पुलवामा हमला : भारतीय नेताओं की संलिप्तता की अफवाहें झूठी

अमेरिका में बैठे अवि दांडिया नामक शख्स ने ऑडियो क्लिप जारी कर सनसनी फैला दी कि पुलवामा आतंकी हमले में भारत के शीर्ष नेताओं का हाथ था। तथ्य बताते हैं कि उसके द्वारा जारी ऑडियो क्लिप फर्जी है

बीते 1 मार्च 2019 को अवि दांडिया ने फेसबुक लाइव के जरिए यह बताया कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को जो आतंकी हमला हुआ वह भाजपा के षडयंत्र का परिणाम था।

इस संबंध में अल्ट न्यूज नामक वेबसाइट ने खबर प्रकाशित की है।

इसके मुताबिक, अपनी बात साबित करने के लिए उसने एक ऑडियो क्लिप भी सुनाया। इस ऑडियो क्लिप में उसके मुताबिक गृह मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक अज्ञात महिला से बातचीत की। दोनों (राजनाथ सिंह और अमित शाह) उस महिला से जवानों के काफिले पर विस्फोट कराने को कहते हैं।

यह भी पढ़ें : खुली छूट का मतलब क्या है प्रधानमंत्री जी? सीआरपीएफ के पूर्व कमांडेंट ने पूछा सवाल

बताते चलें कि अवि दांडिया नामक यह शख्स अमेरिका में रहता है और फेसबुक और ट्विटर आदि पर सक्रिय है। इसके फॉलोअर्स की संख्या लाखों में है। इसने ‘मोहब्बत के दंगे’ नामक एक वेबसाइट बना रखा है।

अवि दांडिया की तस्वीर

जाहिर तौर पर यह इसलिए भी हुआ क्योंकि अवि दांडिया ने पुलवामा आतंकी हमले को भाजपा नेताओं की साजिश का परिणाम बताया।

इतना ही नहीं, अवि दांडिया के फेसबुक लाइव को आधार पर बनाकर पाकिस्तानी मीडिया ने खबर बनाकर सनसनी फैलाने की कोशिश की। इनमें डेली कैपिटल, द पोस्ट, डिफेंस और सियासत आदि पाकिस्तानी न्यूज पोर्टल शामिल हैं।

खबर लिखे जाने तक[1] अवि दांडिया के उपरोक्त फेसबुक लाइव को 23 लाख बार देखा गया है। साथ ही 45 हजार से अधिक लाेगों ने कमेंट और 1 लाख 16 हजार 107 लोगों ने शेयर किया है।

अवि दांडिया के ऑडियो क्लिप के बारे में आरिफ खान ने 2 मार्च 2019 को ट्विटर के जरिए अलर्ट किया। उन्होंने लिखा कि अवि दांडिया ने जो ऑडियो क्लिप जारी किया है, वह फेक है और कृत्रिम तरीके से बनाई गई है। अपने तथ्य की पुष्टि के लिए आरिफ खान ने 22 फरवरी 2019 को इंडिया टुडे द्वारा जारी वह वीडियो जारी किया जिसमें पुलवामा हमले के बाद राजनाथ सिंह अपनी बात रख रहे हैं।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)

[1] (3 मार्च 2019, 4:00 PM)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

आरएसएस और बहुजन चिंतन 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply