h n

लखनऊ विवि के दलित प्रोफेसर ने लगाया घेरकर जान से मारने के प्रयास का आरोप, कटघरे में पुलिस

पीड़ित प्रो. रविकांत चंदन ने दूरभाष पर बताया कि अपने साथ हुई घटना की जानकारी उन्होंने लिखित रूप में हसनगंज थाने के अधिकारियों को दी। लेकिन उन्होंने प्राथमिकी दर्ज नहीं की। जबकि देर शाम उनके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

जातिगत वर्चस्व बनाए रखने हेतु धर्मांधता की आग देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में फैल चुकी है। अब इसकी जद में लखनऊ विश्वविद्यालय भी आ गया है। विश्वविद्यालय के हिंदी विषय के प्रोफेसर रविकांत चंदन इसके शिकार हुए हैं। वे दलित वर्ग से आते हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के सदस्यों द्वारा उन्हें घेरकर जान से मारने का प्रयास किया गया। वहीं इस मामले में लखनऊ पुलिस पर भी सवाल उठ रहा है, जिसने पीड़ित प्रो. रविकांत चंदन द्वारा किये गये शिकायत को एफआईआर के रूप में दर्ज नहीं किया, लेकिन उसने देर शाम उत्पीड़कों द्वारा की गयी शिकायत को प्राथमिकी के रूप में दर्ज कर लिया।

बताते चलें कि प्रो. रविकांत चंदन दलित-बहुजन विमर्श को लेकर मुखर रहे हैं। इस मामले में उन्होंने दूरभाष पर जानकारी दी कि दो दिनों पहले 9 मई को ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के संबंध में एक यूट्यूब चैनल पर बहस में भाग लेते हुए उन्होंने प्रसिद्ध इतिहासकार पट्टाभि सीतारमैया की किताब का उद्धरण देते हुए अपनी बात कही थी। उन्होंने यह भी कहा कि उनके कथन को तोड़-मरोड़कर सोशल मीडिया पर वायरल किया गया। इसके बाद उनके कथन से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के सदस्य भड़क गए और बीते 10 मई को उन्होंने घेरकर जान से मारने का प्रयास किया था। इस क्रम में वे जातिगत अपशब्दों का उपयोग कर रहे थे।

प्रो. चंदन ने बताया कि अपने साथ हुई इस घटना के बारे में उन्होंने स्थानीय हसनगंज थाने को लिखित सूचना दी। इसमें उन्होंने 12 लोगों को नामित किया। इनमें अमन दूबे, प्रणवकांत सिंह, अजय प्रताप सिंह, विंध्यवासिनी शुक्ला, अभिषेक पाठक, अमर वर्मा, आयुष शुक्ला, हिमांशु तिवारी, आकाश सिन्हा, उत्कर्ष सिंह, सिद्धार्थ चतुर्वेदी, और सिद्धार्थ शाही व अन्य शामिल हैं।

पीड़ित प्रो. रविकांत चंदन

प्रो. चंदन के मुताबिक, 10 मई को जब वे अपनी शिकायत लेकर थाना पहुंचे तब स्थानीय अधिकारी ने उनकी बातें तो सुनी, लेकिन प्राथमिकी दर्ज नहीं की। इस संबंध में कहा गया कि मामला खत्म हो गया है। लेकिन यह सच नहीं था। देर शाम 6 बजकर 23 मिनट पर हसनगंज थाने की पुलिस ने प्रो. रविकांत चंदन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली। यह प्राथमिकी अमन दूबे द्वारा दर्ज करायी गयी है।

अपनी शिकायत में अमन दूबे ने लिखा– “मैं आपको सूचित करना चाहता हूं कि हिंदी विभाग के प्रोफेसर रविकांत चंदन द्वारा दिनांक 9/5/2022 को एक वीडियो में काशी विश्वनाथ तथा भारतीय संस्कृति के आधार साधु-संतों के उपर अभद्र व अमीदित [अमर्यादित] टिप्पणी की, जिससे विश्वविद्यालय के सामाजिक सौहार्द्र को बिगाड़ने का प्रयास किया गया है। हिंदू छात्रों के धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाया। साथ ही उन्होंने छात्रों के विरोध करने पर बाहर से गुंडों को बुलवाकर मारपीट भी करने का प्रयास किया। इसके अतिरिक्त सोशल मीडिया के माध्यम से दुष्प्रचार किया जा रहा है, जिससे विश्वविद्यालय व छात्रों की छवि धूमिल हो रही है। अत: आप महोदय से निवेदन है कि इसका संज्ञान लेकर सुसंगत धाराओं के अंतर्गत व आईटी एक्ट के अंतर्गत यथोचित कार्यवाही करने की कृपा करें। यथाशीघ्र एफआईआर दर्ज करने की कृपया करें।”

इस मामले में हसनगंज पुलिस ने फौरन ही भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए, 504, 505 (2) और आईटी एक्ट, 2008 की धारा 66 के तहत प्राथमिकी दर्ज कर लिया। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर प्रो. चंदन की शिकायत पर हसनगंज पुलिस ने संज्ञान क्यों नहीं लिया? या फिर वह अपने आलाकमान के आदेश का इंतजार कर ही थी?

(संपादन : अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़ : प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल (अंतिम भाग)
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
छत्तीसगढ़ : विरोध करती रह गई भाजपा, भूपेश सरकार ने कर दिया 76 फीसदी आरक्षण
विधेयक पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि राज्य में जिस समुदाय की जितनी आबादी है, उसके हिसाब से ही...
बहस-तलब : राष्ट्रपति के अनकहे का निहितार्थ
छोटे-मोटे अपराधों के आरोपियों की जिंदगी बिना मुकदमा की सुनवाई के जेलों में खत्म हो जाती है और किसी को उनकी सुध भी नहीं...
ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़: प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिकता नहीं है, वह...