author

Sanjeev Khudshah

कड़वा सच : ब्राह्मण वर्ग की सांस्कृतिक गुलामी में डूबता जा रहा बहुजन समाज
सरल शब्दों में कहें तो सत्ताधारी ब्राह्मण वर्ग कहता है कि हमें कोट-पैंट छोड़कर धोती-कुर्ता पहनना चाहिए। वह...
पेरियार : काशी में अपमान से तमिलनाडु में आत्मसम्मान आंदोलन तक
पेरियार कहते थे कि वंचितों को ठगने का काम मत करो, क्योंकि जो वैज्ञानिक विचारधारा है, जो विज्ञान...
समान नागरिक संहिता : दलित-बहुजनों से जुड़ी आशंकाएं
अंदेशा यह भी लगाया जा रहा है कि इससे भारत की विविधतापूर्ण संस्कृति समाप्त हो जाएगी। इसका एक...
छत्तीसगढ़ : आदिवासी बच्चियों के साथ क्रूरता क्यों?
अक्सर यह देखा जाता है कि आदिवासी और दलित बच्चों की सुविधा हेतु सरकार का प्रयास अक्सर जातिवादियों...
सम्मानित किये गये छत्तीसगढ़ी सिनेमा के जनक मनु नायक
मनु नायक ने 1965 में छत्तीसगढ़ी में पहली फिल्म ‘कही देबे संदेश’ का निर्माण और निर्देशन किया था।...
संघ की मंशा को समझें दलित-बहुजन
आरएसएस से जुड़े लाग गाहे-बेगाहे कहते रहते हैं कि उन्होंने ही कांग्रेस को ‘राम वन गमन पथ’ जैसी...
तमिलनाडु में धर्मनिरपेक्षता का सुखद मंजर
तमिलनाडु के डीएमके पार्टी के सांसद एस. सेंथिल कुमार के वीडियो वायरल हो जाने के बाद, यह बात...
और आलेख