h n

बातें नथाराम और श्रीकृष्ण पहलवान की

नथाराम दो सौ से भी ज्यादा संगीत नाटकों के लेखक माने जाते हैं। पर वास्तव में उनमें अधिकांश के लेखक उस्ताद इंदरमन, चिरंजीलाल, और रूपराम थे। 1920 तक इन सभी की मृत्यु हो चुकी थी। इसलिए जितने भी नाटक प्रकाशित हुए, उन पर नथाराम शर्मा गौड़ का ही नाम गया। इनके अलावा प्रसिद्ध नौटंकीकार श्रीकृष्ण पहलवान को याद कर रहे हैं कंवल भारती

जिस तरह हरियाणा के लोक कलाकारों ने रागनी गायकी को बचाकर रखा है और उसको आगे बढ़ा रहे हैं, उस तरह वे सांग को नहीं बचा सके। शायद ही सांग अब प्रचलन में भी हो। इसी तरह उत्तर प्रदेश की नौटंकी और राजस्थान का ख्याल अथवा खेल भी अब शायद ही अस्तित्व में हो। मेरी जानकारी गलत भी हो सकती है।

लेकिन इन सांग और नौटंकियों का भी एक दौर था। 19वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में उत्तर भारत में दो लोक नाट्य प्रचलित थे– राजस्थानी ख्याल या खेल और हिन्दुस्तानी सांगीत या सांग। राजस्थानी खेल की जो सबसे प्राचीन किताबें ब्रिटिश लाइब्रेरी में मिलती हैं, उनके नाम हैं– प्रह्लाद सांगीत (1866) और गोपीचंद भरथरी (1867)। इन दोनों किताबों के रचयिता लक्ष्मण दास थे। जब इनके मंचन हुए, तो जनता में उनकी मांग को देखते हुए ये किताबें छापी गयीं थीं। ये दोनों सांगीत नाटक दिल्ली से छपे थे। आज हिंदी साहित्य की स्थिति यह है कि बड़े से बड़े लेखक की किताब भी 500 से ज्यादा संख्या में नहीं छापी जातीं। अगर वे सरकारी खरीद में न बिकें, तो दूसरा एडिशन उसका होता ही नहीं। लेकिन इन दोनों सांगीत नाटकों की एक-एक हजार प्रतियों के 1866 और 1883 के बीच क्रमशः 16 और 27 संस्करण प्रकाशित हुए थे। हिंदी न जानने वालों के लिए इनके दो संस्करण पर्सियन लिपि यानी उर्दू में भी छापे गए थे।

यही समय था जब अलीगढ़ के हाथरस में लावनी और ख्याल गायकी में एक बड़ा परिवर्तन आया था। यह इंदरमन का अखाड़ा था। इंदरमन अनपढ़ थे, लेकिन ख्याल लावनी खुद बनाकर गाते थे। वह छीपी जाति के थे और बुलंदशहर के जहांगीराबाद से आकर हाथरस में बसे थे। उनके अखाड़े के बहुत से शिष्य थे। वह अपनी कविताएं बोलकर लिखाते थे। इस अखाड़े का समय 1892 से 1920 तक है।

नथाराम शर्मा गाैड़ की दो किताबें का आवरण पृष्ठ

इसी बीच एक गरीब अंधा ब्राह्मण भीख मांगता हुआ हाथरस में घूमता था। उसके साथ एक सोलह साल का लड़का भजन गाता था। दोनों बाप-बेटे इसी तरह गाकर भीख मांग कर गुजारा करते थे। लड़के की आवाज बहुत मधुर थी। चेहरा भी आकर्षक था। इंदरमन के एक शिष्य चिरंजी लाल की उस पर नज़र पड़ गयी और उसने उसे इंदरमन से मिलवाया। उसकी गायकी सुनकर उसे अखाड़े में शामिल कर लिया गया। लड़के की वहां अच्छे से परवरिश हुई, उसे पढ़ाया लिखाया और गायकी तथा नृत्य कला की शिक्षा दी गयी। लड़का प्रतिभाशाली था। उसे अवसर मिला और वह अखाड़े का सबसे प्रखर कवि, गायक और अभिनेता के रूप में संगीत शिरोमणि हिंदी भूषण कवि पंडित नथाराम शर्मा गौड़ के नाम से विख्यात हुआ।

वह दो सौ से भी ज्यादा संगीत नाटकों के लेखक माने जाते हैं। पर वास्तव में उनमें अधिकांश के लेखक उस्ताद इंदरमन, चिरंजीलाल, और रूपराम थे। 1920 तक इन सभी की मृत्यु हो चुकी थी। इसलिए जितने भी नाटक प्रकाशित हुए, उन पर नथाराम शर्मा गौड़ का ही नाम गया। पर हर किताब पर “अखाड़ा उस्ताद इंदरमन” जरूर लिखा होता था। जब तक अखाड़े के कवियों ने अपना प्रेस नहीं लगा लिया था, तब तक नाटक कानपुर में छपते थे।

अगर यहां श्रीकृष्ण पहलवान का जिक्र नहीं किया जाय, तो बात पूरी नहीं होगी। उन्होंने कानपुर में नौटंकी को स्थापित किया था। क्या संयोग है कि 1891 में उन्नाव में जन्मे श्रीकृष्ण पहलवान भी अल्पायु में ही कानपुर में आए थे। वह पहलवानों के परिवार से थे और स्वयं भी पहलवानी करते थे। कानपुर में उनका झुकाव ख्याल यानी नौटंकी की तरफ हो गया था। नौटंकी लिखने में उन्होंने भी नथाराम शर्मा की तरह नाम कमाया था। कहते हैं कि 16 साल की उम्र में उन्होंने आर्यसमाजी शहीद हकीकत राय पर पूरी नौटंकी लिख डाली थी। यह नौटंकी 1913 में खेली गयी थी। इसी वर्ष उन्होंने ‘श्रीकृष्ण संगीत कम्पनी’ बनाई थी। उन्होंने 250 से भी ज्यादा संगीत नाटक लिखे थे। उनकी किताबों पर लंगोट बांधे हाथ में मुदगर लिए पहलवान का फोटो छपता था, जो उन्हीं का होता था। छंद लगभग उनके भी वही थे, जो इंदरमन अखाड़े के थे, पर उनकी धुन निराली थी और इसी धुन के कारण वह सबसे अलग थे। यह महान विभूति 1972 में देह छोड़ गयी थी।

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

कंवल भारती

कंवल भारती (जन्म: फरवरी, 1953) प्रगतिशील आंबेडकरवादी चिंतक आज के सर्वाधिक चर्चित व सक्रिय लेखकों में से एक हैं। ‘दलित साहित्य की अवधारणा’, ‘स्वामी अछूतानंद हरिहर संचयिता’ आदि उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उन्हें 1996 में डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 2001 में भीमरत्न पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

संबंधित आलेख

इतिहास पर आदिवासियों का दावा करतीं उषाकिरण आत्राम की कविताएं
उषाकिरण आत्राम इतिहास में दफन सच्चाइयों को न सिर्फ उजागर करती हैं, बल्कि उनके पुनर्पाठ के लिए जमीन भी तैयार करती हैं। इतिहास बोध...
हिंदी दलित कथा-साहित्य के तीन दशक : एक पक्ष यह भी
वर्तमान दलित कहानी का एक अश्वेत पक्ष भी है और वह यह कि उसमें राजनीतिक लेखन नहीं हो रहा है। राष्ट्रवाद की राजनीति ने...
‘साझे का संसार’ : बहुजन समझ का संसार
ईश्वर से प्रश्न करना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कबीर के ईश्वर पर सवाल खड़ा करना, बुद्ध से उनके संघ-संबंधी प्रश्न पूछना और...
व्यक्ति-स्वातंत्र्य के भारतीय संवाहक डॉ. आंबेडकर
ईश्वर के प्रति इतनी श्रद्धा उड़ेलने के बाद भी यहां परिवर्तन नहीं होता, बल्कि सनातनता पर ज्यादा बल देने की परंपरा पुष्ट होती जाती...
सरल शब्दों में समझें आधुनिक भारत के निर्माण में डॉ. आंबेडकर का योगदान
डॉ. आंबेडकर ने भारत का संविधान लिखकर देश के विकास, अखंडता और एकता को बनाए रखने में विशेष योगदान दिया और सभी नागरिकों को...