h n

नजरिया : दिल्ली नहीं, यूपी की राजनीति करें अखिलेश, तभी मजबूत होगी सपा

हाल के चुनाव में सपा ने मज़बूत वापसी की है। हालांकि अखिलेश यादव सत्ता से दूर रह गए, लेकिन उनको अपार जनसमर्थन मिला है। ज़ाहिर है क उनके लिए 2027 का विधानसभा चुनाव 2024 के लोक सभा चुनाव से कहीं ज़्यादा अहम है। बता रहे हैं सैयद जै़गम मुर्तजा

उत्तर प्रदेश से ख़बर है कि राज्य में सरकार बनाने में नाकाम रहे समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव करहल विधानसभा सीट से इस्तीफा देंगे। ख़बर यह भी है कि अब यूपी में शिवपाल यादव पार्टी की तरफ से मोर्चा संभालेंगे। इसके पीछे दलील दी जा रही है कि अखिलेश यादव आज़मगढ़ से अपना रिश्ता बनाए रखना चाहते हैं। हालांकि विधानसभा सीट पर लोक सभा की सदस्यता को वरीयता देने की तमाम वजहें हो सकती हैं, लेकिन सवाल यह है कि ऐसा करके अखिलेश यादव क्या हासिल कर लेंगे?

हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में अखिलेश यादव ने करहल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। इस सीट पर उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार व आगरा के मौजूदा सांसद सह केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल को क़रीब 67 हज़ार वोटों से मात दी। विधानसभा के अलावा अखिलेश यादव आज़मगढ़ सीट से सांसद भी हैं। ज़ाहिर है अखिलेश को फैसला करना है कि वह लोक सभा की अपनी सदस्यता बरक़रार रखें या फिर इस्तीफा देकर विधानसभा में मज़बूती से अपनी पार्टी और अपने वोटरों की नुमांदगी करें।

निश्चित तौर पर यह अखिलेश यादव का निजी फैसला है कि वह आगे संसद की राजनीति करना चाहते हैं या फिर राज्य में बने रहकर अगले चुनावों की गंभीर तैयारी करते हैं। संसद की सदस्यता जारी रखने के उन्हें तीन फायदे हैं। दिल्ली में सरकारी आवास बना रहेगा, दिल्ली में मीडिया कवरेज बेहतर होता है, और संसद में उठाए गए मुद्दों को महत्व मिलता है। लेकिन यह तब तक ठीक है जब आपको राष्ट्रीय राजनीति में अपना विस्तार करना हो या फिर यूपी के बाहर, दूसरे राज्यों में पार्टी मज़बूत करनी है। मौजूदा हालात में इनमें से कोई भी कारण नज़र नहीं आता। 

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव

राष्ट्रीय राजनीति के ज़रिए हो सकता है अखिलेश यादव 2024 के लोक सभा चुनावों में अपनी पार्टी की कुछ सीट बढ़ा लें। मगर अखिलेश को लंबे अरसे की राजनीति करनी है तो करहल छोड़ना समझदारी भरा फैसला नहीं माना जाएगा। हाल के चुनाव में सपा ने मज़बूत वापसी की है। हालांकि अखिलेश यादव सत्ता से दूर रह गए, लेकिन उनको अपार जनसमर्थन मिला है। ज़ाहिर है कि उनके लिए 2027 का विधानसभा चुनाव 2024 के लोक सभा चुनाव से कहीं ज़्यादा अहम है। ऐसे में उत्तर प्रदेश विधान सभा का सदस्य बने रहना, और स्थानीय मुद्दों पर लगातार राजनीति करना उनके लिए ज़रुरी है।

अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश में रहेंगे तो ज़ाहिर है उनके कार्यकर्ता लगातार सक्रिय रहेंगे। उनकी पार्टी लोगों के बीच बनी रहेगी तो पार्टी भी मज़बूत होगी और सरकार पर भी जनहित में काम करने का दबाव बना रहेगा। इसका फायदा अगले लोक सभा चुनावों में ख़ुद-ब-ख़ुद समाजवादी पार्टी को मिल जाएगा। वैसे भी अब जिस तरह की राजनीति हो रही है, ऐसे में प्रदेश में दमदार नेताओं की मौजूदगी ज़रूरी है। अखिलेश लखनऊ में रहकर अपने कोर वोटर को तो संरक्षित करेंगे ही, अपनी पार्टी का दूसरे जातीय समूहों में विस्तार करने का मौक़ा भी उनके पास रहेगा। कार्यकर्ताओं की नेता तक पहुंच न होने की शिकायत भी ख़त्म होगी।

आज़मगढ़ सीट से अखिलेश यादव स्वामी प्रसाद मौर्य, या जयंत चौधरी को संसद में भेजकर गठबंधन या फिर पार्टी का दूसरे जातीय समूह में विस्तार कर सकते हैं। वह आज़मगढ़ से किसी मुसलमान को चुनाव जिताकर इलाक़े में एमआईएम जैसी पार्टियों के विस्तार के ख़तरे को ख़त्म कर सकते हैं। साथ ही वह चाहें तो विपक्ष के किसी मज़बूत नेता को सांसद बनाने के नाम पर अपनी पार्टी में शामिल कर सकते हैं। इसका लंबी अवधि में फायदा उनकी ही पार्टी को मिलेगा। संसद में मुलायम सिंह यादव, आज़म ख़ान, और रामगोपाल यादव जैसे नेता पहले से ही हैं। ऐसे में वह संसद में नहीं भी रहेंगे तब भी पार्टी को कोई नुक़सान होने वाला नहीं है।

आख़िर में इतना ही कहा जा सकता है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा से मुक़ाबला तभी किया जा सकता है जब अखिलेश यादव ख़ुद ज़मीन पर रहकर काम करें। चुनाव ख़त्म होते ही उनकी पार्टी के सदस्यों पर मुक़दमे दर्ज होने शुरु हो गए हैं। राज्य के दलित, पिछड़ों में अजीब से ख़ौफ का माहौल है। उनको सरकारी ज़्याद्तियों से बचाने के लिए संरक्षण की ज़रूरत है और मौजूदा हालात में अखिलेश से बेहतर संरक्षक कोई दूसरा नहीं हो सकता।  

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

सैयद ज़ैग़म मुर्तज़ा

उत्तर प्रदेश के अमरोहा ज़िले में जन्मे सैयद ज़ैग़़म मुर्तज़ा ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से लोक प्रशासन और मॉस कम्यूनिकेशन में परास्नातक किया है। वे फिल्हाल दिल्ली में बतौर स्वतंत्र पत्रकार कार्य कर रहे हैं। उनके लेख विभिन्न समाचार पत्र, पत्रिका और न्यूज़ पोर्टलों पर प्रकाशित होते रहे हैं।

संबंधित आलेख

उत्तर भारत में ओबीसी ने रामचरितमानस के खिलाफ बजाया विद्रोह का डंका
यह कदाचित पहली बार है कि उत्तर भारत के शूद्र और दलित राजनेता, प्राचीन और मध्यकाल में ब्राह्मणों के जातिवादी (कथित हिंदू) लेखन के...
आजमगढ़ का खिरिया बाग आंदोलन : ग्रामीण महिलाएं संभाल रहीं मोर्चा
धरने पर बैठीं जमुआ गांव की केवलपत्ती देवी से एक पत्रकार जब पूछती हैं कि कब तक आप सब ये आंदोलन चलाएंगीं तो वे...
दलित-बहुजनों को अपमानित करनेवाली किताबों को जलाने या न जलाने का प्रश्न
सवाल उठता है कि यदि ‘रामचरितमानस’ और ‘मनुस्मृति’ नहीं जलाई जानी चाहिए, तो रावण का पुतला जलाना भी बंद होना चाहिए, होलिका दहन भी...
ताकतवर हाथियों के बीच चीटियों की दास्तान
सुजाता गिडला की यह किताब रेखांकित किये जाने के योग्य है। सत्यम और मंजुला के जीवन-वृत्त को पढ़ कर हम यह पाते हैं कि...
बहस-तलब : बाबाओं को क्यों बचाना चाहती है भारतीय मीडिया?
यह तो अब आम बात है कि बाबाओं की बड़ी फौज देश मे हर प्रदेश में खड़ी हो गई है। अब उनके पास न...