h n

उपेक्षित हैं कोरोना के कारण शहीद हुए सफाईकर्मियों के परिजन

दिल्ली में सफाईकर्मी समुदाय के कम से कम 50 लोगों की मौत कोरोना के कारण हुई है। इनमें से कई थे जो अपने परिवार का पेट चलाने वाले एकमात्र थे। उनकी मौत के उनके परिजन बेहाल हैं। उन्हें कोई सहायता नहीं दी जा रही है। बता रहे हैं राज वाल्मीकि

दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर भले ही उतार पर है। लेकिन अकेले केवल दिल्ली में सफाईकर्मी समुदाय के कम से कम 50 लोगों की मौत कोरोना काल में हो गई है। उनके परिजनों का आज हाल-बेहाल है। कई परिवार तो ऐसे हैं, जिनमे कमाने वाला शख्स ही कोरोना का शिकार हो गया। वहीं सरकार की तरफ से ऐसे परिवारों को कोई राहत नहीं दी जा रही है। हालांकि केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार दोनों के द्वारा अखबारों में दावे किए जा रहे हैं। दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने तो विज्ञापनों में स्पष्ट रूप से कहा है– “कोविड से जो दुनिया छोड़ गए, उनके परिवारों के साथ है दिल्ली सरकार”। लेकिन हकीकत में शहीद सफाई कर्मियों के परिजनों को किसी प्रकार की मदद नहीं दी जा रही है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : उपेक्षित हैं कोरोना के कारण शहीद हुए सफाईकर्मियों के परिजन

लेखक के बारे में

राज वाल्मीकि

'सफाई कर्मचारी आंदोलन’ मे दस्तावेज समन्वयक राज वाल्मीकि की रचनाएं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। इन्होंने कविता, कहानी, व्यग्य, गज़़ल, लेख, पुस्तक समीक्षा, बाल कविताएं आदि विधाओं में लेखन किया है। इनकी अब तक दो पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं कलियों का चमन (कविता-गजल-कहनी संग्रह) और इस समय में (कहानी संग्रह)।

संबंधित आलेख

केंद्रीय शिक्षा मंत्री को एक दलित कुलपति स्वीकार नहीं
प्रोफेसर लेल्ला कारुण्यकरा के पदभार ग्रहण करने के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा में आस्था रखने वाले लोगों के पेट में...
आदिवासियों की अर्थव्यवस्था की भी खोज-खबर ले सरकार
एक तरफ तो सरकार उच्च आर्थिक वृद्धि दर का जश्न मना रही है तो दूसरी तरफ यह सवाल है कि क्या वह क्षेत्रीय आर्थिक...
विश्व के निरंकुश देशों में शुमार हो रहा भारत
गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय, स्वीडन में वी-डेम संस्थान ने ‘लोकतंत्र रिपोर्ट-2024’ में बताया है कि भारत में निरंकुशता की प्रक्रिया 2008 से स्पष्ट रूप से शुरू...
मंडल-पूर्व दौर में जी रहे कांग्रेस के आनंद शर्मा
आनंद शर्मा चाहते हैं कि राहुल गांधी भाजपा की जातिगत पहचान पर आधारित राजनीति को पराजित करें, मगर इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की...
एक शाम जेएनयू छात्रसंघ के नवनिर्वाचित सदस्यों के साथ
छात्रसंघ के लिए यह इम्तहान का वक़्त है कि वह कैसे हठधर्मी प्रशासन से लड़ेगा? कैंपस के छात्रों ने इस बात पर मायूसी ज़ाहिर...