h n

छत्तीसगढ़ : नक्सल हमले के 105 आरोपी आदिवासी दोष मुक्त, पांच साल बाद मिली रिहाई

एक सवाल तो यह शेष है कि जिन 105 आदिवासियों को नक्सल होने के आरोप में पांच साल तक जेल में रखा गया और जिसके कारण उन्हें प्रताड़ना झेलनी पड़ी व उनके परिजनों को परेशानियां हुईं, सरकार को क्या उन्हें समुचित मुआवजा नहीं देना चाहिए? तामेश्वर सिन्हा की खबर

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के बुर्कापाल में हुए नक्सल हमले के आरोपी बनाए गए 105 आदिवासी दोष मुक्त घोषित कर दिए गए हैं। यह फैसला गत 16 जुलाई को एनआइए के विशेष न्यायाधीश दीपक कुमार देशलहरे ने सुनाया। 

बताते चलें कि 25 अप्रैल, 2017 में छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग अंतर्गत सुकमा जिले के बुर्कापाल में नक्सली हमले के कारण 25 जवान शहीद हुए थे। इस मामले में पुलिस ने 105 ग्रामीणों को गिरफ्तार कर जेल में बंद किया था। सभी ग्रामीणों को पांच साल बाद रिहा कर दिया गया है। 

हालांकि इस पूरे मामले में गांव वालों पर घायल नक्सलियों के इलाज का भी आरोप लगा था। जेल से रिहा हुए निर्दोष आदिवासी ग्रामीणों का कहना है कि वह सुकमा, बीजापुर जिले के अंदरूनी इलाकों में खेती किसानी करके अपना जीवन यापन करते हैं। साथ ही उनका नक्सलियों से किसी भी प्रकार का कोई संबंध नहीं था। इसके बावजूद भी पुलिस के जवानों ने नक्सल सहयोगी के नाम पर उन्हें जेलों में बंद कर दिया था। साथ ही ग्रामीणों ने बताया कि किसी भी निर्दोष को जेलों में बंद नहीं करना चाहिए। क्योंकि इससे निर्दोष के अलावा पूरा परिवार बिखर जाता है। उन्हें यह भी पता नहीं है कि अभी उनके घर की स्थिति क्या है?

रिहा होने के बाद घर जाने की तैयारी में आदिवासी (तस्वीर : तामेश्वर सिन्हा)

आदिवासियों का कहना है कि वे आगे भी खेती किसानी करके अपना जीवनयापन करेंगे। सभी निर्दोष ग्रामीण बस में बैठकर अपने घर की ओर चले गए। रिहा हुए ग्रामीणों ने कोर्ट और सरकार का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि रिहाई के बाद परिवार से मिलना है। इस खुशी मे सभी निर्दोष ग्रामीणों के चेहरे खिले दिखे।

बहरहाल, इस पूरे मामले में एक सवाल तो यह शेष है कि जिन 105 आदिवासियों को नक्सल होने के आरोप में पांच साल तक जेल में रखा गया और जिसके कारण उन्हें प्रताड़ना झेलनी पड़ी व उनके परिजनों को परेशानियां हुईं, सरकार को क्या उन्हें समुचित मुआवजा नहीं देना चाहिए?

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

तामेश्वर सिन्हा

तामेश्वर सिन्हा छत्तीसगढ़ के स्वतंत्र पत्रकार हैं। इन्होंने आदिवासियों के संघर्ष को अपनी पत्रकारिता का केंद्र बनाया है और वे विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में निरंतर रिपोर्टिंग करते हैं

संबंधित आलेख

जातिगत फंदे से कब निजात पाएगी न्यायपालिका?
पिछले 70 वर्षों से जिस तरह एससी और एसटी समुदाय का प्रतिनिधित्व उच्च न्यायालयों में नगण्य रहा है। इस कारण इस संस्था के प्रति...
खिरियाबाग आंदोलन : साम-दाम-दंड-अर्थ-भेद सब अपना रही सरकार
जमुआ गांव की सुनीता भारती बताती हैं कि पूरे आठ गांवों में घनी आबादी है कि जब वे उजाड़ दिए जाएंगे तो कहां जाएंगे?...
तीसरे दलित साहित्य उत्सव में रहा सबकी भागीदारी बढ़ाने पर जोर
इस बार के दलित साहित्य उत्सव के मौके पर तीन पुस्तकों का विमोचन भी किया गया। इनमे चौथीराम यादव द्वारा लिखित पुस्तक 'बात कहूं...
एक दलित-बहुजन यायावर की भूटान यात्रा (तीसरा भाग)
मैं जब पुनाखा जिले की राह में स्थित धार-चू-ला के नज़दीक स्थित एक बौद्ध मठ में गया तो मुझे उसके एक कमरे में जाने...
क्यों बख्शें तुलसी को?
अगर मंडल कमीशन और सिमोन द बुआ का स्त्री-विमर्श आ भी गया होता, तब भी तुलसी स्त्री-शूद्र के समर्थक नहीं होते, क्योंकि जब मंडल...