h n

कबीर और रैदास की परंपरा के विचारक गुरू घासी दास

जैसे कबीर और रैदास साहेब को ब्राह्मण साबित करने के लिए कहानियां गढ़ी गईं, उसी प्रकार एक मिथ्या कहानी को आधार बनाकर डा. हीरालाल ने गुरु घासी दास को ब्राह्मण वंशज बनाया है

गुरू घासी दास (18 दिसम्बर 1756 – 1836 [1]) पर विशेष

गुरु घासी दास की वैचारिक परम्परा सतनामी पंथ से आती है, और सतनामी पंथ का उद्गम स्रोत सद्गुरु रैदास साहेब की ‘बेगमपुर’ विचारधारा है, जिसमें उन्होंने एक वर्गविहीन और जातिविहीन समतामूलक समाज की परिकल्पना का निर्माण किया था। यथा—

अब हम खूब वतन घर पाया। ऊँचा खेर सदा मन भाया।

बेगमपूर सहर का नांव, दुःख-अंदोह नहीं तेहि ठांव।

ना तसवीस खिराज न माल, खौफ न कहता न तरस जुबाल।

आवादान रहम औजूद, जहाँ गनी आप बसै माबूद।

काइम-काइम सदा पातिसाही, दोम न सोम एक सा आही।

जोई सैल करै सोई भावै, हरम महल ताको अटकावै।

कह रैदास खलास चमारा, जो हम सहरी सो मीत हमारा.[1]

पूरा आर्टिकल यहां पढें : कबीर और रैदास की परंपरा के विचारक गुरू घासी दास

 

 

 

 

 

लेखक के बारे में

कंवल भारती

कंवल भारती (जन्म: फरवरी, 1953) प्रगतिशील आम्बेडकरवादी चिंतक आज के सर्वाधिक चर्चित व सक्रिय लेखकों में से एक हैं। ‘दलित साहित्य की अवधारणा’ ‘स्वामी अछूतानंद हरिहर संचयिता’ आदि उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उन्हें 1996 में डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 2001 में भीमरत्न पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

संबंधित आलेख

पहुंची वहीं पे ख़ाक जहां का खमीर था
शरद यादव ने जबलपुर विश्वविद्यालय से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी और धीरे-धीरे देश की राजनीति के केंद्र में आ गए। पिता ने...
मंडल आयोग की सिफारिशें लागू करवाने में शरद यादव की भूमिका भुलाई नहीं जा सकती
“इस स्थिति का लाभ उठाते हुए मैंने वी. पी. सिंह से कहा कि वे मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा तुरंत...
शरद यादव : रहे अपनों की राजनीति के शिकार
शरद यादव उत्तर प्रदेश और बिहार की यादव राजनीति में अपनी पकड़ नहीं बना पाए और इसका कारण थे लालू यादव और मुलायम सिंह...
सावित्रीबाई फुले : पहली मुकम्मिल भारतीय स्त्री विमर्शकार
स्त्रियों के लिए भारतीय समाज हमेशा सख्त रहा है। इसके जातिगत ताने-बाने ने स्त्रियों को दोहरे बंदिशों मे जकड़ रखा था। उन्हें मानवीय अधिकारों...
आधुनिक भारत के पुरोधा डॉ. मुख्तार अहमद अंसारी
अपनी खिदमात के जरिए डॉ. अंसारी लगातार समाज को जोड़ते रहे। थोड़े ही दिनो में उनकी बातों को पूरे देश में सम्मानपूर्वक सुना जाने...