यात्रा वृतांत : महोबा में महिषासुर

महिषासुर से संबंधित परंपराओं का दायरा बहुत विशाल है। बुंदेलखंड में उनका पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित स्मारक है। खजुराहो के विश्वप्रसिद्ध मंदिरों में भी उनकी मूर्तियां हैं। पढिए, प्रमोद रंजन का यात्रा-संस्मरण :

जिस समय हमारी ट्रेन महोबा स्टेशन पर लगी, उस समय तक रात गहरी हो चुकी थी। दिल्ली तो आठों प्रहर जागती रहती है। हम दिल्ली से 600 किलोमीटर दूर थे। सांस्कृतिक इतिहास के समृद्धतम शिखर पर बैठे उस बुंदेलखंड में, जो आज भूख और प्यास से तड़पते क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। इस ओर का रूख हमारी पत्रकार बिरादरी तभी करती है, जब अकाल गहरा हो जाता है और लोगों के मरने की सूचनाएं आने लगती हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : यात्रा वृतांत : महोबा में महिषासुर

 

About The Author

Reply