बिहार के बड़े किसान सामंत, खेती को मानते हैं नीच कर्म : एन. के. नंदा

जाट और सिक्ख समुदाय के लोगों का चरित्र अलग है और बिहार के किसानों का चरित्र अलग है। बिहार के बड़े किसान सामंत हैं और खेती को नीच कर्म मानते हैं। जबकि पंजाब में बड़े किसान स्वयं भी खेतों में काम करते हैं। बिहार विधानसभा के पूर्व सदस्य एन. के. नंदा से नवल किशोर कुमार की खास बातचीत

साक्षात्कार

दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन के नब्बे दिन पूरे होने को हैं। एक तरफ यह आंदोलन अब उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान आदि राज्यों में किसान महापंचायतों के माध्यम से विस्तृत होता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर बिहार में इस आंदोलन को लेकर कोई सुगबुगाहट नहीं है। इसके पीछे कारण क्या हैं। इन्हीं सवालों को लेकर फारवर्ड प्रेस के हिंदी संपादक नवल किशोर कुमार ने भाकपा माले के पूर्व विधायक एन. के. नंदा से दूरभाष पर खास बातचीत की। प्रस्तुत है इस बातचीत का संपादित अंश :

पूरा आर्टिकल यहां पढें : बिहार के बड़े किसान सामंत, खेती को मानते हैं नीच कर्म : एन. के. नंदा

About The Author

Reply