h n

जाति ने छुड़ाया खेल तो बहुजन नौजवान संजीत बर्मन ने बना ली अलग राह

करीब 34 साल के संजीत बर्मन ताइक्वांडो के खिलाड़ी थे। जूनियर वर्ग में उन्होंने राष्ट्रीय प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व किया। लेकिन ऊंची जाति के एक कोच ने उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर खेलने ही नहीं दिया। परंतु संजीत ने हार नहीं मानी। उन्होंने जाति के विनाश का संकल्प लिया। पढ़ें, उनका यह खास साक्षात्कार

[कभी खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले संजीत बर्मन, छत्तीसगढ़  के बिलासपुर में दलित-बहुजनों से संबंधित  आयोजनों के केंद्र में रहते हैं। वे आयोजन स्थलों पर दलित-बहुजनों से जुड़ी किताबें भी बेचते हैं। लेकिन इसके पहले उन्होंने शिक्षक की सरकारी नौकरी  से त्यागपत्र दे दिया। संजीत बर्मन से नवल किशोर कुमार की खास बातचीत  के संपादित अंश]

पूरा आर्टिकल यहां पढें : जाति ने छुड़ाया खेल तो बहुजन नौजवान संजीत बर्मन ने बना ली अलग राह

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

चुनाव के तुरंत बाद अरूंधति रॉय पर शिकंजा कसने की कवायद का मतलब 
आज़ादी के आंदोलन के दौर में भी और आजाद भारत में भी धर्मनिरपेक्षता और वास्तविक लोकतंत्र व सामाजिक न्याय के सवाल को ज्यादातर निर्णायक...
अब संसद मार्ग से संसद परिसर में नज़र नहीं आएंगे डॉ. आंबेडकर
लोगों की आंखों में बाबा साहेब को श्रद्धांजलि देने की अधीरता साफ दिख रही थी। मैंने भारत में किसी राजनीतिक जीवित या मृत व्यक्ति...
एनईईटी : केवल उच्च वर्ग, उच्च जातियों और शहरी छात्रों को डाक्टर बनाने की योजना
भारत में गरीब और निम्न मध्यवर्ग के दायरे में आने वाली बहुलांश आबादी आदिवासियों, दलितों और पिछड़ों की है। एनईईटी की संरचना ने मेडिकल...
बिहार : 65 प्रतिशत आरक्षण पर हाई कोर्ट की रोक, विपक्षी दलों की सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की मांग
राजद के राज्यसभा सदस्य प्रो. मनोज झा और भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में...
किसानों की नायिका बनाम आरएसएस की नायिका
आरएसएस व भाजपा नेतृत्व की मानसिकता, जिसमें विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को खालिस्तानी बताना शामिल है, के चलते ही कंगना रनौत की इतनी...