h n

गली क्रिकेट लीग, वंचित बच्चों की आंखों में तैरते सपने को सच करने की मुहिम

“मैं क्रिकेट खिलाड़ी बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी से कड़ी मेहनत करने को तैयार हूं।” यह कहना है प्रहलाद का। रोज़ कमाने-खाने वाले उसके पिता बड़ी मुश्किल से पांच सदस्यों के अपने परिवार का पेट पाल पाते हैं। लेकिन आर्थिक तंगी के बावजूद प्रहलाद अपने लक्ष्य को पाने के लिए दृढप्रतिज्ञ है। बता रहे हैं मनीष राज

पूरे देश में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की धूम के बीच एक और क्रिकेट लीग की शुरुआत हुई है। भले ही इस लीग के बारे में कम ही लोग जानते हैं, परन्तु यह दिल्ली की स्लम बस्तियों में रहने वाले दर्जनों बच्चों के सपनों में रंग भर रही है। यह है गली क्रिकेट लीग (जीसीएल)। यह भविष्य के क्रिकेट खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दे रही है ताकि उनकी ज़िन्दगी का संघर्ष और वंचना उनके सपनों को पूरा करने की राह में बाधक न आ सके।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : गली क्रिकेट लीग, वंचित बच्चों की आंखों में तैरते सपने को सच करने की मुहिम

लेखक के बारे में

मनीष राज

मनीष राज स्वतंत्र पत्रकार व वरिष्ठ जनसंपर्क विशेषज्ञ हैं

संबंधित आलेख

उत्तर भारत में ओबीसी ने रामचरितमानस के खिलाफ बजाया विद्रोह का डंका
यह कदाचित पहली बार है कि उत्तर भारत के शूद्र और दलित राजनेता, प्राचीन और मध्यकाल में ब्राह्मणों के जातिवादी (कथित हिंदू) लेखन के...
आजमगढ़ का खिरिया बाग आंदोलन : ग्रामीण महिलाएं संभाल रहीं मोर्चा
धरने पर बैठीं जमुआ गांव की केवलपत्ती देवी से एक पत्रकार जब पूछती हैं कि कब तक आप सब ये आंदोलन चलाएंगीं तो वे...
दलित-बहुजनों को अपमानित करनेवाली किताबों को जलाने या न जलाने का प्रश्न
सवाल उठता है कि यदि ‘रामचरितमानस’ और ‘मनुस्मृति’ नहीं जलाई जानी चाहिए, तो रावण का पुतला जलाना भी बंद होना चाहिए, होलिका दहन भी...
ताकतवर हाथियों के बीच चीटियों की दास्तान
सुजाता गिडला की यह किताब रेखांकित किये जाने के योग्य है। सत्यम और मंजुला के जीवन-वृत्त को पढ़ कर हम यह पाते हैं कि...
बहस-तलब : बाबाओं को क्यों बचाना चाहती है भारतीय मीडिया?
यह तो अब आम बात है कि बाबाओं की बड़ी फौज देश मे हर प्रदेश में खड़ी हो गई है। अब उनके पास न...