मुझे सवर्णों की राजनीतिक हलवाही नहीं करनी है : जगदेव प्रसाद

एक ऐसा व्यक्तित्व जिसका पूरा जीवन बहुजनों के लिए संघर्ष करते बीता, बहुजनों के इस नायक की सवर्णों ने हत्या करा दी। उनकी जयंती पर उनके भाई वीरेंद्र प्रसाद उनके सादगी पूर्ण जीवन, कुर्बानियों और संघर्षों को याद कर रहे हैं। उपेंद्र पथिक ने उनके भाई की बातों को लिपिबद्ध किया है

अमर शहीद जगदेव प्रसाद ( 2 फरवरी, 1922 – 5 सितम्बर, 1974 ) पर विशेष

आजादी के बाद खासकर उत्तर भारत में गरीबों-वंचितों के मुद्दों को राजनीति के केंद्र में लाने वाले राजनेताओं में जगदेव प्रसाद ( 2 फरवरी, 1922 – 5 सितम्बर, 1974  ) का नाम प्रमुख है। उन्हें बिहार का लेनिन कहा जाता है। राममनोहर लोहिया के नारे पिछड़ा पावे सौ में साठ के नारे का विस्तार कर जगदेव प्रसाद ने नब्बे बनाम दस का नारा दिया था। वे दलितों-पिछड़ों के बड़े नेता थे। वे बिहार सरकार में तीन बार मंत्री रहे और एक समय मुख्यमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार भी थे। लेकिन बहुत कम लोग इस तथ्य से परिचित होगें कि उन्हें अपने व्यक्तिगत जीवन में किस तरह की कठिनाईयों का सामना करना पड़़ा था। यहां तक कि एक समय उनके पास इतने भी पैसे नहीं थे कि सुई-धागा तक खरीद सकें।

जगदेव प्रसाद के जीवन से जुड़ी स्मृतियों को उनके भाई वीरेंद्र प्रसाद ने मुझसे विशेष बातचीत में साझा किया। उनके मुताबिक, “भैया [जगदेव प्रसाद] पढ़ाई के उपरांत सोशलिस्ट पार्टी से जुड़ गए। वे दिन बहुत मुश्किल वाले थे। घर में आर्थिक तंगी रहती थी। कोई नियमित आय थी नहीं और इस कारण आए दिन परेशानियों का सामना करना पड़ता था। मुझे आज भी एक घटना याद है। उस दिन भैया [जगदेव प्रसाद] पटना से हमारे पैतृक गांव कुरहारी आए। भाभी ने उनसे सुई-धागा लाने को कहा। परंतु, भैया ने जेब में पैसा नहीं होने की बात कह इनकार कर दिया। तब भाभी घर के अंदर गयीं और अपने फटे कपड़े सामने रखकर बोलीं कि अब मैं क्या पहनूं?”

जगदेव प्रसाद के भाई वीरेंद्र प्रसाद (दाएं) के साथ लेखक उपेंद्र पथिक

जगदेव प्रसाद की स्मृतियों को साझा करते हुए वीरेंद्र प्रसाद एक मार्मिक तथ्य बताते हैं। उनके मुताबिक, “भैया [जगदेव प्रसाद] के जेब में पैसे नहीं होने की बात ने मुझे झकझोर दिया था। मैं मैट्रिक की परीक्षा पास कर चुका था। अगले ही दिन मैं बिना किसी को बताए नौकरी की तलाश में जहानाबाद चला गया। वहां मलेरिया विभाग में वैकेंसी थी। मुझे खोजते हुए भैया आए। मैंने उन्हें सारी बात बतायी तब मेरे अनुरोध पर उन्होंने अधिकारियों से बात की और तब जाकर मेेरी नियुक्ति इुई।” 

इस प्रकार जगदेव प्रसाद ने घर की जिम्मेवारियां अपने छोटे भाई के कंधों पर डाल दिया और स्वयं राजनीति में लग गए।

 आज शायद ही किसी को यकीन हो कि उस महान नेता को, जिन्होंने बिहार की राजनीति की दिशा ही बदल दी, अपने जीवन में किस तरह के दुख-तकलीफ का सामना किया था।

जगदेव प्रसाद की तस्वीर व कुर्था में एक दीवार पर लिखा गया उनका नारा

जगदेव प्रसाद ने अपने जीवन मूल्यों को सबसे आगे रखा। न केवल व्यक्तिगत जीवन में बल्कि राजनीति में भी। जब कभी उन्हें लगा कि जिन मूल्यों के लिए वे राजनीति कर रहे हैं, उनका अनुपालन नहीं हो रहा है तब उन्होंने विद्रोह किया। मसलन, जब बिहार में पहली गैरकांग्रेसी सरकार महामाया प्रसाद सिन्हा के नेतृत्व में बनी और मंत्रिपरिषद में पिछड़े वर्ग के लोगों को अपेक्षित हिस्सेदारी नहीं दी गई जो कि सोशलिस्ट पार्टी के सिद्धांतों के अनुरूप नहीं था, तब जगदेव प्रसाद ने लोहिया जी से इसकी शिकायत की। लेकिन जब उन्होंने भी हस्तक्षेप करने से इनकार किया, तब जगदेव प्रसाद ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ बिगुल फूंका। तब वे स्वयं कुर्था से विधायक थे। पार्टी के कुछ असंतुष्ट विधायकों को साथ लेकर उन्होंने पटना के ऐतिहासिक अंजुमन इस्लामिया हॉल में 25 अगस्त, 1967 को शोषित दल की स्थापना की। इसके संस्थापक अध्यक्ष शिवपूजन शास्त्री थे और जगदेव प्रसाद महामंत्री चुने गए। इसी मौके पर अपने संबोधन में जगदेव प्रसाद ने कहा था – “आज का हिन्दुस्तानी समाज साफ तौर पर दो भागों में बंटा हुआ है – दस प्रतिशत शोषक और नब्बे प्रतिशत शोषित।  दस प्रतिशत शोषक बनाम नब्बे प्रतिशत  शोषितों की इज्जत की लड़ाई हिन्दुस्तान में समाजवाद या वामपंथ  की असली लड़ाई है। उन्होंने यह भी कहा था- कि पिछड़े, दलित, आदिवासी और मुसलमानों की आबादी 90 प्रतिशत है। बाकी बचे हुए तथाकथित ऊंची जाति की आबादी 10 प्रतिशत। मैं केवल 90 प्रतिशत शोषितों के लिए राजनीति करता हूं।

जगदेव प्रसाद अपने विचारों के प्रति कितने प्रतिबद्ध थे, इसका पता इसी से चलता है कि उन्होंने साफ तौर पर घोषित कर रखा था – “ऊंची जाति वालों ने हमारे बाप-दादों से हलवाही करवाई है। मैं उनकी राजनीतिक हलवाही करने के लिए पैदा नहीं हुआ हूं।”

जगदेव प्रसाद भविष्य में होने वाले बदलावों को लेकर आश्वस्त थे। उन्होंने कहा था- “मैं आज सौ वर्षों की लड़ाई की नींव डाल रहा हूं। यह एक क्रांतिकारी पार्टी होगी। जिसमें आने और जाने वालों की कमी नहीं रहेगी। परंतु इसकी धारा रूकेगी नहीं। पहली पीढ़ी के लोग मारे जाएंगे। दूसरी पीढ़ी के लोग जेल जाएंगे और तीसरी पीढ़ी के लोग राज करेंगे। जीत अंततोगत्वा हमारी ही होगी।”

जगदेव प्रसाद बिहार की राजनीति के अगुआ नेता थे। उनके द्वारा स्थापित शोषित दल ने 1968 में ही सरकार बनाने में सफलता हासिल कर ली। सतीश प्रसाद सिंह ओबीसी समाज से आने वाले पहले मुख्यमंत्री बने। हालांकि राजनीतिक कारणों से यह फैसला लिया गया था और वे महज तीन दिन के लिए सीएम रहे। उनके बाद बी.पी. मंडल मुख्यमंत्री बने। वे भी ओबीसी समाज के ही थे। यह सब संभव हुआ जगदेव प्रसाद के नेतृत्व के कारण। 

बहरहाल, जगदेव प्रसाद की राजनीति केवल सत्ता पाने की राजनीति नहीं थी। वे समाज में आमूलचूल बदलाव चाहते थे। वे जाति व्यवस्था के विरोधी थे और हिंदू धर्म में पाखंड का खुलकर विरोध करते थे। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री रामस्वरूप वर्मा तब समाज दल का नेतृत्व करते थे और उन्होंने 1 जून, 1968 को अर्जक संघ की स्थापना की थी, जो ब्राह्म्णवाद को खारिज करता था और इसका उद्देश्य मानववाद को स्थापित करना था। जगदेव प्रसाद भी अर्जक संघ के विचारों को मानते थे। इन्हीं वैचारिक समानताओं के कारण 7 अगस्त, 1972 को दोनों नेताओं ने पटना में मिलकर शोषित समाज दल का गठन किया, जिसके राष्ट्रीय अध्यक्ष रामस्वरूप वर्मा और महामंत्री जगदेव प्रसाद चुने गए। 

इस बीच जगदेव प्रसाद बिहार की राजनीति को बपौती मानने वाले सामंती ताकतों की आंखों में कांटों की तरह चुभने लगे थे। वर्ष 1974 में इंदिरा गांधी सरकार के खिलाफ एक ओर जहां जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में संपूर्ण क्रांति का आंदोलन चल रहा था। वहीं जगदेव बाबू ने सात सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन चला रखा था। इसी क्रम में 5 सितंबर, 1974 को जगदेव प्रसाद कुर्था (तत्कालीन जिला गया और अब अरवल) प्रखंड कार्यालय पर हजारों किसानों मजदूरों के साथ दल की मांगों के समर्थन में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। तभी उन्हें एक साजिश के तहत गोली मारकर हत्या कर दी गई।

हत्यारों ने भले ही जगदेव प्रसाद की हत्या कर दी, लेकिन वे उनके विचारों की हत्या नहीं कर सके। आज भी उनका नारा बिहार के दलितों-पिछड़ों में जोश भर देता है- “सौ में नब्बे शोषित हैं, शोषितों ने ललकारा है। धन, धरती और राजपाट में नब्बे भाग हमारा है। दस का शासन नब्बे पर नहीं चलेगा – नहीं चलेगा।” यही वजह है कि जगदेव प्रसाद को याद करते समय उनके समर्थक मातम नहीं मनाते हैं, बल्कि हर वर्ष जयंती के मौके पर यानी 2 फरवरी को कुर्था प्रखंड कार्यालय में तीन दिनों का मेला लगाते हैं, जिसमें देश भर से लोग भाग लेते हैं।

(संपादन : सिद्धार्थ/नवल)

About The Author

One Response

  1. अर्जक संघ Reply

Reply