क्या आपने यह समाचार पढ़ा है?

विरोध की घोषणा करते हुए मिजोरम में छात्रों ने एक जुलूस निकाला। इस जुलूस में लगभग 30 हजार लोग शामिल हुए। जुलूस के मार्ग पर जो पोस्टर लगे थे उनमें अत्यंत खतरनाक नारे लिखे थे। ऐसा ही एक नारा था ‘हलो चायना, बाय-बाय इंडिया’

वर्तमान में उत्तर-पूर्वी भारत धूं-धूं कर जल रहा है। उत्तर पूर्व के सभी राज्यों में केन्द्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) कानून में किए गए बदलाव का विरोध हो रहा है। विरोध इतना तीव्र हो गया है कि कुछ स्थानों पर तो गणतंत्र दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों का बहिष्कार किया गया।

कल 26 जनवरी 2019 को हालत यह रही कि मिजोरम की राजधानी आईजॉल में गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित राजकीय कार्यक्रम का वहां की जनता ने बहिष्कार किया।

मिजोरम एक तरफ राज्यपाल कुम्मानम राजशेखन और मुख्यमंत्री सहित सूबे के तमाम बड़े अधिकारी मौजूद रहे और झांकियां निकाली जा रही थीं, लेकिन उन्हें देखने के लिए कोई मौजूद नहीं था। बड़ी संख्या में लोग परेड गाउंड के बाहर अपना आक्रोश व्यक्त कर रहे थे।

एनआरसी कानून में बदलाव का मिजोरम सहित पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में हो रहा है भारी विरोध

केंद्र सरकार का कहना है कि नए बदलावों की वजह से भारत की सीमा में घुसपैठ करने वालों को नागरिकता नहीं मिल सकेगी। वहीं इसका एक पक्ष यह भी है कि सरकार ने बांग्लादेश और पाकिस्तान सहित दुनिया के किसी भी हिस्से में रहने वाले हिन्दुओं को नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान इसी कानून में कर दिया है।

मिजोरम की राजधानी आईजॉल में गणतंत्र दिवस का बहिष्कार करते लोग

केंद्र सरकार के फैसले का विरोध पूर्व से हो रहा था। यह विरोध गणतंत्र दिवस के मौके पर प्रभावकारी रूप में सामने आया जब लोगों ने इसका खुलकर विरोध किया। इस तरह के विरोध की घोषणा करते हुए मिजोरम में छात्रों ने एक जुलूस निकाला। इस जुलूस में लगभग 30 हजार लोग शामिल हुए। जुलूस के मार्ग पर जो पोस्टर लगे थे उनमें अत्यंत खतरनाक नारे लिखे थे। ऐसा ही एक नारा था ‘हलो चायना, बाय-बाय इंडिया’।

सवाल उठता है कि क्या ऐसे कानून देश की एकता और अखंडता की कीमत पर बनाए जाएंगे?

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)

(इनपुट : इंडियन एक्सप्रेस, 25 जनवरी 2019)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

आरएसएस और बहुजन चिंतन (लेखक : कंवल भारती)

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply