प्रेम गोरखी : पंजाब के एक हमदर्द इंसान और जनसरोकारी लेखक

जाने-माने पंजाबी लघुकथा लेखक प्रेम गोरखी अपने साथियों के साथ दिल की गहराईयों से रिश्ता रखने के हामी थे। वे युवा लेखकों को प्रतिबद्धता और सरोकार के साथ लेखन करने के लिए प्रोत्साहित करते और छपास की दौड़ से दूर रहने की सलाह देते थे, बता रहे हैं रौनकी राम

प्रेम गोरखी (15 जून 1947 – 25 अप्रैल 2021) समाज के बहिष्कृत और कमजोरों में भी कमज़ोर वर्गों के लिए लिखते थे – उन वर्गों के लिए जो मुख्यधारा के लेखकों के कैनवास से बाहर रहते हैं। 

प्रेम गोरखी पंजाब के कपूरथला जिले के लाढोवाली गांव के एक साधारण दलित परिवार में जन्में थे। वे अर्जुन दास और राखी की छह संतानों में से एक थे। उनके माता-पिता ने उनका नाम रखा था प्रेम निमाना। गोरखी ने हर तरह की मुसीबतों का सामना करते हुए शिक्षा हासिल की और पंजाबी साहित्य की दुनिया में नाम कमाया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : प्रेम गोरखी : पंजाब के एक हमदर्द इंसान और जनसरोकारी लेखक

About The Author

Reply