h n

आंबेडकर के घर में विश्वकर्मा की पूजा के पीछे क्या है ब्राह्मणों की मंशा?

आंबेडकर विचार मंच के महासचिव आर.एल. केन ने संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखकर कार्रवाई करने की मांग की है। आर.एल. केन का आरोप है कि इन घटनाओं की सूचना दिए जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। बता रहे हैं तेजपाल सिंह ‘तेज’

गत 17 सितंबर, 2023 को डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय स्मारक, 26, अलीपुर रोड, दिल्ली में ब्राह्मणवादियों ने एक बार फिर डॉ. आंबेडकर को ब्राह्मणवाद में रंगने की कोशिश की। हुआ यह कि परिसर में विश्वकर्मा की पूजा की गई। वैसे यह पहली घटना नहीं है। इसके पहले 18 फरवरी, 2023 को शिवरात्रि के मौके पर हिंदू कट्टरपंथियों द्वारा डॉ. आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर, 15, जनपथ, नई दिल्ली के अंदर खुले हॉल में डॉ. आंबेडकर की मूर्ति के सामने शिवलिंग बनाकर पूजा अर्चना की गई थी। 

बताया जा रहा है कि ये दोनों कार्यक्रम आरएसएस और भाजपा सरकार की छत्रछाया में आयोजित की गई थीं। इस संबंध में आंबेडकर विचार मंच के महासचिव आर.एल. केन ने संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखकर कार्रवाई करने की मांग की है। आर.एल. केन का आरोप है कि इन घटनाओं की सूचना दिए जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। दोनों ही घटनाएं ही हिंदू कट्टरपंथियों द्वारा डॉ. आंबेडकर  के ब्राह्मणीकरण की साजिश है। 

कुछ वर्ष पूर्व की घटना है कि उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में ब्राह्मण चेतना मंच के कार्यक्रम में भाजपा के राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ल ने अपने संबोधन में कहा था– “बाबा साहेब आंबेडकर दलित नहीं थे, वे सनाढ्य ब्राह्मण थे। वे पंडित दीनदयाल उपाध्याय से प्रेरित थे, उन्होंने लोगों को उपर उठाने का काम किया, इसलिए उन्होंने संविधान लिखा। उनका नाम आंबेडकर नहीं था, उनका नाम था भीमराव, लेकिन अब उन्हें बाबा साहब आंबेडकर कहा जाता है।”

26, अलीपुर रोड, दिल्ली स्थित आंबेडकर स्मारक। पहले यहां डॉ. आंबेडकर का आवास था।

सांसद शिव प्रताप शुक्ल के इस बयान से यह भी स्पष्ट हो जाता है कि उन्हें डॉ. आंबेडकर के जीवन और कर्म के बारे में कोई जानकारी नहीं है। उनका यह बयान हवा में पत्थर उछालने जैसा ही है। बेसिर-पैर की बयानबाजी करना ही ब्राह्मणवादियों की सबसे बड़ी खूबी है, जिसकी जाल में अज्ञानी लोग आराम से फंस जाते हैं।

आरएसएस और अब उसके द्वारा पोषित भाजपा का यह कोई पहला प्रयास नहीं है। संघ परिवार पहले भी ऐसे कार्य कर चुका है। संघ के सुरुचि प्रकाशन, झंडेवालान द्वारा प्रकाशित डॉ. कृष्ण गोपाल और श्रीप्रकाश द्वारा संपादित पुस्तक ‘राष्ट्र पुरूष : बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर’ में अनेक ऐसे झूठे प्रसंग हैं। इन प्रसंगों के जरिए बाबा साहब को सनातनी नेता, गीता का संरक्षक, यज्ञोपवित कर्त्ता, महारों को जनेऊ धारण कराने वाले के रूप में प्रस्तुत किया गया है। संदर्भित पुस्तक के रचियता ने 1929 और 1949 के बीच के वर्षों पर कोई चर्चा नहीं की है, जबकि बाबा साहब के संघर्ष का सबसे अहम दौर वही था।

इतना ही नहीं, डॉ. कृष्ण गोपाल के मन का मैल किताब के पांचवें पन्ने पर उल्लिखित इन शब्दों में स्पष्ट झलकता है– “एक अस्पृश्य परिवार में जन्मा बालक संपूर्ण भारतीय समाज का विधि-विधाता बन गया। धरती की धूल उड़कर आकाश और मस्तक तक जा पहुंची”। इस पंक्ति का लिखना-भर ही सीधे-सीधे बाबा साहेब का अपमान करना है, और कुछ नहीं। 

निस्संदेह डॉ. आंबेडकर स्मारक परिसर में विश्वकर्मा की पूजा के जरिए आज भी ब्राह्मण यही कर रहे हैं।

(संपादन : राजन/नवल/अनिल)

लेखक के बारे में

तेजपाल सिंह तेज

लेखक तेजपाल सिंह तेज (जन्म 1949) की गजल, कविता, और विचार की कई किताबें प्रकाशित हैं- दृष्टिकोण, ट्रैफिक जाम है आदि ( गजल संग्रह), बेताल दृष्टि, पुश्तैनी पीड़ा आदि ( कविता संग्रह), रुन-झुन, चल मेरे घोड़े आदि ( बालगीत), कहाँ गई वो दिल्ली वाली ( शब्द चित्र) और अन्य। तेजपाल सिंह साप्ताहिक पत्र ग्रीन सत्ता के साहित्य संपादक और चर्चित पत्रिका अपेक्षा के उपसंपादक रहे हैं। स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त होकर इन दिनों अधिकार दर्पण नामक त्रैमासिक का संपादन कर रहे हैं। हिन्दी अकादमी (दिल्ली) द्वारा बाल साहित्य पुरस्कार ( 1995-96) तथा साहित्यकार सम्मान (2006-2007) से सम्मानित।

संबंधित आलेख

लोकसभा चुनाव : आरएसएस की संविधान बदलने की नीयत के कारण बदल रहा नॅरेटिव
क्या यह चेतना अचानक दलित-बहुजनों के मन में घर कर गई? ऐसा कतई नहीं है। पिछले 5 साल से लगातार सामाजिक जागरूकता कार्यक्रमों और...
जातिगत जनगणना का विरोध एक ओबीसी प्रधानमंत्री कैसे कर सकता है?
पिछले दस वर्षों में ओबीसी प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने ओबीसी वर्ग के आमजनों के लिए कुछ नहीं किया। जबकि ओबीसी वर्ग...
मोदी फिर अलापने लगे मुस्लिम विरोधी राग
नरेंद्र मोदी की हताशा का आलम यह है कि वे अब पाकिस्तान का नाम भी अपने भाषणों में लेने लगे हैं। गत 3 मई...
‘इंडिया’ गठबंधन को अब खुद भाजपाई मान रहे गंभीर चुनौती
दक्षिण भारत में तो फिर भी लोगों को यक़ीन था कि विपक्षी दल, ख़ासकर कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करेगी। लेकिन उत्तर, पूर्व, मध्य और पश्चिम...
परिणाम बदल सकता है गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में पिछड़ा बनाम अगड़ा का नॅरेटिव
गोरखपुर में पिछड़े और दलित मतदाताओं की संख्या सबसे ज़्यादा है। एक अनुमान के मुताबिक़ यहां पर क़रीब 4 लाख निषाद जाति के मतदाता...