h n

दलित-बहुजन पेज 3, जून 2014

झारखंड के चर्चित मानवाधिकार कार्यकर्ता व लेखक ग्लैडसन डुंगडुंग को महाराष्ट्र के यवतमाल के समतापर्व प्रतिष्ठान द्वारा 11 मई को 'क्रांतिज्योति सवित्रीबाई फुले पुरस्कार 2014' से सम्मानित किया गया है

आदिवासी बुद्धिजीवि सम्मानित

 

डॉ. सुनील कुमार ‘सुमन’ को ‘शिक्षण मैत्री सम्मान’

वर्धा : चर्चित युवा आदिवासी लेखक-चिंतक और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. सुनील कुमार ‘सुमन’ को ‘लॉर्ड बुद्धा मैत्री संघ’ (लॉर्ड बुद्धा टीवी
चैनल), महाराष्ट्र की तरफ से ‘शिक्षण मैत्री सम्मान’ से पिछले 27 अप्रैल को सम्मानित किया गया। डॉ. सुनील को यह सम्मान शिक्षा के क्षेत्र में बाबासाहेब आंबेडकर की वैचारिकी का अलख जगाने के लिए प्रदान किया गया है। डॉ. सुनील मूलत : चंपारण (बिहार) जिले के गोंड आदिवासी हैं और इन्होंने देश के प्रतिष्ठित जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से शिक्षा प्राप्त की है। फिलहाल डॉ. सुनील
महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा में सहायक प्राध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। -रजनीश कुमार आंबेडकर

 

ग्लैडसन को क्रांतिज्योति सवित्रीबाई फुले पुरस्कार

यवतमाल : झारखंड के चर्चित मानवाधिकार कार्यकर्ता व लेखक ग्लैडसन डुंगडुंग को महाराष्ट्र के यवतमाल के समतापर्व प्रतिष्ठान द्वारा 11 मई को ‘क्रांतिज्योति सवित्रीबाई फुले पुरस्कार 2014’ से सम्मानित किया गया है। उन्हें यह पुरस्कार आदिवासी मुद्दों को अपने संघर्ष और लेखन द्वारा देशविदेश में दृढ़ता से उठाने के लिए दिया गया है। ग्लैडसन डुंगडुंग की पुस्तकें ‘हूज कंट्री इज इट एनीवे’, ‘क्रॉसफायर’, ‘विकास के कब्रगाह’, ‘झारखंड में अस्मिता संघर्ष’, ‘नगड़ी का नगाड़ा’ व ‘उलगुलान का सौदा’ काफी चर्चित रही हैं। -राजन कुमार

 

 

फारवर्ड प्रेस के जून, 2014 अंक में प्रकाशित


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति  व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। द मार्जिनालाज्ड प्रकाशन, इग्नू रोड, दिल्ली से संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

इतिहास पर आदिवासियों का दावा करतीं उषाकिरण आत्राम की कविताएं
उषाकिरण आत्राम इतिहास में दफन सच्चाइयों को न सिर्फ उजागर करती हैं, बल्कि उनके पुनर्पाठ के लिए जमीन भी तैयार करती हैं। इतिहास बोध...
हिंदी दलित कथा-साहित्य के तीन दशक : एक पक्ष यह भी
वर्तमान दलित कहानी का एक अश्वेत पक्ष भी है और वह यह कि उसमें राजनीतिक लेखन नहीं हो रहा है। राष्ट्रवाद की राजनीति ने...
‘साझे का संसार’ : बहुजन समझ का संसार
ईश्वर से प्रश्न करना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कबीर के ईश्वर पर सवाल खड़ा करना, बुद्ध से उनके संघ-संबंधी प्रश्न पूछना और...
दलित स्त्री विमर्श पर दस्तक देती प्रियंका सोनकर की किताब 
विमर्श और संघर्ष दो अलग-अलग चीजें हैं। पहले कौन, विमर्श या संघर्ष? यह पहले अंडा या मुर्गी वाला जटिल प्रश्न नहीं है। किसी भी...
व्याख्यान  : समतावाद है दलित साहित्य का सामाजिक-सांस्कृतिक आधार 
जो भी दलित साहित्य का विद्यार्थी या अध्येता है, वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे बगैर नहीं रहेगा कि ये तीनों चीजें श्रम, स्वप्न और...