h n

प्रेम गोरखी : पंजाब के एक हमदर्द इंसान और जनसरोकारी लेखक

जाने-माने पंजाबी लघुकथा लेखक प्रेम गोरखी अपने साथियों के साथ दिल की गहराईयों से रिश्ता रखने के हामी थे। वे युवा लेखकों को प्रतिबद्धता और सरोकार के साथ लेखन करने के लिए प्रोत्साहित करते और छपास की दौड़ से दूर रहने की सलाह देते थे, बता रहे हैं रौनकी राम

प्रेम गोरखी (15 जून 1947 – 25 अप्रैल 2021) समाज के बहिष्कृत और कमजोरों में भी कमज़ोर वर्गों के लिए लिखते थे – उन वर्गों के लिए जो मुख्यधारा के लेखकों के कैनवास से बाहर रहते हैं। 

प्रेम गोरखी पंजाब के कपूरथला जिले के लाढोवाली गांव के एक साधारण दलित परिवार में जन्में थे। वे अर्जुन दास और राखी की छह संतानों में से एक थे। उनके माता-पिता ने उनका नाम रखा था प्रेम निमाना। गोरखी ने हर तरह की मुसीबतों का सामना करते हुए शिक्षा हासिल की और पंजाबी साहित्य की दुनिया में नाम कमाया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : प्रेम गोरखी : पंजाब के एक हमदर्द इंसान और जनसरोकारी लेखक

लेखक के बारे में

रौनकी राम

रौनकी राम पंजाब विश्वविद्यालय,चंडीगढ़ में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर हैं। उनके द्वारा रचित और संपादित पुस्तकों में ‘दलित पहचान, मुक्ति, अतेय शक्तिकरण’, (दलित आइडेंटिटी, इमॅनिशिपेशन एंड ऍमपॉवरमेंट, पटियाला, पंजाब विश्वविद्यालय पब्लिकेशन ब्यूरो, 2012), ‘दलित चेतना : सरोत ते साररूप’ (दलित कॉन्सशनेस : सोर्सेए एंड फॉर्म; चंडीगढ़, लोकगीत प्रकाशन, 2010) और ‘ग्लोबलाइजेशन एंड द पॉलिटिक्स ऑफ आइडेंटिटी इन इंडिया’, दिल्ली, पियर्सन लॉंगमैन, 2008, (भूपिंदर बरार और आशुतोष कुमार के साथ सह संपादन) शामिल हैं।

संबंधित आलेख

दलित कविता में प्रतिक्रांति का स्वर
उत्तर भारत में दलित कविता के क्षेत्र में शून्यता की स्थिति तब भी नहीं थी, जब डॉ. आंबेडकर का आंदोलन चल रहा था। उस...
पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
यूपी : दलित जैसे नहीं हैं अति पिछड़े, श्रेणी में शामिल करना न्यायसंगत नहीं
सामाजिक न्याय की दृष्टि से देखा जाय तो भी इन 17 जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने से दलितों के साथ अन्याय होगा।...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (अंतिम कड़ी)
आधुनिक हिंदी कविता के पहले चरण के सभी कवि ऐसे ही स्वतंत्र-संपन्न समाज के लोग थे, जिन्हें दलितों, औरतों और शोषितों के दुख-दर्द से...