दादरा नगर हवेली में महिषासुर आंदोलन का आगाज, दुर्गा के अपमान को लेकर मुकदमा दर्ज

पूरे देश में मनुवादियेां के खिलाफ सांस्कृतिक संघर्ष शुरू हो गया है। एक तरफ मनुवादियों द्वारा सांस्कृतिक वर्चस्व को बनाये रखने को लेकर मुकदमे किये जा रहे हैं तो दूसरी छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले मेंदुर्गा के उपासकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाकर आदिवासियों ने मामले का रूख ही बदल दिया है। अब सांस्कृतिक आंदोलन की यह आग केंद्र शासित प्रदेश दादरा नगर हवेली में लग चुकी है

देश में महिषासुर आंदोलन जोर पकड़ चुका है। भाजपा शासित गुजरात से सटे केंद्र शासित प्रदेश दादरा नगर हवेली में भी अब महिषासुर आंदोलन का आगाज हो चुका है। हालांकि इस क्रम में बजरंग दल के एक नेता ने राष्ट्रीय मूल निवासी संघ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य धीरूभाई छोटूभाई पटेल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

राष्ट्रीय मूलनिवासी संघ के एक बैठक को संबोधित करते धीरूभाई छोटूभाई पटेल

गौरतलब है कि इस वर्ष भी देश के कई हिस्सों में दुर्गा के खिलाफ एक विशेष शब्द के इस्तेमाल को लेकर कई मामले दर्ज किये गये हैं। इनमें दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर केदार मंडल, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र) में शोधार्थी रजनीश कुमार आंबेडकर भी शामिल हैं।

धीरूभाई छोटूभाई पटेल के खिालफ दर्ज कराया गया मुकदमा

दादरा नगर हवेली के निवासी श्री पटेल पर मुकदमा दर्ज कराने वाले सुरेश भाई रमेश भाई पुरोहित मूल रूप से राजस्थान के पाली जिले के निवासी हैं और दादरा नगर हवेली में अपना व्यवसाय करते हैं और दादरा नगर हवेली में बजरंग दल के प्रमुख  हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि धीरूभाई छोटूभाई पटेल के फेसबुक पर देवी दुर्गा और भगवान शंकर के संबंध में आपत्तिजनक टिप्पणी पोस्ट की गयी है, इस आशय की सूचना उन्हें व्हाट्स अप के जरिए मिली। उन्होंने कहा कि इस संदेश से उनकी धार्मिक भावनायें आहत हुई हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाय। मिली जानकारी के अनुसार इस मामले में मुख्य आरोपी धीरूभाई छोटूभाई पटेल राजनीतिक सामाजिक कार्यकर्ता हैं। वर्तमान में वे राष्ट्रीय मूलनिवासी संघ के केंद्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैँ और साथ ही राष्ट्रीय मजदूर संघ से संबद्ध हैं। अपने सार्वजनिक जीवन में श्री पटेल दलित बहुजन चेतना के प्रसार के लिए सतत संघर्ष करते रहे हैं।

सोशल मीडिया में लोकप्रिय हो रहे महिषासुर शहादत दिवस के पोस्टर

श्री पटेल के खिालाफ दर्ज किये गये मुकदमे की पुष्टि करते हुए सिलवासा थाना के प्रभारी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है और पुलिस सभी तथ्यों पर मनन करने के बाद कार्रवाई करेगी। ध्यातव्य है कि गुजरात के कई हिस्सों में में रहने वाले आदिवासी समुदाय के लोग महिषासुर को अपना आराध्य मानते रहे हैं। वहीं दादरा नगर हवेली में भी अब यह आंदोलन फैल रहा है। स्थानीय लोगों से मिली सूचना के अनुसार सिलवासा में बड़ी संख्या में गोंड आदिवासी समुदाय के लोग रहते हैं। वे स्वयं को महिषासुर का वंशज और रावण को अपना पुरखा मानते हैं। उनके मुताबिक दुर्गा पूजा के नाम पर मनुवादी ताकतें उनके इतिहास और परंपराओं दोनों को अपने कब्जे में लेकर आदिवासियों की मूल परंपरा खत्म करना चाहते हैं।

बहरहाल श्री पटेल के खिलाफ मुबदमा दर्ज किये जाने को लेकर दादरा नगर हवेली के दलितों-पिछड़ों आदिवासियों में आक्रोश का माहौल है।


महिषासुर से संबंधित विस्तृत जानकारी के लिए  ‘महिषासुर: एक जननायक’ शीर्षक किताब देखें। ‘द मार्जिनलाइज्ड प्रकाशनवर्धा/दिल्‍ली। मोबाइल  : 9968527911. ऑनलाइन आर्डर करने के लिए यहाँ जाएँ: अमेजनऔर फ्लिपकार्ट इस किताब के अंग्रेजी संस्करण भी  Amazon,और  Flipkart पर उपलब्ध हैं

About The Author

Reply