h n

मध्य प्रदेश : आदिवासी युवक के ऊपर पेशाब करनेवाला देर रात हुआ गिरफ्तार, भाजपा विधायक पर सवाल

स्थानीय भाजपा विधायक केदारनाथ शुक्ला ने आरोपी प्रवेश शुक्ला के विधायक प्रतिनिधि अथवा भाजपा कार्यकर्ता होने से इंकार करते हुए कहा है कि विधानसभा क्षेत्र का स्थानीय वासी होने के चलते अन्य कई व्यक्तियों की ही तरह वे आरोपी को भी पहचानते भर हैं। मनीष भट्ट मनु की खबर

मध्य प्रदेश के सीधी जिले से सामने आए एक वीडियो ने मानवता शर्मसार कर दिया है। सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो में एक व्यक्ति हाथ में सिगरेट पकड़े हुए दूसरे व्यक्ति पर पेशाब कर रहा है। मानवता तो कलंकित करने वाले शख्स की पहचान प्रवेश शुक्ला के तौर पर हुई है। बताया जा रहा है कि सीधी जिले के कुबरी गांव का निवासी प्रवेश शुक्ला गुंडागर्दी में लिप्त रहने वाले व्यक्ति के साथ ही भाजपा के स्थानीय विधायक केदारनाथ शुक्ला का प्रतिनिधि भी है। उसे भारतीय जनता युवा मोर्चा का पदाधिकारी भी बताया जा रहा है। 

हालांकि, वीडियो सामने आने के बाद स्थानीय विधायक केदारनाथ शुक्ल इस बात से इंकार कर रहे हैं कि आरोपी उनका प्रतिनिधि रहा है। मगर, आरोपी के पिता रमाकांत शुक्ला ने एक अंग्रेजी पत्रिका से बातचीत के दौरान यह माना है कि उनका बेटा विधायक प्रतिनिधि है। वे इल्जाम लगाते हैं कि विधायक प्रतिनिधि होने के चलते ही प्रवेश शुक्ला के नाम पर विपक्ष अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रहा है।

वहीं स्थानीय विधायक केदारनाथ शुक्ला ने आरोपी प्रवेश शुक्ला के विधायक प्रतिनिधि अथवा भाजपा कार्यकर्ता होने से इंकार करते हुए कहा है कि विधानसभा क्षेत्र का स्थानीय वासी होने के चलते अन्य कई व्यक्तियों की ही तरह वे आरोपी को भी पहचानते भर हैं।

कल यानी 4 जुलाई, 2023 की शाम वायरल हुए वीडियो के बाद आरोपी को पुलिस ने देर रात हिरासत में ले लिया। आरोपी के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के साथ ही भारतीय दंड संहिता की धारा 294 (अश्लील हरकतें) और धारा 504 (शांति भंग करने के लिए जानबूझकर अपमान) के अलावा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया हैं। 

मध्य प्रदेश पुलिस ने आरोपी प्रवेश शुक्ला को ऐसे किया गिरफ्तार

इस मामले में पुलिस स्वयं कटघरे में दिख रही है। वजह यह कि जहां एक ओर पुलिस उससे पूछताछ करने की बात कह रही है, वहीं सोशल मीडिया पर तेजी से एक और वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें एक शपथ पत्र दिखाया जा रहा है, जिसके अनुसार पीड़ित आदिवासी युवक ने घटना के वीडियो को फर्जी करार दिया है। शपथ पत्र में उसके द्वारा कुबरी गांव के ही एक अन्य व्यक्ति आदर्श शुक्ला तथा उसके अन्य साथियों पर आरोप भी लगाए गए हैं।

पीड़ित की पहचान करौंदी गांव के दशमत रावत के रूप में की गई है। बताया जा रहा है कि उसने पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में उसके साथ ऐसी कोई घटना होने से इंकार किया है। पुलिस भी यह कह रही है कि सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे शपथ पत्र को अभी तक उसके संज्ञान में नहीं लाया गया है।

सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही तस्वीर, जिसमें भारतीय जनता युवा मोर्चा के कुचवाही मंडल जिला सीधी के पदाधिकारियों में आरोपी का नाम उपाध्यक्ष के रूप में लिखा गया है

बताते चलें कि आदर्श शुक्ला ही वह व्यक्ति है, जिसने पहला वीडियो – जिसमें प्रवेश शुक्ला द्वारा आदिवासी युवक के ऊपर पेशाब करता दिखाया जा रहा है – को पहले स्थानीय ग्रामीणों के साथ और बाद में 26 जून, 2023 को सोशल मीडिया पर शेयर किया था। उसके अनुसार, “मैंने प्रवेश शुक्ला की शर्मनाक हरकत का वीडियो इसलिए लोगों को दिखाया ताकि उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो सके। लेकिन जैसे ही वीडियो वायरल हुआ, शुक्ला फरार हो गया। इसके बाद 29 जून को उसके परिवार ने स्थानीय थाने में मेरे खिलाफ गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करा दी। इसके बाद से मुख्यमंत्री द्वारा निर्देश जारी किए जाने तक पुलिस मुझे लगातार परेशान करती रही। जबकि सच्चाई यह थी कि वीडियो जारी करने के बाद प्रवेश शुक्ला के परिवार वालों ने उसे भगा दिया था। गत 2 जुलाई को मैंने उसे फेसबुक पर ऑनलाइन देखा था, तब वह सतना में था। मेरे द्वारा तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दिए जाने के बाद भी पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही।”

इस शर्मनाक घटना को अपने मोबाइल में रिकॉर्ड करने वाले व्यक्ति, जो सुरक्षा कारणों से अपनी पहचान जारी नहीं करना चाहते, के मुताबिक घटना एक साल पहले की है, लेकिन यह वीडियो इसी साल 26 जून को पहली बार सामने आया। उसके अनुसार, “यह शर्मनाक घटना सीधी जिले के कुबरी पंचायत भवन के पास पीसीसी रोड पर देर शाम लगभग आठ बजे घटित हुई थी। आदिवासी युवक मोबाइल रिचार्ज करवाने गया था। वह मोबाइल दुकान की सीढ़ियों पर बैठा था। नशे की हालत में प्रवेश शुक्ला वहां आकर सीधे उसके ऊपर पेशाब करने लगा। पीड़ित ने उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं माना। इस दौरान मैंने भी कुछ सेकेंड तक घटना का वीडियो बनाने के बाद उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन उसने मेरी भी नहीं सुनी। इसके बाद वह पेशाब करके चला गया।” 

उक्त व्यक्ति ने बताया कि “शुक्ला एक दबंग है और विधायक का प्रतिनिधि भी है। वह गांव में अक्सर गुंडागर्दी करता है। उसके खिलाफ शिकायत करने की किसी में भी हिम्मत नहीं है। यहां तक कि पुलिस भी उसका ही साथ देती है।”

बहरहाल, सीधी जिले के पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। पुलिस द्वारा बताया जा रहा है कि वीडियो वायरल होने के बाद से ही एक जगह से दूसरी जगह भाग रहे प्रवेश शुक्ला को मंगलवार और बुधवार की दरम्यानी रात को दो बजे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके साथ ही उसकी पत्नी और परिवार वालों से पूछताछ की जा रही है।

(संपादन : नवल/अनिल)

लेखक के बारे में

मनीष भट्ट मनु

घुमक्कड़ पत्रकार के रूप में भोपाल निवासी मनीष भट्ट मनु हिंदी दैनिक ‘देशबंधु’ से लंबे समय तक संबद्ध रहे हैं। आदिवासी विषयों पर इनके आलेख व रपटें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होते रहे हैं।

संबंधित आलेख

गोरखपुर : दलित ने किया दलित का उत्पीड़न, छेड़खानी और मार-पीट से आहत किशोरी की मौत
यह मामला उत्तर प्रदेश पुलिस की असंवेदनशील कार्यशैली को उजागर करता है, क्योंकि छेड़खानी व मारपीट तथा मौत के बीच करीब एक महीने के...
फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (पहला भाग)
महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण आंदोलन राजनीतिक और सामाजिक प्रश्नों को जन्म दे रहा है। राजनीतिक स्तर पर अब इस आंदोलन के साथ दलित राजनेता...
ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड : बिहार की भूमिहार राजनीति में फिर नई हलचल
भोजपुर जिले में भूमिहारों की राजनीति अब पहले जैसी नहीं रही। एक समय सुनील पांडे और उसके भाई हुलास पांडे की इस पूरे इलाके...
लोकसभा चुनाव के बाद उपचुनावों में भी मिली एनडीए को हार
अयोध्या लोकसभा क्षेत्र में हार के सदमे से अभी भाजपा उबरी भी नहीं थी कि उपचुनाव में बद्रीनाथ विधानसभा सीट हारने के बाद सोशल...
बिहार : दलितों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एससी की सूची से तांती-तंतवा बाहर
सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि वर्तमान मामले में राज्य की कार्रवाई दुर्भावनापूर्ण और सांविधानिक प्रावधानों के विरुद्ध पायी...