बीएचयू : 29 जून तक बढ़ी आवेदन की मोहलत

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपने पूर्व के विज्ञापन में संशोधन किया है। साथ ही राजनीति शास्त्र से संबंधित चार पदों के आलोक में पूर्व में विज्ञापित विशेषज्ञता संबंधी शर्तों में राहत दी गयी है

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में विभिन्न विषयों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसर पद के लिए होने वाली नियुक्ति हेतु आवेदन की तिथि बढ़ा दी गयी है। साथ ही साथ ही राजनीति शास्त्र से संबंधित चार पदों के संदर्भ में पूर्व में विज्ञापित विशेषज्ञता संबंधी अहर्ता में भी राहत दी गयी है।

विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जारी विज्ञापन के अनुसार अभ्यथी अब 29 जून 2019 को शाम पांच बजे तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। इसके साथ ही अभ्यर्थी डाउनलोडेड आवेदन प्रपत्र व संबंधित दस्तावेजों को 2 जुलाई 2019 को शाम पांच बजे तक जमा कर सकेंगे। इससे पहले ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 25 जून 2019 निर्धारित थी।  अभ्यर्थी आवेदन करने के लिए यहां क्लिक करें।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय का मुख्य द्वार

राजनीति शास्त्र से जुड़े जिन विषयों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसरों की बहाली की सूचना पूर्व के विज्ञापन में दी गयी थी, उनमें भारतीय राजनीतिक चिंतन (पोस्ट कोड – 30381), भारतीय शासन व राजनीति (पोस्ट कोड – 30382), अंतरराष्ट्रीय संबंध/राजनीति (पोस्ट कोड – 30383), तुलनात्मक राजनीति/राजनीतिक व्यवस्था (पोस्ट कोड – 30384) और राजनीतिक सिद्धांत/ चिंतन (पोस्ट कोड – 30385) शामिल थी। विश्वविद्यालय प्रशासन ने पूर्व में इन पदों के आलोक में विशेषज्ञता संबंधी अहर्ता विज्ञापित किया था। इसके कारण अभ्यर्थियों को अलग-अलग पद के लिए पृथक रूप से आवेदन करना पड़ रहा था। साथ ही संबंधित विषय की विशेषज्ञता संबंधी अहर्ता को लेकर भी सवाल उठ रहे थे। इन सवालों के मद्देनजर विश्वविद्यालय प्रशासन ने अहर्ता को समाप्त कर दिया है।

इसके अलावा एक और संशोधन किया गया है। बौद्ध धर्म से जुड़े विषय के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित किया गया था। पहले कहा गया था कि अभ्यर्थी को पाली के अलावा  किसी एक अन्य भाषा यथा संस्कृत/तिब्बती/चीनी/जापानी आदि का ज्ञान वांछित है। परंतु अब इस शर्त को समाप्त कर दिया गया है।

(कॉपी संपादन : सिद्धार्थ)

(लेख परिवर्द्धित : 26 जून 2019, 4:16 PM)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

 

आरएसएस और बहुजन चिंतन 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

 

 

 

About The Author

Reply