h n

बिहार के बड़े किसान सामंत, खेती को मानते हैं नीच कर्म : एन. के. नंदा

जाट और सिक्ख समुदाय के लोगों का चरित्र अलग है और बिहार के किसानों का चरित्र अलग है। बिहार के बड़े किसान सामंत हैं और खेती को नीच कर्म मानते हैं। जबकि पंजाब में बड़े किसान स्वयं भी खेतों में काम करते हैं। बिहार विधानसभा के पूर्व सदस्य एन. के. नंदा से नवल किशोर कुमार की खास बातचीत

साक्षात्कार

दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन के नब्बे दिन पूरे होने को हैं। एक तरफ यह आंदोलन अब उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान आदि राज्यों में किसान महापंचायतों के माध्यम से विस्तृत होता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर बिहार में इस आंदोलन को लेकर कोई सुगबुगाहट नहीं है। इसके पीछे कारण क्या हैं। इन्हीं सवालों को लेकर फारवर्ड प्रेस के हिंदी संपादक नवल किशोर कुमार ने भाकपा माले के पूर्व विधायक एन. के. नंदा से दूरभाष पर खास बातचीत की। प्रस्तुत है इस बातचीत का संपादित अंश :

पूरा आर्टिकल यहां पढें : बिहार के बड़े किसान सामंत, खेती को मानते हैं नीच कर्म : एन. के. नंदा

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
यूपी : दलित जैसे नहीं हैं अति पिछड़े, श्रेणी में शामिल करना न्यायसंगत नहीं
सामाजिक न्याय की दृष्टि से देखा जाय तो भी इन 17 जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने से दलितों के साथ अन्याय होगा।...
विज्ञान की किताब बांचने और वैज्ञानिक चेतना में फर्क
समाज का बड़ा हिस्सा विज्ञान का इस्तेमाल कर सुविधाएं महसूस करता है, लेकिन वह वैज्ञानिक चेतना से मुक्त रहना चाहता है। वैज्ञानिक चेतना का...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (अंतिम कड़ी)
आधुनिक हिंदी कविता के पहले चरण के सभी कवि ऐसे ही स्वतंत्र-संपन्न समाज के लोग थे, जिन्हें दलितों, औरतों और शोषितों के दुख-दर्द से...
बहस-तलब : आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के पूर्वार्द्ध में
मूल बात यह है कि यदि आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाता है तो ईमानदारी से इस संबंध में भी दलित, आदिवासी और पिछड़ो...