वंशज राजा कोशेन्द्र सिंह जूदेव से फ़ोन पर प्राप्त सूचनायें.  
  8. इंडियन फ्रीडम मूवमेंट इन प्रिंसली स्टेट ऑफ विंध्य प्रदेश, ए. यू. सिद्दीकी
  9. दी रिवोल्ट इन सेंट्रल इंडिया 1857-59
  10. दी बुंदेला रेबेलिअंस, जे.पी. मिश्रा
  11. भारतीय जनगणना रिपोर्ट, 1931(क्रिमिनल ट्राइब्स ऑफ सेंट्रल प्रोविंसेज एंड बेरार)
  12. हू इज हू ऑफ इंडियन मार्टयर्स वॉल्यूम-3  
  13. बुंदेलखंड में लोधी जाति का समाजशास्त्रीय अध्ययन – “शोध प्रबंध” – डॉ. बृजेंद्र कुमार लोधी

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

2 Comments

  1. UDAY SINGH TUNDELE Reply
  2. Kunwar Anil Singh Rajput Reply

Reply