सामाजिक-राजनैतिक स्तर पर खंडित हैं पंजाब के दलित

पंजाब के दलित पहले से ही धार्मिक निष्ठाओं और परंपरागत व्यवसायों के आधार पर बंटे हुए थे। इस स्थिति का मुख्यधारा की राजनैतिक पार्टियों ने जमकर दोहन किया, जिससे उनके बीच की विभाजक रेखाएं और गहरी होती गईं हैं, बता रहे हैं रौनकी राम

पंजाब में कुल आबादी में दलितों की आबादी का अनुपात, भारत के किसी भी अन्य राज्य की तुलना में सबसे अधिक है। पंरतु राज्य का दलित समुदाय एकसार नहीं है। यह 39 जातियों में बंटा हुआ है, जिनकी आध्यात्मिक निष्ठा अलग-अलग धर्मों और डेरों के प्रति है। ऊंच-नीच पर आधारित इन विभाजक रेखाओं के कारण ही यह समुदाय राज्य में चुनावों में अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करवा पाता है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : सामाजिक-राजनैतिक स्तर पर खंडित हैं पंजाब के दलित

About The Author

Reply