बुद्ध से लेकर रैदास तक बहुजन नायकों के ब्राह्मणीकरण का प्रपंच

द्विज वर्ग की हमेशा कोशिश रही है कि वह बहुजनों को अपना दास बनाए रखे। इसके लिए उसने बहुजन महानायकों को ब्राह्मण साबित करने की नाकाम कोशिशें की है। संत रैदास की जयंती के मौके पर बता रहे हैं ओमप्रकाश कश्यप

जाति जहां एक ओर बहुजनों के गले की फांस है, तो दूसरी ओर मुट्ठी-भर लोगों के लिए उनके विशेषाधिकारों का सुरक्षा-कवच है। ब्राह्मण व दूसरे सवर्ण नहीं चाहते कि जातिप्रथा समाप्त हो। वे तो चाहते हैं कि शूद्र सदैव शूद्र, दलित हमेशा दलित बना रहे। इसके लिए कदम-कदम पर साजिशें रची जाती हैं। यह षड्यंत्र जितना सामाजिक दिखता है, उससे कहीं ज्यादा मनोवैज्ञानिक है। ब्राह्मणों की सदैव कोशिश होती है कि दलित और शूद्र दोनों दिलो-दिमाग से उनके अधीन बने रहें। वे जहां भी, जिस हालत में भी हैं, उसी को अपनी नियति मान लें। इसके लिए वे न केवल गैर-ब्राह्मणों की संस्कृति में जबरन दखलंदाजी करते हैं, बल्कि उनसे उनका इतिहास, उनके महापुरुष तक छीन लेते हैं। एक उदाहरण संत रैदास का है। मसलन ‘भक्तमाल’ में एक जगह कहा गया है—

पूरा आर्टिकल यहां पढें : बुद्ध से लेकर रैदास तक बहुजन नायकों के ब्राह्मणीकरण का प्रपंच

Tags:

About The Author

Reply