h n

आंध्र प्रदेश : ब्राह्मण युवाओं को कार बांट रहे चंद्रबाबू नायडू

इस साल लोकसभा चुनाव के साथ ही आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी होने हैं। ब्राह्मण जाति के मतदाताओं को लुभाने के लिए मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने विशेष योजना की शुरूआत की है

इस साल लोकसभा चुनाव के साथ ही कई राज्यों में विधानसभा चुनाव भी होने हैं। इनमें से एक आंध्र प्रदेश भी शामिल है, जहां वर्तमान में चंद्रबाबू नायडू मुख्यमंत्री हैं। चुनाव के मद्देनजर समाज के विभिन्न तबकों के मतदाताओं को लुभाने के प्रयास शुरू हो गए हैं। जहां एक ओर केंद्र में सत्तासीन भाजपा सरकार ने गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने के लिए संविधान में संशोधन तक करवा दिया है, तो दूसरी ओर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ब्राह्मण जाति के युवाओं को कार बांट रहे हैं।

आंध्र प्रदेश सरकार ने अपनी योजना को स्वरोजगार योजना की संज्ञा दी है। बीती 4 जनवरी 2019 को मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने 50 लाभार्थियों को कार की चाबियां वितरित की।

राज्य सरकार की ओर से इस योजना को ब्राह्मण कल्याण निगम के द्वारा अंजाम दिया जा रहा है। इसके तहत ब्राह्मण जाति के युवाओं को दो लाख रुपए तक की लोन सब्सिडी के अलावा 90 फीसदी ऋण सुविधा दी जा रही है। यानी ब्राह्मण युवाओं को कार खरीदने के लिए कुल लागत का केवल 10 फीसदी भुगतान करना है। शेष राशि का भुगतान आंध्र प्रदेश सरकार करेगी। बाद में इसका भुगतान लाभार्थी मासिक किस्तों में कर सकेंगे।

ब्राह्मण युवाओं को कार की चाबी सौंपते चंद्रबाबू नायडू

निगम के अध्यक्ष वेमूरी आनंद सूर्य के मुताबिक, निगम की विभिन्न योजनाओं से अब तक ब्राह्मण जाति के लगभग डेढ़ लाख लोगों को लाभ मिला है। इस निगम का गठन 2015 में किया गया था। इस निगम का सूत्र वाक्य है – ‘ब्राह्मणों के गौरव को पुनर्स्थापित एवं संरक्षित करना।’ आनंद सूर्य के मुताबिक, निगम 140 लाख स्मार्ट फोन वितरित करेगा; ताकि हर ब्राह्मण के घर तक ज्ञान पहुंचे।

उनके मुताबिक निगम द्वारा संचालित अन्य योजनाओं में वेद व्यास योजना, गायत्री योजना, भारती योजना और वशिष्ठ योजना शामिल है। इसमें वेद व्यास योजना  के जरिए उन ब्राह्मणों को वित्तीय सहायता दी जाती है जो वेदों का अध्ययन करना चाहते हैं। वहीं गायत्री योजना के द्वारा ब्राह्मण जाति के छात्रों को अध्ययन में उत्कृष्टता के लिए स्कॉलरशिप तथा भारती योजना के तहत उन छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप दी जाती है जो पढ़ाई जारी रखने में असमर्थ हैं। वहीं वशिष्ठ योजना के तहत ब्राह्मण जाति के प्रतियोगी छात्र-छात्राओं को वित्तीय सहायता दी जाती है।

(कॉपी संपादन : प्रेम बरेलवी)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

 

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़: प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिकता नहीं है, वह...
ओबीसी के हितों की अनदेखी नहीं होने देंगे : हंसराज गंगाराम अहिर
बहुजन साप्ताहिकी के तहत इस बार पढ़ें ईडब्ल्यूएस संबंधी संविधान पीठ के फैसले को कांग्रेसी नेत्री जया ठाकुर द्वारा चुनाैती दिये जाने व तेलंगाना...
धर्मांतरण देश के लिए खतरा कैसे?
इस देश में अगर धर्मांतरण पर शोध किया जाए, तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आएंगे। और वह यह कि सबसे ज्यादा धर्म-परिवर्तन इस देश...
डिग्री प्रसाद चौहान के खिलाफ मुकदमा चलाने की बात से क्या कहना चाहते हैं तुषार मेहता?
पीयूसीएल की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष और मानवाधिकार कार्यकर्ता डिग्री प्रसाद चौहान द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान तुषार मेहता...