h n

दलित-मुक्ति में हिंदी नवजागरण काल की पत्रकारिता और भूमिका

हिंदी नवजागरण में, चाहे वह उन्नसीवीं शताब्दी का हो या बीसवीं शताब्दी का, दलित कहीं केंद्र में नहीं है। इससे यह बात साफ हो जाती है कि शूद्र और अछूत को इस नवजागरण के प्रवर्त्तक हिंदू समाज का अंग नहीं मानते थे। वे अपने रचनाकर्म में हिंदुत्व और हिंदू धर्मशास्त्रों पर जिस तरह मुग्ध नजर आते हैं, उससे दलित-शूद्रों का जीवन उनके लिये चिंतनीय हो भी कैसे सकता था? पढ़ें, कंवल भारती के इस विस्तृत आलेख का पहला भाग

वर्ष 1914 में जब पटना के हीरा डोम की भोजपुरी कविता ‘अछूत की शिकायत’ को पंडित महावीर प्रसाद द्विवेदी ने ‘सरस्वती’ में छापा, तो उनका क्या मकसद रहा होगा? यह प्रश्न मेरे लिये बहुत विचारणीय है। विचारणीय कई तरह से है। एक, इसलिए कि उस कालखंड में ‘सरस्वती’ का पाठक शायद ही दलित वर्ग में कोई हो। तब, ‘सरस्वती’ के द्विज पाठक वर्ग पर इस कविता का क्या प्रभाव पड़ा होगा? दो, क्या यह गांधीवाद का प्रभाव था? ऐसा इसलिये नहीं कहा जा सकता कि गांधी जी जी के ‘हरिजनोद्धार’ को 15 साल बाद पैदा होना था। गांधीवाद (दलित संदर्भ में) 1932 में अस्तित्व में आया था, जब डॉ. आंबेडकर के साथ ‘पूना-पैक्ट’ हुआ था। तीन, क्या इसके पीछे कोई सामाजिक दबाव था? यह हो सकता है। उस कालखंड में इसके कारण भी मौजूद थे। वे कारण क्या थे?

पूरा आर्टिकल यहां पढें : दलित-मुक्ति में हिंदी नवजागरण काल की पत्रकारिता और भूमिका

लेखक के बारे में

कंवल भारती

कंवल भारती (जन्म: फरवरी, 1953) प्रगतिशील आंबेडकरवादी चिंतक आज के सर्वाधिक चर्चित व सक्रिय लेखकों में से एक हैं। ‘दलित साहित्य की अवधारणा’, ‘स्वामी अछूतानंद हरिहर संचयिता’ आदि उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उन्हें 1996 में डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 2001 में भीमरत्न पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

संबंधित आलेख

क्रांतिकारी परंपरा को बढ़ातीं रजत रानी मीनू की कविताएं
दलित कविता की ताकत वही चेतना है, जिसमें बाबासाहेब की बताई हुई राह और दृष्टि है। वह कहते थे कि सवर्णों के बताए हुए...
राजेश कुमार का नाटक : कह रैदास खलास चमारा (अंतिम भाग)
नाटककार ने यज्ञोपवीत में विश्वास दिखाकर रैदास का विश्वास भी जनेऊ में दिखा दिया है। इस प्रकार निर्गुण रैदास यहां ब्राह्मणवादी बना दिए गए...
बस कंडक्टर से अधिकारी, सामाजिक कार्यकर्ता व साहित्यकार बने तेजपाल सिंह ‘तेज’ की आत्मकथा
तेजपाल सिंह ‘तेज’ का डॉ. आंबेडकर की विचारधारा से प्रभावित होना किसी से छिपा नहीं है। वे उनके विचारों और उनसे जुड़ी संस्‍थाओं की...
राजेश कुमार का नाटक : कह रैदास खलास चमारा (पहला भाग)
प्रसंगवश यह जोड़ना मैं जरूरी समझता हूं कि रैदास साहेब ने अपनी वाणी में कहीं भी स्वयं को चर्मकार नहीं कहा है, और न...
डा. सी. बी. भारती की कविताओं का पुनर्पाठ (अंतिम भाग)
यदि आज नब्बे प्रतिशत दलित साहित्य आत्म-कथात्मक है, तो इसका कारण यही है कि स्वानुभूति उसकी आधारभूमि है। दलित लेखक साहित्य में भी अपने...