h n

बिहार मंत्रिमंडल : बदली जाति, बदला चरित्र

बिहार में यह पहली बार हुआ है कि पसमांदा समाज के दो लोगों को नई कैबिनेट में जगह दी गई है। यह महत्वपूर्ण इसलिए भी है कि इन्हें केवल मुसलमान नहीं माना गया, जैसा कि पूर्व में किया जाता था। बता रहे हैं वीरेंद्र यादव

गत 16 अगस्‍त, 2022 को नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में नवगठित महागठबंधन सरकार में नये मंत्रियों को शपथ दिलायी गयी। इसके सामाजिक स्‍वरूप को देखने से दो बातें स्‍पष्‍ट हो गयी हैं कि मंत्रियों के चयन में प्राथमिकता बदलने लगी है। इस नई सरकार में सवर्णों की संख्‍या घटी तो यादवों की संख्‍या बढ़ गयी। जदयू ने न अपने मंत्रियों की संख्‍या बढ़ाई है और न चेहरों को बदला है। उनके सभी मं‍त्री सरकार में यथावत बने रहे हैं। नये चेहरों की बात करें तो यह सिर्फ राजद और कांग्रेस कोटे के मंत्रियों को ही नया कहा जाएगा। राज्‍य सरकार में 19 नये मं‍त्री शामिल किये गये हैं। इनमें 17 राजद के और 2 कांग्रेस के हैं। जदयू के मुख्‍यमंत्री समेत 12, एक हिंदुस्तनी अवाम मोर्चा (हम) और एक निर्दलीय वापस सरकार में शामिल हैं।

पहले हम कांग्रेस की बात करते हैं। राज्‍य सरकार में कांग्रेस को दो मंत्रियों की हिस्‍सेदारी दी गयी है। इसमें एक चमार जाति के हैं मुरारी मोहन गौतम। दूसरे अफाक आमल अशराफ मुसलमान हैं। मतलब साफ है कि कांग्रेस भी अब राजद की राह चलेगी। सवर्णों से उसका मोहभंग हो गया है। उसने भी मान लिया है कि नये राजनीतिक ढांचे में सवर्णों की राजनीति नहीं की जा सकती है। इसलिए नयी सरकार में अपनी जातीय दिशा तय कर दी है। हालांकि मुरारी गौतम के चयन में लोकसभा की पूर्व अध्‍यक्ष और सासाराम की पूर्व सांसद मीरा कुमार की भूमिका महत्‍वपूर्ण रही है।

गत 16 अगस्त, 2022 को मंत्रिपरिषद की पहली बैठक के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व उनके सहयोगी

लेकिन राजद के मंत्रिमंडल के सामाजिक स्‍वरूप को देखकर स्‍पष्‍ट हो गया है कि राजद अपने आधार वोट को मजबूती से बांधे रखने को प्रतिबद्ध है। उसके 17 मंत्रियों में 7 यादव और 3 मुसलमान हैं। शेष बची 7 सीटों सभी जातियों की हिस्‍सेदारी तय हो गयी। इसमें 2 दलित (चमार एवं पासवान), एक राजपूत, एक भूमिहार, एक कुशवाहा, एक बनिया और एक नोनिया (अतिपिछड़ी जाति) को जगह दी गयी है।

इस बार राजद ने तीन मुसलमानों को सरकार में जगह दी है, जिनमें 2 पसमांदा मुसलमान हैं। मुजफ्फरपुर जिले के कांटी से निर्वाचित इसराइल मंसूरी धूनिया जाति के पहले विधायक हैं। उन्‍हें पहली बार मंत्री बनाया गया है। अररिया के जोकीहाट से दूसरी बार निर्वाचित शाहनवाज भी अतिपिछड़ा वर्ग में शामिल कुल्‍हैया जाति से आते हैं। पहली बार पसमांदा मुसलमानों को तरजीह दी गयी है। यह बिहार के बदलते सामाजिक और राजनीतिक समीकरण का असर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में पार्टी के हैदराबाद में आयोजित बैठक में कहा था कि पसमांदा मुसलमान भी सरकार की कल्‍याणकारी योजनाओं के लाभार्थी हैं। पार्टी को इन जातियों पर भी फोकस करना चाहिए और उन्‍हें पार्टी से जोड़ना चाहिए। राजद के पसमांदा के प्रति झुकाव का एक कारण यह भी हो सकता है।

सरकार में शामिल सभी दलों के मंत्रियों के वर्गीय और जातीय संख्‍या का विश्‍लेषण करें तो पता चलेगा कि मंत्रिमंडल में 9 सवर्णों को जगह मिली है। इसमें 6 हिंदू और 3 मुसलमान सवर्ण हैं। इसके अलावा 13 पिछड़ा, 6 अनुसूचित जाति और 5 अतिपिछड़ी जाति को मंत्रिमंडल में जगह दी गयी है। सरकार में मुख्‍यमंत्री समेत कुल 33 मंत्रियों को जगह दी गयी है।

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

वीरेंद्र यादव

फारवर्ड प्रेस, हिंदुस्‍तान, प्रभात खबर समेत कई दैनिक पत्रों में जिम्मेवार पदों पर काम कर चुके वरिष्ठ पत्रकार वीरेंद्र यादव इन दिनों अपना एक साप्ताहिक अखबार 'वीरेंद्र यादव न्यूज़' प्रकाशित करते हैं, जो पटना के राजनीतिक गलियारों में खासा चर्चित है

संबंधित आलेख

अंकिता हत्याकांड : उत्तराखंड में बढ़ता जनाक्रोश और जाति का सवाल
ऋषिकेश के जिस वनंतरा रिजार्ट में अंकिता की हत्या हुई, उसका मालिक भाजपा के ओबीसी प्रकोष्ठ का नेता रहा है और उसके बड़े बेटे...
महाकाल की शरण में जाने को विवश शिवराज
निश्चित तौर पर भाजपा यह चाहेगी कि वह ऐसे नेता के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरे जो उसकी जीत सुनिश्चित कर सके। प्रधानमंत्री...
आदिवासी दर्जा चाहते हैं झारखंड, बंगाल और उड़ीसा के कुर्मी
कुर्मी जाति के लोगों का यह आंदोलन गत 14 सितंबर, 2022 के बाद तेज हुआ। इस दिन केंद्रीय मंत्रिपरिषद ने हिमालच प्रदेश की हट्टी,...
ईडब्ल्यूएस आरक्षण : सुनवाई पूरी, दलित-बहुजन पक्षकारों के तर्क से संविधान पीठ दिखी सहमत, फैसला सुरक्षित
सुनवाई के अंतिम दिन डॉ. मोहन गोपाल ने रिज्वांडर पेश करते हुए कहा कि सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़ा वर्ग एक ऐसी श्रेणी...
पसमांदा अब राजनीतिक ब्रांड, संघ प्रमुख कर रहे राजनीति
“अहम बात यह है कि पसमांदा समाज किसी भी तरह की सांप्रदायिक राजनीति को या उसके विचार को नही मान सकता है। इसलिए ये...