मेरठ में चार दलितों की हत्या : पुलिस पर आरोपियों को बचाने का आरोप

बीते 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के बाद मेरठ में चार दलित नौजवानों की हत्या हुई है। मारे गए सभी नौजवान सामाजिक कार्यकर्ता थे। इन मामलों में पुलिस पर सवर्णों को बचाने का आरोप लग रहा है। फारवर्ड प्रेस की खबर :

इस वर्ष 2 अप्रैल 2018 को हुए देशव्यापी आंदोलन के बाद उत्तर प्रदेश के मेरठ में दलितों पर सामंती लोगों का कहर जारी है। यह आंदोलन सुप्रीम कोर्ट द्वारा अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में संशोधन किए जाने के खिलाफ किया गया था। स्वत:सफूर्त हुआ यह आंदोलन अत्यंत ही प्रभावकारी साबित हुआ। केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट के द्वारा किए गए संशोधन को खारिज करने के लिए संशोधन विधेयक संसद में लाना पड़ा।

इस आंदोलन का एक असर यह हुआ कि देश भर में निर्दोष दलितों के खिलाफ कार्रवाइयां की गईं। इतना ही नहीं, ऊंची जातियों के लोगों द्वारा हिंसा का एक दौर भी शुरू हो गया। मेरठ में 2 अप्रैल 2018 से लेकर अब तक चार लोगों की हत्या हो चुकी है। इन मामलों में पुलिसिया कार्रवाई नहीं की गई है।

मेरठ में हुई इन वारदातों में पुलिस द्वारा कानून सम्मत कार्रवाइयां नहीं किए जाने पर स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता रवि कांत ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया को पत्र लिखा और उनसे कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।     

9 अगस्त 2018 को मारे गए युवक रोहित जाटव के हत्यारों को सजा देने की मांग करते लोग

आंदोलन के दौरान ही मौत के घाट उतार दिया गया अंकुज जाटव

जब पूरे देश में एससी, एसटी कानून में संशोधन के खिलाफ भारत बंद किया जा रहा था, उसी समय मेरठ कचहरी के पूर्वी गेट पर अंकुज जाटव की हत्या गोली मारकर कर दी गई। सनद रहे कि यह घटना कचहरी के सामने हुई जहां पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद थी। अब इस घटना को सात महीने बीतने के बावजूद पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है। अंकुज के हत्यारे छुट्टा घुम रहे हैं।

दूसरी हत्या ठीक दो दिनों बाद हुई। मेरठ के फाजलपुर निवासी गोपी पारिया की हत्या कर दी गई। इस मामले में पांच लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया। मृतक के परिजनों का आरोप है कि कंकरखेड़ा थाने की पुलिस ने इस मामले में आरोपियों को बचाने की नीयत से अपने हिसाब से प्राथमिकी दर्ज किया। पुलिस इस मामले को लेकर इस कदर निष्क्रिय है कि आज तक एक भी आरोपी को गिरफ्तार तक नहीं किया गया है।

वहीं, 4 मई 2018 को मोहकमपुर निवासी 22 वर्षीय विकास की हत्या ऑनर किलिंग के नाम पर कर दी गई। विकास के परिजनों ने चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। परंतु आजतक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मृतक के परिजनों के अनुसार, पुलिस जातिगत विद्वेष के कारण ही कार्रवाई नहीं कर रही है।

कटघरे में मेरठ पुलिस

जबकि, 9 अगस्त 2018 को सवर्णों ने उल्लेदपुर गांव के निवासी रोहत जाटव की पीट-पीटकर हत्या कर दी। इस मामले में भी पुलिस की कार्रवाई पुलिस को ही कटघरे में खड़ा करती है। मृतक के पिता ने इस संबंध में एक मुकदमा गंगानगर थाना में दर्ज कराया। इसमें उन्होंने नौ लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया। परंतु पुलिस ने अभी तक केवल चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। शेष पांच अभी भी फरार हैं।

बहरहाल, उपरोक्त घटनाएं तो महज बानगी हैं कि सवर्ण किस तरह से दलितों पर जुल्म कर रहे हैं। वह भी तब जबकि एससी, एसटी एक्ट सहित कई कानून हैं। परंतु इन कानूनों का अनुपालन नहीं किया जा रहा है। मसलन एससी-एसटी एक्ट में स्पष्ट प्रावधान है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद साठ दिनों के भीतर सीधे आरोप पत्र गठित किए जाएं। परंतु ऐसा नहीं किया जा रहा है।

(कॉपी संपादन : प्रेम)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply