h n

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव : भाजपा नहीं, आरएसएस की प्रत्यक्ष हार

वर्ष 2014 में केंद्र में अपने स्वयंसेवक को गद्दीनशीं करके आरएसएस चुप नहीं बैठा। उसके निशाने पर सनातनियों का बौद्धिक गढ़ रहा पश्चिम बंगाल था। सत्ता के लिए उसने प्रणब मुखर्जी का उपयोग किया। परंतु, मोहन भागवत की प्रत्यक्ष भागीदारी और तिकड़मों को पश्चिम बंगाल की जनता ने बुरी तरह नकार दिया। बता रहे हैं भंवर मेघवंशी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और बंगाल का रिश्ता बहुत पुराना है। वैसे तो आधिकारिक तौर पर आरएसएस ने 1939 से बंगाल में काम शुरू किया लेकिन उसका अनौपचारिक जुड़ाव लंबा है। संघ के संस्थापक केशव बलिराम हेडगेवार की डाक्टरी की पढ़ाई बीसवीं शताब्दी के दूसरे दशक में वहीं हुई। उनके संघी जीवनीकार यह भी दावा करते हैं कि हेडगेवार क्रांतिकारी संगठन अनुशीलन समिति से भी जुड़े रहे और उन्होंने छद्म नाम से विप्लव में भागीदारी निभाई। आज़ादी के आंदोलन के ऐतिहासिक दस्तावेज़ इस संघी दावे की पुष्टि नहीं करते हैं। फिर भी यह तो माना ही जा सकता है कि संघ के संस्थापक हेडगेवार का रिश्ता बंगाल से रहा ही है। इसके बाद जब आरएसएस ने परोक्ष राजनीति में भाग लेने के लिए भारतीय जनसंघ बनाया, जिसके पहले अध्यक्ष श्यामा प्रसाद मुखर्जी को बनाया गया। उन्होंने वर्ष 1952 के पहले आम चुनाव में जीत भी पश्चिमी बंगाल से हासिल की थी। हिंदुत्व राजनीति में प्रमुख भूमिका निभाने वाली सांप्रदायिक पार्टी हिंदू महासभा को भी बंगाल में राजनीतिक ज़मीन मिलती रही है। लेकिन आरएसएस को वाममोर्चे के लंबे शासन के दौरान अपने पांव जमाने का अवसर नहीं मिल पाया। हालांकि उसकी नफ़रत की राजनीति के लिए सर्वथा उपयुक्त और उर्वरा ज़मीन बंगाल की रही।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव : भाजपा नहीं, आरएसएस की प्रत्यक्ष हार

लेखक के बारे में

भंवर मेघवंशी

भंवर मेघवंशी लेखक, पत्रकार और सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यकर्ता हैं। उन्होंने आरएसएस के स्वयंसेवक के रूप में अपना सार्वजनिक जीवन शुरू किया था। आगे चलकर, उनकी आत्मकथा ‘मैं एक कारसेवक था’ सुर्ख़ियों में रही है। इस पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद हाल में ‘आई कुड नॉट बी हिन्दू’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ है। संप्रति मेघवंशी ‘शून्यकाल डॉट कॉम’ के संपादक हैं।

संबंधित आलेख

बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिकता नहीं है, वह...
ओबीसी के हितों की अनदेखी नहीं होने देंगे : हंसराज गंगाराम अहिर
बहुजन साप्ताहिकी के तहत इस बार पढ़ें ईडब्ल्यूएस संबंधी संविधान पीठ के फैसले को कांग्रेसी नेत्री जया ठाकुर द्वारा चुनाैती दिये जाने व तेलंगाना...
धर्मांतरण देश के लिए खतरा कैसे?
इस देश में अगर धर्मांतरण पर शोध किया जाए, तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आएंगे। और वह यह कि सबसे ज्यादा धर्म-परिवर्तन इस देश...
डिग्री प्रसाद चौहान के खिलाफ मुकदमा चलाने की बात से क्या कहना चाहते हैं तुषार मेहता?
पीयूसीएल की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष और मानवाधिकार कार्यकर्ता डिग्री प्रसाद चौहान द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान तुषार मेहता...
भोपाल में आदिवासियों ने कहा– हम बचा लेंगे अपनी भाषा, बस दमन-शोषण बंद करे सरकार
अश्विनी कुमार पंकज के मुताबिक, एक लंबे अरसे तक राजकीय संरक्षण हासिल होने के बाद भी संस्कृत आज खत्म हो रही है। वहीं नागा,...