h n

राजस्थान : दलित अत्याचार के आरोपी विधायक को भाजपा ने बनाया उम्मीदवार

धौलपुर जिले के बाड़ी विद्युत निगम के कार्यालय में कार्यरत इंजीनियर हर्षाधिपति वाल्मीकि पर बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा और उनके साथ आये लोगों ने हमला करके 22 जगहों से उनकी हड्डियां तोड़ने का आरोप लंबित है। कांग्रेस से बेटिकट किए जाने के बाद भाजपा ने उन्हें शरण दी है

एक दलित इंजीनियर हर्षाधिपति वाल्मीकि पर प्राणघातक हमला करने वाले विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा को भाजपा ने अपना उम्मीदवार बनाया है। इस संबंध में राजस्थान के दलितों ने अपनी आपत्ति दर्ज कराया है। 

गौरतलब है कि बाड़ी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के विधायक रहे गिर्राज सिंह मलिंगा को कांग्रेस से टिकट नहीं देने और किसी भी पार्टी में उसे शामिल नहीं करने की मांग राजस्थान के संयुक्त दलित संगठनों की ओर से की जा रही थी। इन संगठनों की मांग को मानते हुए कांग्रेस ने टिकट नहीं देकर यह मजबूत संदेश दिया है कि दलितों पर अत्याचार करने वालों के साथ कांग्रेस सख्त रुख अपनाएगी और उनके लिए पार्टी कोई सहानुभूति नहीं दिखाएगी, जबकि भाजपा ने उसे पार्टी में शामिल करके दलित समुदाय को स्पष्ट कर दिया है कि उनकी पार्टी में दलित अत्याचार करने वालों के लिए स्थान अभी भी सुरक्षित है। 

अनुसूचित जाति अधिकार अभियान, राजस्थान के सह संयोजक दलित चिंतक भंवर मेघवंशी ने कांग्रेस पार्टी के मलिंगा को टिकट न देने को मजबूत निर्णय बताते हुए स्वागत किया है और इसे महत्वपूर्ण फैसला बताया है। उन्होंने कहा कि इससे यह मजबूत मैसेज गया है कि कांग्रेस में दलित वर्ग के साथ अन्याय अत्याचार करने वालों के लिए कोई जगह नहीं है। वहीं भाजपा की इस बात के लिए कड़ी आलोचना की है, जिसने समाज के सबसे वंचित, उत्पीड़ित और भेदभाव सहने वाले वाल्मीकि समाज से आने वाले पीड़ित अभियंता हर्षाधिपति वाल्मीकि के ज़ख्मों पर नमक छिड़कने में कोई परहेज़ नहीं करके यह स्थापित कर दिया है कि वह दलित अत्याचारियों की पक्षधर है। 

कांग्रेस से बेटिकट किए जाने के बाद भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते गिर्राज सिंह मलिंगा (बाएं)

उल्लेखनीय है कि धौलपुर जिले के बाड़ी विद्युत निगम के कार्यालय में कार्यरत इंजीनियर हर्षाधिपति वाल्मीकि पर बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा और उनके साथ आये लोगों ने हमला करके 22 जगहों से उनकी हड्डियां तोड़ने का आरोप लंबित है। घायल दलित इंजीनियर हर्षाधिपति वाल्मीकि का विगत 580 दिनों से हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। अब भी वे बिस्तर पर हैं और खड़े नहीं हो सकते हैं। ऐसे जघन्य दलित अत्याचार के आरोपी विधायक का टिकट काटने तथा किसी भी पार्टी में नहीं लेने की पुरज़ोर मांग पूरे राज्य से मांग उठ रही थी।

गौरतलब है कि अनुसूचित जाति अधिकार अभियान राजस्थान की ओर से 30 दिनों तक संपूर्ण राजस्थान में निकाली गई सामाजिक न्याय यात्रा की भी प्रमुख मांग रही कि दलितों पर अत्याचार करने वाले उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिया जाए। यह मांग जयपुर में आयोजित जनमंच के दौरान भी उठी तथा विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में जारी हुए दलित घोषणा पत्र में भी यह मांग किया गया कि दलित अत्याचार के आरोपी विधायकों व उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिए जाएं, यह मांग राजनीतिक दलों से की गई।

दलित संगठनों ने कहा है कि दलित अत्याचार के आरोपी बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा को भाजपा में शामिल करके यह साबित कर दिया गया है कि भाजपा का राजस्थान में दलित अत्याचार का राग सिर्फ चुनावी ढकोसला था, वह सिर्फ राजनीतिक लाभ लेने के लिए प्रदेश में दलित अत्याचारों का हल्ला मचा रही है, जबकि अत्याचार करने वाले आरोपियों की भाजपा शरणगाह बन रही है। संगठनों ने अपने साझे बयान में यह भी कहा है कि प्रदेश में दलित अत्याचारों का अध्ययन किया जाय तो पता चलेगा कि आरोपियों में भाजपा संघ की विचारधारा के समर्थक व शुभचिंतक लोग दलित अत्याचार में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। ऐसे में भाजपा को कोई नैतिक अधिकार नहीं रह जाता है कि वह दलित हितैषी होने का ढोंग करे।

(संपादन : राजन/नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

चरण-दर-चरण मद्धिम हो रही ‘मोदी ब्रांड’ की चमक
भारतीय समाज और राजनीति के गंभीर अध्येताओं ने अब यह कयास लगाना आरंभ कर दिया है कि भाजपा 2019 के अपने प्रदर्शन को फिर...
लोकसभा चुनाव : आरएसएस की संविधान बदलने की नीयत के कारण बदल रहा नॅरेटिव
क्या यह चेतना अचानक दलित-बहुजनों के मन में घर कर गई? ऐसा कतई नहीं है। पिछले 5 साल से लगातार सामाजिक जागरूकता कार्यक्रमों और...
जातिगत जनगणना का विरोध एक ओबीसी प्रधानमंत्री कैसे कर सकता है?
पिछले दस वर्षों में ओबीसी प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने ओबीसी वर्ग के आमजनों के लिए कुछ नहीं किया। जबकि ओबीसी वर्ग...
मोदी फिर अलापने लगे मुस्लिम विरोधी राग
नरेंद्र मोदी की हताशा का आलम यह है कि वे अब पाकिस्तान का नाम भी अपने भाषणों में लेने लगे हैं। गत 3 मई...
‘इंडिया’ गठबंधन को अब खुद भाजपाई मान रहे गंभीर चुनौती
दक्षिण भारत में तो फिर भी लोगों को यक़ीन था कि विपक्षी दल, ख़ासकर कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करेगी। लेकिन उत्तर, पूर्व, मध्य और पश्चिम...